scorecardresearch
 

शीना मर्डर केस: जांच में इंटरपोल की मदद लेगी CBI

शीना मर्डर केस में सीबीआई ने अदालत में कहा कि पीटर और इंद्राणी मुखर्जी ने 9 कंपनियों के माध्यम से अपनी कंपनी 9x मीडिया से 900 करोड़ रुपये निकाला था. सीबीआई ने पीटर मुखर्जी के विदेशी बैंक खातों तक पहुंच के लिए इंटरपोल से मदद मांगी है.

X
पीटर और इंद्राणी मुखर्जी (फाइल फोटो) पीटर और इंद्राणी मुखर्जी (फाइल फोटो)

शीना मर्डर केस में सीबीआई ने अदालत में कहा कि पीटर और इंद्राणी मुखर्जी ने 9 कंपनियों के माध्यम से अपनी कंपनी 9x मीडिया से 900 करोड़ रुपये निकाला था. सीबीआई ने पीटर मुखर्जी के विदेशी बैंक खातों तक पहुंच के लिए इंटरपोल से मदद मांगी है.

सीबीआई ने कहा कि मुखर्जी दंपति ने साल 2006-07 के दौरान कंपनियों का गठन करके उनमें 900 करोड़ रुपये का निवेश किया. शीना की हत्या के पीछे वित्तीय लेन-देन का मकसद था. घपला कर निकाला गया पैसा सिंगापुर में शीना बोरा के एचएसबीसी खाते में भेजा गया.

अतिरिक्त सॉलीसीटर जनरल अनिल सिंह ने कहा कि डीबीएस बैंक, सिंगापुर में काम करने वाली गायत्री आहूजा नाम की महिला ने एचएसबीसी सिंगापुर में खाता खुलवाने में इंद्राणी की मदद की थी. हो सकता है कि खाते शीना बोरा के नाम पर इंद्राणी ने खुलवाए हों.

सीबीआई ने कहा कि सीरियस फ्रॉड इन्वेस्टिगेशन ऑफिस और आयकर की रिपोर्टों से उपरोक्त तथ्यों की पुष्टि होती है. इंद्राणी और पीटर ने पुलिस को सूचित किया था कि उन्हें शीना का पता-ठिकाना नहीं मालूम है, लेकिन बाद में उन्होंने पुलिस से कहा कि वह उन्हें मिल गई है.

बताते चलें कि गुरुवार को सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने पीटर मुखर्जी की सीबीआई कस्टडी 30 नवंबर तक के लिए बढ़ा दी है. सीबीआई पीटर मुखर्जी का लाई डिटेक्टर टेस्ट करना चाहती है. इससे पहले दो दिनों तक दिल्ली हेटक्वार्टर में पीटर से पूछताछ हो चुकी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें