scorecardresearch
 

सुकेश से करोड़ों का नजराना लेने वाले जेल अफसरों पर लटकी गिरफ्तारी की तलवार.. DCP की चिट्ठी में बड़े खुलासे

सभी जेलकर्मियों पर इल्ज़ाम है कि उन्होंने सिक्कों की खनक के सामने अपना ईमान गिरवी रख दिया और रोहिणी जेल में बंद जालसाज़ सुकेश चंद्रशेखर को जेल में हर वो सुविधा मुहैया करवाई, जो आज़ाद ज़िंदगी में किसी आम आदमी को नहीं बल्कि रईसों को नसीब होती है.

X
सुकेश गिरफ्तारी के बाद से ही जेल के अफसरों और कर्मचारियों पर करोड़ों रुपये लुटाता था सुकेश गिरफ्तारी के बाद से ही जेल के अफसरों और कर्मचारियों पर करोड़ों रुपये लुटाता था
स्टोरी हाइलाइट्स
  • रोहिणी जेल के 82 अफसर EOW के रडार पर
  • तिहाड़ जेल के DG पर भी लगाए गए गंभीर आरोप
  • पूरे मामले की CBI जांच कराना चाहता है सुकेश

आपने वो कहावत तो सुनी ही होगी कि हम तो डूबेंगे सनम तुमको भी ले डूबेंगे. दो सौ करोड़ी महाठग सुकेश चंद्रशेखर के मामले में अब रोहिणी जेल के कर्मचारियों की हालत कुछ ऐसी ही हो गई है. सुकेश खुद तो डूब ही चुका है, रोहिणी जेल के आधे से ज़्यादा मुलाज़िमों को भी डूबो रहा है. जेल के सात मुलाज़िम और अफ़सर तो पहले ही सुकेश की मदद कर भ्रष्टाचार फैलाने के इल्ज़ाम में सलाखों के पीछे जा चुके हैं, नई ख़बर ये है कि जेल के 82 और मुलाज़िम अब दिल्ली पुलिस की रडार पर हैं. 

जेल में हर माह लुटाता था करोड़ों रुपये
जेल के उन सभी कर्मचारियों पर इल्ज़ाम है कि उन्होंने सिक्कों की खनक के सामने अपना ईमान गिरवी रख दिया और रोहिणी जेल में बंद जालसाज़ सुकेश चंद्रशेखर को जेल में हर वो सुविधा मुहैया करवाई, जो आज़ादी की ज़िंदगी में किसी आम आदमी को नहीं बल्कि रईसों को नसीब होती है. ऊपर से तुर्रा ये रहा कि जेल में मिली इन्हीं सुविधाओं की बदौलत वो ना सिर्फ़ अंदर ऐशो-आराम की ज़िंदगी जीता रहा, बल्कि अंदर से ही बैठे-बैठे फ़ोन पर लोगों को ठगता और लूटता रहा. एक अंदाज़े के मुताबिक उसकी पोल-पट्टी खुलने से पहले वो हर महीने जेल के अफ़सरों पर करीब दस करोड़ रुपये से ज़्यादा लुटाया करता था.

EOW के DCP ने तिहाड़ के DG को लिखी चिठ्ठी
दिल्ली पुलिस आर्थिक अपराध शाखा यानी इकोनॉमिक्स ऑफेंसेस विंग (EOW) ने अब इस बारे में तिहाड़ जेल के डीजी को एक चिट्ठी लिखी है और रोहिणी जेल के 82 मुलाज़िमों का ज़िक्र करते हुए उन्हें जांच के दायरे में लाने की बात कही है. ईओडब्ल्यू के डीसीपी मोहम्मद अली की चिट्ठी में कई विस्फोटक ख़ुलासे हैं. 

DCP की चिठ्ठी में अहम खुलासे
डीसीपी अली ने लिखा है, "जेल के मुलाज़िमों के ड्यूटी रोस्टर, आरोपियों से अब तक हुई पूछताछ और अब तक की तफ्तीश ये पता चला है कि सुकेश रोहिणी जेल के जिस बैरक में बंद था, वहां उसको मदद पहुंचाने और सुविधाएं दिलाने के लिए ही कई मुलाज़िमों की ड्यूटी लगाई गई थी. ताकि वो जेल से बैठ कर अपनी आपराधिक गतिविधियों को अंजाम दे सके. इस सिलसिले में अब तक बरामद फ़ोन के सीडीआर और पीडीआर के मुआयने से ये साफ़ हो गया है कि तिहाड़ में सुकेश के पास हमेशा दो मोबाइल फ़ोन हुआ करते थे, जिनसे वो ठगी का कारोबार चला रहा था."

जेल में पूरी होती थी सुकेश की हर ख्वाहिश
दिल्ली पुलिस का कहना है कि इन सुविधाओं के बदले सुकेश ने जेल के मुलाज़िमों पर करोड़ों रुपये लुटाए. और इन करारे-करारे और ग़ुलाबी-ग़ुलाबी नोटों का असर ये था कि जेल में सुकेश को ना सिर्फ़ मोबाइल रखने की छूट थी, बल्कि वो एक पूरे के पूरे बैरक में अकेला रहता था. और अपनी हर वो ख्वाहिश पूरी करता था, जो कोई भी आम इंसान कर सकता है. और ऐसा तब था, जब जेल में पहले ही क्षमता से लगभग दुगने ज़्यादा क़ैदी ठुंसे हुए हैं और लोगों को रहने की जगह नहीं मिल रही है.

बैरक में अकेला रहता था सुकेश
सुकेश को रोहिणी की जेल नंबर दस के वार्ड नंबर 3 की बैरक नंबर 204 में रखा गया था. जहां वो अकेला रहता था. जबकि ऐसे किसी बैरक में आम तौर पर तीस क़ैदी रहते हैं. यानी वो तीस लोगों की जगह अकेला मौज काट रहा था. उसकी हरकतें सीसीटीवी कैमरों में क़ैद ना हो जेल के मुलाज़िमों ने इसका पूरा इंतज़ाम किया था. उसके बैरक में मुलाज़िम कैमरों के सामने मिनरल वाटर की बोतल का पूरा का पूरा डिब्बा रख देते थे. ताकि कैमरा ब्लॉक हो जाए और तस्वीरें क़ैद ना हों.

स्मार्टफ़ोन और लैपटॉप का इ्स्तेमाल
इसी की आड़ में वो अंदर बैठकर अपने स्मार्टफ़ोन और लैपटॉप से स्पूफिंग कर लोगों को चूना लगाता था. उसे जब भी पार्टी करने का मन करता एक से बढ़ कर एक महंगी शराब की बोतल बैरक में हाज़िर हो जाती. खाना तो रोज़ ही वो फ़ाइव स्टार होटल से मंगवाता था और हर ऐसे अहसानों के छींटे जेल मुलाज़िमों पर भी पड़ते थे.

मोबाइल फोन पर गुर्गों को देता था आदेश
सूत्रों की मानें तो अपने पास मौजूद इन्हीं मोबाइल फोंस के ज़रिए वो बी मोहनराज, दीपक रमानी, पिंकी इरानी समेत कई लोगों के संपर्क में था, जो मनी लॉन्ड्रिंग और ठगी के इस खेल में उसके बराबर के हिस्सेदार थे. इन्हीं लोगों की मदद से वो जेल के बाहर अपने शिकारों से रुपये की खेप भी कलेक्ट किया करता था. ये जेल के अफ़सरों और मुलाज़िमों पर लुटाए जा रहे करोड़ों रुपये का ही असर था कि जेल में बैठे-बैठे जिससे चाहता, आराम से उससे मुलाक़ात करता. 

जेल अधिकारी कराते थे प्राइवेट मीटिंग
जेल के अफ़सर उसके लिए प्राइवेट मीटिंग्स ऑर्गेनाइज कराया करते थे. आम लोगों को छोड़िए ये सिक्कों की खनक ही थी जिसे सुन कर कम से कम सात टॉप मॉडल्स सुकेश से मिलने रोहिणी जेल उसके पास आ पहुंची थी. और यहीं जेल से बैठे-बैठे वो अपनी मनचाही हसीनाओं के गिफ़्ट के तौर पर महंगी और आलीशान कारों के साथ-साथ दूसरी चीज़ें भी भिजवा दिया करता था.

ED भी कर रही है जांच
दो सौ करोड़ की ठगी के सिलसिले में दिल्ली पुलिस ने सुकेश और उसकी फिल्म एक्ट्रेस बीवी लीना मारिया पॉल को पिछले सितंबर महीने में गिरफ्तार किया था. आगे इस सिलसिले में तिहाड़ जेल के 7 मुलाज़िमों समेत कुल 19 लोगों को गिरफ़्तार किया गया. आगे चल कर ईडी यानी एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट ने भी इस मामले की जांच शुरू की. सुकेश ने कथित तौर पर रेलिगेयर इंटरप्राइजेज़ के तत्कालीन प्रमोटर शिवेंद्र मोहन सिंह की पत्नी अदिति से सरकारी अफ़सर बन कर इन दो सौ करोड़ रुपयों की ठगी की थी. इसमें अकेले सुकेश की फ़ोन पर आवाज़ बदल-बदल कर अदिति से बात करता रहा और उसके पति को जेल से छुड़वाने के एवज़ में उससे रुपये वसूलता रहा.

तिहाड़ जेल के डीजी पर करोड़ों की वसूली का आरोप
लेकिन जेल में बंद सुकेश की ठगी के तिलिस्म में नपते पुलिसवालों की कहानी में सबसे बड़ा ट्विस्ट तब आया, जब सुकेश ने अपने इल्ज़ामों की फेहरिस्त में खुद तिहाड़ जेल के डीजी संदीप गोयल को भी लपेट लिया. सुकेश ने इस सिलसिले में बाकायदा दिल्ली पुलिस की ईओडब्लू के अफ़सरों के सामने अपना लिखित बयान दिया है. जिसमें उसने कहा है कि डीजी तिहाड़ संदीप गोयल ने उनसे डरा धमका कर अलग-अलग किश्तों में साढ़े 12 करोड़ रुपये वसूल लिए. चूंकि वो जेल में बंद था, उसके पास उन्हें ये रुपये देने के सिवाय कोई चारा नहीं था. 

डीजी से अब तक पूछताछ नहीं
हालांकि बाद में उसने इस सिलसिले में ईओडब्लू के अफ़सरों से शिकायत की, लेकिन उनके खिलाफ़ ईओडब्ल्यू ने कोई कार्रवाई करना तो दूर, उनसे पूछताछ तक नहीं की. क्योंकि एक तो वो बड़े अफ़सर हैं और दूसरा खुद ईओडब्ल्यू में पोस्टेड रहे हैं. सुकेश ने कहा है कि अब वो इस मामले को लेकर अदालत से सीबीआई जांच की मांग करने जा रहा है. ताकि सच्चाई सामने आ सके.

जैकलीन को दी थीं 9 लाख की फारसी बिल्लियां
सुकेश की ठगी के मामले में ईडी दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में सुकेश और उसकी पत्नी लीना मारिया पॉल समेत 8 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दायर कर चुकी है. करीब 7 हजार पन्नों की चार्जशीट में बॉलीवुड की दो फिल्म एक्ट्रेस जैकलीन फर्नांडीज़ और नोरा फतेही का भी है. सुकेश ने जैकलीन फर्नांडिस को करीब 10 करोड़ रुपये के गिफ्ट दिए. जिनमें एक बीएमडब्ल्यू कार, आई फ़ोन, महंगी ज्वेलरी और दूसरी चीज़ें शामिल हैं. जैकलीन को सुकेश ने 4 फारसी बिल्लियां भी गिफ्ट की थी, जिनमें एक बिल्ली की कीमत करीब 9 लाख रुपये बताई गई है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें