scorecardresearch
 

जोधपुर कोर्ट में गिड़गिड़ाए आसाराम- 'लड़की पीड़िता नहीं, उसके साथ कुछ नहीं हुआ'

यौन शोषण के आरोप में जेल की हवा खा रहे आसाराम शुक्रवार को जब जोधपुर की सेशन कोर्ट लाए गए तो कार्यवाही के दौरान पीड़िता के वकील के सामने गिड़गिड़ाने लगे. आसाराम ने कहा कि बार-बार पीड़िता को पीड़िता न कहा जाए, उसके साथ कुछ नहीं हुआ है.

X
आसाराम आसाराम

यौन शोषण के आरोप में जेल की हवा खा रहे आसाराम शुक्रवार को जब जोधपुर की सेशन कोर्ट लाए गए तो कार्यवाही के दौरान पीड़िता के वकील के सामने गिड़गिड़ाने लगे. आसाराम ने कहा कि बार-बार पीड़िता को पीड़िता न कहा जाए, उसके साथ कुछ नहीं हुआ है.

पढ़ें: आसाराम की 'विषकन्या' भारती की कहानी...

आसाराम हाथ जोड़कर पीड़िता के वकील के पास गए और कहा कि आप बहस अच्छा करते हैं, लेकिन हमारा एक निवेदन है आपसे कि आप उसे बार-बार पीड़िता-पीड़िता मत कहिए, उसके साथ कुछ नहीं हुआ और वो पीड़िता नहीं है.

पढ़ें: पाखंड के भगवान के खिलाफ बड़ी गवाही...

इस पर पीड़िता के वकील ने कहा कि आप कोर्ट में इस तरह से मेरे पास आकर बात नहीं कर सकते, आपको जो कुछ कहना है आप अपने वकील से जाकर कहिए.

आसाराम को इस तरह से पीड़िता के वकील के पास जाकर निवेदन करते देख आसाराम का वकील उन्हें अपने पास ले आया. आसाराम शुक्रवार को कोर्ट में आए तो बात करने के लिए सोच कर आए थे. वो जज से भी बातचीत करना चाहते थे, लेकिन जज ने मौका नहीं दिया और तुरंत 25 अक्टूबर तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया.

अब गुजरात पुलिस की कस्टडी में रहेंगे आसाराम
गुजरात पुलिस को आसाराम की कस्‍टडी मिल गई है. गुजरात पुलिस अब आसाराम को अहमदाबाद ले जाएगी. जोधपुर सेशन कोर्ट ने आसाराम के ट्रांसफर का आदेश दिया है. दरअसल, सूरत में दो लड़कियों ने आसाराम और उनके बेटे नारायण साई पर यौन शोषण का केस दर्ज करवाया था. इसके बाद गुजरात पुलिस आसाराम को प्रोडक्शन वारंट पर गुजरात ले जाने के लिए गुरुवार को जोधपुर आई थी. अब आसाराम को गुजरात ले जाने के लिए जोधपुर कोर्ट से इजाजत मिल गई है.

25 अक्‍टूबर तक बढ़ी न्‍यायिक हिरासत
इससे पहले, नाबालिग के यौन उत्पीड़न केस में आसाराम जेल से बाहर आने का फिर सपना ही देखते रह गए. जोधपुर की कोर्ट ने उन्हें फिर राहत नहीं दी. आसाराम की न्यायिक हिरासत फिर बढ़ा दी गई. आसाराम को 25 अक्टूबर तक जेल में ही रहना होगा. आसाराम के साथ उनके सेवादारों की भी मुसीबत कम नहीं हुई. शिल्पी, शिवा, शरत समेत सभी 5 आरोपी 25 अक्टूबर तक जेल में ही रहेंगे.

नारायण साई ने दी अग्रिम जमानत की अर्जी
वहीं आसाराम के बेटे नारायण साई ने अग्रिम जमानत की अर्जी दे दी है. नारायण साई ने सूरत सेशन कोर्ट में अर्जी दी. रेप के आरोप में फंसे नारायण साई अब तक पुलिस को गच्चा दे रहे हैं. नारायण साई की तलाश में अहमदाबाद पुलिस आसाराम के साबरमती आश्रम पहुंची, लेकिन नारायण वहां नहीं मिले. पुलिस नारायण साई को नोटिस भेजकर हाजिर होने का आदेश दे चुकी है. इसके साथ ही पुलिस यह भी साफ कर चुकी है कि अगर नारायण हाजिर नहीं हुए, तो उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया जाएगा. हालांकि इस बीच आसाराम की प्रवक्ता ने कहा कि नारायण साई देश में ही हैं.

आसाराम के नए खेल का खुलासा
आसाराम पर नाबालिग लड़की के साथ यौन शोषण के आरोप हैं, बेटा नारायण साई रेप के आरोप के बाद छह दिनों से फरार है. पत्नी और बेटी पर लड़कियों को आवाज नहीं उठाने की धमकी देने का आरोप है. आसाराम के सूरत आश्रम में ऐसी दवाइयां बेची जा रही हैं जिसमें प्रतिबंधित रसायनों का इस्तेमाल किया गया है. सप्त धातु वर्धक बूटी नाम की दवाई के बारे में फूड एंड ड्रग विभाग को शक है कि इन दवाइयों में ऐसे रसायनों का इस्तेमाल किया जाता है जो प्रतिबंधित हैं. सूरत के फूड एंड ड्रग विभाग ने जहांगीरपुरा स्थित आसाराम आश्रम में छापेमारी की तो ना सिर्फ शक्ति वर्धक दवाएं बल्कि पांच दूसरी ऐसी दवाइयां भी मिलीं जिसमें इस्तेमाल किए गए रसायनों प्रतिबंधित हैं. उन दवाओं के नाम हैं- बाण बूटी, त्रिफला टैबलेट, आंवला चूर्ण, कफ सिर्फ और रसायन टेबलेट. सूरत फूड एंड ड्रग्स विभाग ने आसाराम आश्रम से मिली संदिग्ध दवाओं के सैम्पल जांच के लिए भेज दिए हैं. अगर बिना इजाजत वाली रसायनों की बात साबित होती है तो बाबा की मुश्किलें बढ़ सकती हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें