scorecardresearch
 

Exclusive: मिल गए वो दस्तावेज जिनके सहारे इंद्राणी हो रही थी ब्लैकमेल !

शीना बोरा अपनी मां इंद्राणी मुखर्जी को कथित तौर पर ब्लैकमेल करती थी. इसके लिए वह कुछ दस्तावेजों का इस्तेमाल करती थी. आज तक को के हाथ तीन ऐसे अहम दस्तावेज की कॉपी लगी है जिनका इस्तेमाल इंद्राणी मुखर्जी को ब्लैकमेल करने के लिए किया गया था.

X
शीना बोरा, सिद्धार्थ दास और इंद्राणी मुखर्जी शीना बोरा, सिद्धार्थ दास और इंद्राणी मुखर्जी

शीना बोरा अपनी मां इंद्राणी मुखर्जी को कथित तौर पर ब्लैकमेल करती थी. इसके लिए वह कुछ दस्तावेजों का इस्तेमाल करती थी. आज तक के हाथ तीन ऐसे अहम दस्तावेजों की कॉपी लगी हैं, जिनका इस्तेमाल इंद्राणी मुखर्जी को ब्लैकमेल करने के लिए किया गया था.

शीना बोरा का जन्म प्रमाण पत्र
शीना बोरा का जन्मप्रमाण पत्र
आज तक के हाथ लगे दस्तावेजों में शीना बोरा का जन्मप्रमाण पत्र भी शामिल है. जिसके मुताबिक शीना का जन्म 11 फरवरी 1989 को गुवाहटी में हुआ था. उसके जन्मप्रमाण पत्र में पिता का नाम सिद्धार्थ दास और मां का नाम इंद्राणी बोरा लिखा हुआ है. प्रमाण पत्र पर पंजीयन अधिकारी मुहर और हस्ताक्षर भी साफ तरीके से दिखाई दे रहे हैं.


शीना का स्कूली प्रमाण पत्र
स्कूल का प्रमाण पत्र
इन दस्तावेजों में दूसरा है शीना बोरा का एक स्कूल का प्रमाण पत्र. जिस पर शीना, इंद्राणी और सिद्धार्थ दास की नाम के साथ साथ उनकी तस्वीरें भी लगी हुई हैं. यह प्रमाण पत्र डिज्नीलैंड स्कूल, खानापारा, गुवाहटी का बना हुआ है. यह प्रमाण पत्र तब बना था जब शीना कक्षा तीन में पढ़ती थी.

आय प्रमाण पत्र
इन दस्तावेजों में शीना की मां इद्राणी और पिता सिद्धार्थ दास का आय प्रमाण पत्र भी शामिल है. जिसके मुताबिक सन 2003 में शीना की मासिक आय 15000 रुपये थी. जबकि शीना के पिता सिद्धार्थ दास की आय उस वक्त मात्र 5000 रुपये थी.

संजीव खन्ना से हुई इंद्राणी की मुलाकात
यही वो वक्त था जब शीना की मां ने उसके सिद्धार्थ दास को छोड़ दिया था. और वह कोलकाता चली गई थी. इसी दौरान इंद्राणी की मुलाकात संजीव खन्ना से हुई. संजीव का कोलकाता में बड़ा कारोबार थी. उसकी आय सिद्धार्थ दास से लाख गुना बेहतर थी.

शीना के भाई का जन्मप्रमाण पत्र
इन सभी दस्तावेजों के साथ शीना बोरा के भाई मिखाइल बोरा का जन्मप्रमाण पत्र भी शामिल है. प्रमाण पत्र में दर्ज तारीख के मुताबिक मिखाइल अपनी बहन से दो साल बड़ा है. उसके प्रमाण पत्र में भी मां और पिता की जगह इंद्राणी बोरा और सिद्धार्थ दास का नाम अंकित है.

आरोप है कि इन्हीं दस्तावेजों के सहारे शीना बोरा अपनी मां इंद्राणी को कथित तौर पर ब्लैकमेल किया करती थी. और यही बात उसके कत्ल की वजह बन गई. फिलहाल, सीबीआई इस मामले की पर्तें खोलने की कोशिश कर रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें