scorecardresearch
 

जम्मू के आश्रम में दो बच्चों को दफनाए जाने के मामले में आसाराम से हो सकती है पूछताछ

यौन उत्पीड़न के मामले में फंसे आसाराम की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. अब जम्मू में भी आसाराम के खिलाफ जांच शुरू होगी. ये मामला जम्मू स्थित आश्रम में तीन बच्चों को कथित रूप से दफनाए जाने का है. अदालत ने पुलिस को नए सिरे से जांच का निर्देश दिया है.

X
आसाराम आसाराम

यौन उत्पीड़न के मामले में फंसे आसाराम की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. अब जम्मू में भी आसाराम के खिलाफ जांच शुरू होगी. ये मामला जम्मू स्थित आश्रम में तीन बच्चों को कथित रूप से दफनाए जाने का है. अदालत ने पुलिस को नए सिरे से जांच का निर्देश दिया है.

जल्द ही जम्मू पुलिस आसाराम से पूछताछ कर सकती है. आसाराम के ही करीबी रहे भोलानंदर नाम के एक शख्स ने दावा किया था कि तीनों बच्चों की रहस्यमयी हालत में मौत के बाद शवों को आश्रम के परिसर में ही दफना दिया गया था. इस खुलासे के बाद एक एनजीओ ने अदालत में मामले की जांच की गुहार लगाई थी.

भोलानंद ने यह दावा किया था कि उन्होंने आसाराम के जम्मू स्थित आश्रम में करीब सात साल काम किया था. इस दौरान जम्मू के आश्रम में तीन बच्चों की रहस्यमय परिस्थितियों में मौत हो गयी थी जिसके बाद उन तीनों बच्चों को आश्रम परिसर में ही दफनाया गया था. इतना ही नहीं भोलानंद ने यह भी दावा किया था कि अगर उसे पुलिस की सुरक्षा में जम्मू के आश्रम ले जाया गया तो वो उस जगह की भी पहचान भी कर लेगा जहां इन बच्चों को दफनाया गया था.

भोलानंद के इस खुलासे के बाद जम्मू की एक गैर सरकारी संस्था ऑल इंडिया किसान सेवा संघ की तरफ से अदालत में गुहार लगायी गई कि इस मामले की जांच की जाए.

अदालत ने इस मामले की सुनवाई के बाद जम्मू पुलिस को यह निर्देश दिए है कि इस मामले की पूरी तरह से छानबीन की जाए. अदालत ने पुलिस को मामले की छानबीन कर अदालत को रिपोर्ट देने को कहा है. जम्मू पुलिस ने कहा है कि वो जल्द ही इस मामले में पूछताछ करेगी और अगर जरूरत पड़ी तो जल्द ही केस भी दर्ज किया जायेगा.

25 अक्टूबर तक जेल में रहेंगे आसाराम
उधर, गुजरात पुलिस शनिवार को आसाराम को अहमदाबाद ले जा सकती है. शुक्रवार को जोधपुर कोर्ट ने गुजरात पुलिस को ट्रांजिट रिमांड का आदेश दिया था. वही जोधपुर सेशन कोर्ट ने आसाराम की न्यायिक हिरासत बढ़ा दी. अब उन्हें 25 अक्टूबर तक जेल में ही रहना होगा. शिल्पी, शिवा, शरतचंद और प्रकाश की न्यायिक हिरासत भी 25 अक्टूबर तक बढ़ा दी गई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें