scorecardresearch
 

आसाराम का कारोबार: पहले सेक्स की इच्छा खत्म करते, फिर पौरुष जगाने की दवा बेचते

आसाराम को लेकर हर दिन नए आरोप लग रहे हैं. रोज नए खुलासे हो रहे हैं. ताजा खुलासा यह है कि आसाराम के आश्रम में सेक्स शक्तिवर्धक दवाएं बेची जाती थीं. यदि आपको इससे पहले हुआ खुलासा याद हो तो आसाराम के 'काले कारोबार' को आसानी से समझ पाएंगे.

X
आसाराम आसाराम

आसाराम को लेकर हर दिन नए आरोप लग रहे हैं. रोज नए खुलासे हो रहे हैं. ताजा खुलासा यह है कि आसाराम के आश्रम में सेक्स शक्तिवर्धक दवाएं बेची जाती थीं. यदि आपको इससे पहले हुआ खुलासा याद हो तो आसाराम के 'काले कारोबार' को आसानी से समझ पाएंगे.

इससे पहले यह बात सामने आई थी कि आसाराम की सेवा में लगे लोगों को जड़ी-बूटी खिलाकर उन्हें नामर्द बना दिया जाता था. इस जड़ी-बूटी में केले की जड़ का इस्तेमाल होता था. यह बात किसी और ने नहीं, बल्कि आसाराम के एक सेवादार रहे शख्स ने बताई थी.

ये भी पढ़ें- आसाराम के सेवादार का खुलासा: सेवादारों को बनाया नामर्द

इस सेवादार ने यह भी बताया था कि आसाराम के इस कृत्य के चलते कई घर टूटने की कगार पर पहुंच गए थे. अब आप इन दोनों बातों को जोड़कर सिलसिलेवार समझें तो पता चलेगा कि आसाराम और उनके साथी किस तरह का कारोबार चलाते थे.

आसाराम पहले अपने सेवादारों को ऐसी बूटी खिलाते, जिससे उनकी कामशक्ति बेहद क्षीण पड़ जाती. उनके अंदर सेक्स की भावना पूरी तरह से दब जाती थी. एक बार दवा के सेवन से कई दिनों तक सेक्स की इच्छा पैदा नहीं होती थी. मतलब यहां मरीज तैयार करने का काम किया जाता था, जिन्हें इलाज की जरूरत हो.

पढ़ें- इस आश्रम में मिलती है मर्दानगी की दवा!

इसके बाद अपने ही आश्रम में बनी सेक्स शक्ति बढ़ाने और जागृत करने की दवा बेचने का काम होता था. जाहिर है जब लोगों का घर टूटने की नौबत आती तो वे इस दवा को खरीदते, और इस तरह आसाराम का यह धंधा चलता रहता.

आसाराम के सूरत आश्रम में सप्त धातुवर्धक बूटी नाम की दवा बेची जा रही थी. फूड एंड ड्रग विभाग को शक है कि इन दवाओं में ऐसे रसायनों का इस्तेमाल किया जाता है जिसकी इजजात नहीं दी गई है.

पढ़ें- जब जोधपुर कोर्ट में गिड़गिड़ाए आसाराम

सूरत के फूड एंड ड्रग विभाग ने जहांगीरपुरा स्थित आसाराम आश्रम में छापेमारी की तो ना सिर्फ शक्तिवर्धक दवाएं, बल्कि 5 अन्य ऐसी दवाएं भी मिलीं, जिसमें इस्तेमाल किए गए रसायनों की इजाजत नहीं दी गई थी. उन दवाओं के नाम हैं- बाण बूटी, त्रिफला टैबलेट, आंवला चूर्ण, कफ सिर्फ और रसायन टैबलेट.

पढ़ें- पाखंड के भगवान की कैसे हुई हवा गुल

फूड एंड ड्रग्स विभाग ने आश्रम से मिली संदिग्ध दवाओं के सैम्पल जांच के लिए भेज दिए हैं. अगर बिना इजाजत वाली रसायनों की बात साबित होती है तो बाबा की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. बहरहाल, ये सवाल खड़े हो रहे हैं कि आखिर सत्संग के लिए चलाए जा रहे आश्रमों में शक्ति वर्धक दवाओं के बेचे जाने का क्या मतलब है?

आसाराम पर नाबालिग लड़की के साथ यौन शोषण के आरोप हैं. उनके बेटे नारायण साईं रेप के आरोप के बाद छह दिनों से फरार हैं. पत्नी और बेटी पर लड़कियों को आवाज नहीं उठाने की धमकी देने का आरोप है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें