scorecardresearch
 

कोरोनाः चीन में टूटने के कगार पर है जानलेवा वायरस का कालचक्र!

वुहान वही शहर है, जहां पहली बार पिछले साल दिसंबर में कोरोना नाम के वायरस का जन्म हुआ था. जहां इस महामारी ने सबसे पहले तबाही मचाई. लेकिन वहां अब ज़िंदगी पटरी पर लौट रही है. कोरोना का वायरस वहां तकरीबन अपना दम तोड़ चुका है.

पूरे देश में कोरोना से ग्रसित लोगों की संख्या 600 के पार जा चुकी है पूरे देश में कोरोना से ग्रसित लोगों की संख्या 600 के पार जा चुकी है

  • अब चीन से सबक ले रही है पूरी दुनिया
  • वुहान शहर को खोलने की तैयारी में है चीन
  • जागरुकता ना होने की वजह से फैला कोरोना

पूरी दुनिया कोरोना से जूझ रही है. हर तरफ लॉकडाउन है मगर फिर भी इससे मरने वालों और इससे संक्रमित लोगों की तादाद लगातार बढती ही जा रही है, बस उस जगह को छोड़कर जहां से इस महामारी की शुरुआत हुई. यानी चीन का वुहान शहर में अब कोरोना के नए मरीजों की तादाद तकरीबन ना के बराबर है. तो सवाल ये कि आखिर ऐसा क्या किया चीन ने कि वहां अब कोरोना का कालचक्र टूटने की कगार पर है? क्या चीन के रास्ते पर चलकर कोरोना को रोका जा सकता है? क्या है कोरोना पर जीत का चीनी फॉर्मूला?

चीन ने कोरोना वायरस को दी मात

यकीन मानिए कोरोना के चक्र को तोड़ने के लिए इसके अलावा दूर-दूर तक दूसरा कोई रास्ता नहीं है. बल्कि सच तो ये है कि बस यही एक रास्ता है, जो 130 करोड़ हिंदुस्तानियों को ज़िंदगी दे सकता है. इसी रास्ते पर चल कर चीन ने ये साबित भी कर दिखाया है. हमने तो अभी 21 दिन का ही लॉकडाउन किया है. चीन के हुबेई प्रांत के वुहान शहर में तो 23 जनवरी यानी पिछले दो महीने से लॉकडाउन है.

वुहान शहर से पहली बार पिछले साल दिसंबर में कोरोना नाम के वायरस का जन्म हुआ था. जहां इस महामारी ने सबसे पहले तबाही मचाई. जहां घर-घर से कोरोना के मरीज निकल रहे थे. वहां अब जिंदगी पटरी पर लौट रही है. और कोरोना का वायरस यहां तकरीबन अपना दम तोड़ चुका है. जो मामले सामने आ भी रहे हैं वो, उन लोगों के हैं जो हाल ही में विदेश से लौटे हैं.

ये ज़रूर पढ़ेंः डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ को किया परेशान तो मकान मालिकों पर होगी कार्रवाई

चीन ने कैसे जीती कोरोना से जंग?

कोरोना की तीसरी, चौथी सभी स्टेजों को पार कर चुके चीन के वुहान शहर में पिछले कई दिनों से अब कोरोना वायरस के इक्के-दुक्के मामले ही सामने आए हैं. ये दावा चीन के स्वास्थ्य मंत्रालय का है. हालांकि वुहान से बाहर कोरोना के कुछ केस जरुर आए हैं. लेकिन ये चीन में फैली इस महामारी के हिसाब से कुछ भी नहीं है. और ये आंकड़ा बेहद कम है. तो आइए समझते हैं कि आखिर चीन ने ऐसे कौन कौन से कदम उठाए जिससे वो कोरोना के इस कालचक्र को तोड़ने में कामयाब हो गया. लेकिन इसके लिए पहले कुछ आंकड़े समझिए.

चीन में अब तक कोरोना के करीब 82 हजार केस सामने आ चुके हैं. जिनमें मरने वालों की तादाद करीब 33 सौ है. लेकिन जो सबसे गौर करने वाला आंकड़ा है, वो ये है कि यहां करीब 74 हजार मरीज ठीक होकर घर भी लौट चुके हैं.

अब आते हैं वुहान पर. चीन के हुबेई सूबे की ये राजधानी पिछले 23 जनवरी से बंद हैं. अब इतनी बड़ी तादाद में कोरोना वायरस के मरीजों की रिकवरी के बाद चीन इस शहर को दोबारा खोलने की तैयारी कर रहा है. इसका सीधा सा मतलब ये है कि चीन को अब इस बात का यकीन हो चला है कि कोरोना से पैदा हुए इमरजेंसी हालात को वो अब काबू में कर सकता है. और चीन की सरकार की तरफ से हालात सामान्य करने की कोशिशें भी शुरु हो गई हैं. हालांकि कोरोना का अटैक दोबारा ना हो इसके लिए चीन की सरकार जरूरी ऐहतियात भी बरत रही है.

Must Read: कोरोना वायरस की दवा बनाने में जुटे कई देश, भारत भी कर रहा कोशिश

चीन ने इस महामारी पर कैसे काबू पाया इसे समझने के लिए पिछले 20 से 30 दिनों में चीन की सरकार की कार्रवाईयों पर बारीकी से नजर डालनी होगी. उसी से ये समझ आएगा कि लॉकडॉउन के अलावा चीन ने कोरोना से लड़ने के लिए क्या कदम उठाए. तो आइए समझने की कोशिश करते हैं.

दरअसल, शुरुआत में तो चीन ये अंदाजा ही नहीं लगा पाया कि आखिर वुहान में अचानक हुआ क्या. लेकिन मरीजों की बढ़ती तादाद और डॉक्टरों की जांच ने जैसे ही उसे वुहान में फैले कोरोना वायरस का पता दिया. चीन ने वुहान को पूरे देश से काट दिया और करीब साढ़े पांच करोड़ लोगों के घरों से निकलने पर पाबंदी लगा दी. शुरुआत से ही संक्रमण को रोकने के लिए चीन ने वुहान में सैनिटाइजर का छिड़काव शुरू करा दिया.

चीन ने ऐसे की कोरोना से ल़डने की तैयारी

चीन ने फौरन वुहान में एक मजबूत हेल्थ सिस्टम तैयार किया. हालात को भांपते हुए रिकॉर्ड वक्त में चीन ने अस्पताल बनाए. हर नागरिक को उसकी ट्रैवल हिस्ट्री के हिसाब से अलग-थलग किया गया. चीन में हर किसी को मास्क लगाना अनिवार्य कर दिया गया. मास्क ना लागने वालों को पहचानने का सिस्टम बनाया गया. सरकार ने सोशल मीडिया पर कोरोना के खिलाफ ज़बरदस्त अभियान छेड़ा. जागरुकता के लिए पूरे देश में एक बड़ा प्रोग्राम चलाया.

चीन ने ऐसे जीती कोरोना से जंग

वहां स्टेडियम, जिम, स्कूलों, कॉलेजों को अस्थाई अस्पताल में बदल दिया गया. मॉल, सिनेमाहॉल, नेशनल और स्टेट हाईवे को तत्काल प्रभाव से रोक दिया गया. जिससे एक जगह से दूसरी जगह लोगों का आना जाना बंद हो गया. वायरस की चेन को तोड़ा गया. और चीन की ये पहल सबसे कारगर साबित हुई. इतना ही नहीं चीन ने उन इलाकों की पहचान की, जहां सबसे ज़्यादा कोरोना के मामले सामने आ रहे थे. और उन्हें सड़क या फिर किसी भी तरह के ट्रांसपोर्ट सिस्टम से काट दिया गया.

पूरे चीन के कोरोना प्रभावित इलाकों में करीब 12 हज़ार सेंटर बनाए. ताकि कोरोना से संक्रमित लोगों की तेजी से जांच की जा सके. जितनी रफ्तार से चीन में कोरोना के केस बढ़े उससे दोगुनी रफ्तार से चीन ने अपने यहां अस्थाई अस्पतालों का निर्माण किया. लोगों तक दवाई पहुंचाने या फिर टेस्ट के लिए रोबोटिक्स का इस्तेमाल किया गया.

कोरोना से जूझते हुए चीनी सरकार ने हर वक्त सबक सीखा और अपनी गलतियों को सुधारा. पूरे चीन में कोरोना से लड़ने के लिए सेंट्रलाइज सिस्टम बनाया गया. और राष्ट्रपति शी जिनपिंग तक को एक-एक केस का अपडेट पहुंचाने का इंतजाम किया. जैसे-जैसे चीन के इलाकों में हालात सामान्य होते गए. लोगों को छूट दी जाने लगी.

देर से ही सही लेकिन जिस तेज़ी के साथ चीन ने इस महामारी पर काबू किया, वो यकीनन तारीफ के काबिल है. तो अब सवाल ये है कि क्या चीन के कदम पर चलकर ही कोरोना का खात्मा किया जा सकता है. दरअसल चीन के बाद इटली कोरोना के भयंकर चपेट में है और इटली की मदद के लिए वहां चीन के डॉक्टर्स का वो दस्ता पहुंचा है. जिन्होंने वुहान को कोरोना से उबारने में मदद की. तो क्या हम भी उन डॉक्टरों की मदद ले सकते हैं.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

कोरोना से जुड़ी ताजा अपडेट्स के लिए यहां क्लिक करें

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×