scorecardresearch
 

FASTag को लेकर कोई समस्या है तो जानें उसका समाधान, पढ़ें- जरूरी सवालों के जवाब

आज से देशभर में सभी गाड़ियों के लिए FASTag अनिवार्य हो गया है. ऐसे में आपको FASTag से जुड़ी कोई समस्या है या अलग-अलग सवाल आपको परेशान कर रहे हैं तो यहां जानिए ऐसे ही बेहद जरूरी सवालों के जवाब...

टोल प्लाजा (सांकेतिक फोटो) टोल प्लाजा (सांकेतिक फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अगर FASTag खराब हो गया तो क्या होगा?
  • क्या-क्या डॉक्युमेंट जरूरी हैं FASTag के लिए?

आज से देशभर में सभी गाड़ियों के लिए FASTag अनिवार्य हो गया है. ऐसे में आपको FASTag से जुड़ी कोई समस्या है या अलग-अलग सवाल आपको परेशान कर रहे हैं तो यहां जानिए ऐसे ही बेहद जरूरी सवालों के जवाब...

1.कहां से खरीदें FASTag?
देशभर में राष्ट्रीय राजमार्गों का प्रबंधन देखने वाले सार्वजनिक क्षेत्र के NHAI ने पूरे देश में 40,000 से ज्यादा केंद्र स्थापित किए हैं, जहां से आप FASTag खरीद सकते हैं. इसके अलावा एयरटेल पेमेंट बैंक, पेटीएम और अन्य डिजिटल प्लेटफॉर्म से भी इसे खरीदा जा सकता है.

2.क्या-क्या डॉक्युमेंट हैं जरूरी?
टोल बूथ पर आप ड्राइविंग लाइसेंस और वाहन के रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (RC) की कॉपी जमा करके FASTag खरीद सकते हैं. यदि आप बैंक से अपने FASTag को जोड़ते हैं तो केवाईसी के लिए यूजर्स के पैन कार्ड और आधार कार्ड की कॉपी भी देनी होती है.

देखें आजतक लाइव टीवी

3. कैसे खरीदें ऑनलाइन?
पेटीएम और एयरटेल पेमेंट बैंक जैसे कई प्लेटफॉर्म FASTag की ऑनलाइन खरीद का ऑप्शन देते हैं. इन पर FASTag का टैब अलग से बनाया गया है. आपको बस करना इतना है कि उस टैब पर क्लिक करके अपने वाहन का रजिस्ट्रेशन नंबर डालना है और साथ में रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (RC) की दोनों साइड की इमेज अपलोड करनी है. उसके बाद आप पेमेंट करके FASTag ऑनलाइन खरीद सकते हैं.

4. कितना पेमेंट देना होगा?
FASTag की कीमत 100 रुपये है और 200 रुपये का सिक्योरिटी डिपॉजिट भी देना होता है. साथ ही FASTag पर पहला रिचार्ज भी कराना होता है तो उसके लिए भी एक न्यूनतम वैल्यू FASTag में जमा करनी होती है. इस तरह आप जब पहली बार FASTag खरीदते हैं तो 400 से 450 रुपये तक खर्च करने होते हैं. इसके बाद आप चाहें तो समय-समय पर इसका रिचार्ज करा सकते  हैं या सीधे बैंक खाते से जोड़ सकते हैं.

5. कैसे कराते हैं रिचार्ज ?
यदि आप अपने FASTag को बैंक खाते से नहीं जोड़ते हैं तो आप इसे रिजार्च भी करवा सकते हैं. इसे आप यूपीआई, डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड से रिचार्ज कर सकते हैं. वहीं पेटीएम, अमेजन पे, फोनपे, गूगल पे वगैरह पर इसे रिचार्ज करने का टैब अलग से दिया गया है. इस पर जाकर आप अपना FASTag नंबर डालकर मेट्रो कार्ड की तरह रिचार्ज करा सकते हैं.

FASTag से आसान होगी टोल प्लाजा पर आवाजाही (सांकेतिक फोटो)
FASTag से आसान होगी टोल प्लाजा पर आवाजाही

6. कैसे जोड़ें बैंक खाते से?
FASTag यूजर्स को अपने स्मार्टफोन पर एक ऐप ‘My FASTag’ डाउनलोड करनी होती है. इस पर अपना FASTag रजिस्टर करना होता है. इसी पर यूजर्स को अपना FASTag बैंक खाते से जोड़ने का ऑप्शन मिलता है. बस आपको अपने बैंक की कुछ डिटेल जैसे कि खाता संख्या, आईएफएससी कोड वगैरह इस पर डालना होता है और आपको अपना FASTag बार-बार रिचार्ज कराने के झंझट से मुक्ति मिल जाती है. ऐसा करने से आपके टोल प्लाजा पार करने पर खाते से पैसे खुदबखुद कट जाएंगे और आपको एसएमएस से इसकी जानकारी मिल जाएगी.

7. FASTag नहीं हुआ तो?
अगर आज के बाद आप हाईवे पर बिना FASTag के अपना वाहन लेकर निकल रहे हैं तो आप मंजिल तक तो पहुंच जाओगे, लेकिन आपका सफर महंगा हो जाएगा. क्योंकि 16 फरवरी के बाद अगर आपके वाहन पर FASTag नहीं लगा है या वह काम नहीं कर रहा है, वैलिड नहीं है तो हाईवे से गुजरने पर आपको दोगुना टोल देना पड़ेगा.  तो हमारी सलाह है कि बढ़ती महंगाई के जमाने में एक बार FASTag खरीद लिया जाए ताकि कहीं तो पैसे की बचत हो.

8. अगर FASTag खराब हो गया तो?
अक्सर लोगों की चिंता होती है कि अगर उनका FASTag गुम हो गया या फट गया तो क्या होगा. तो सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने इसका भी समाधान निकाला है. मंत्रालय के मुताबिक एक वाहन के लिए केवल एक FASTag मिलता है. अगर FASTag डैमेज हो जाए तो आप आसानी से उसे बदल सकते हैं. इसे बदलने का तरीका भी आसान है क्योंकि एक गाड़ी के लिए केवल एक FASTag नंबर जारी होता है. इससे व्हीकल का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (RC), टैग आईडी समेत दूसरी जानकारियां जुड़ी होती हैं. ऐसे में केवल पुरानी डिटेल देकर फिर से FASTag को इश्यू करवाया जा सकता है.

9. किन-किन गाड़ियों के लिए जरूरी?
देशभर में आज से सभी निजी और कमर्शियल गाड़ियों के लिए  FASTag अनिवार्य कर दिया गया है. सिर्फ दोपहिया वाहनों को इससे छूट दी गई है. यानी कि आपके पास अगर पीले रंग की या सफेद रंग की नंबर प्लेट वाली गाड़ी है तो हाइवे से गुजरने के लिए FASTag जरूरी है. हां स्कूटर, बाइक वगैरह के मामले में इससे राहत है.

10. आएगा एक्सप्रेसवे पर भी काम?
आमतौर पर एक्सप्रेसवे पर कंट्रोल एक्सिस होता है और उस पर टोल की दरें भी अलग होती है. अभी देश में कुछ एक्सप्रेसवे प्राइवेट हैं, लेकिन उन पर भी टोल टैक्स जुटाने की प्रणाली को एकीकृत करने के लिए उन्हें भी FASTag से जोड़ा गया है. यमुना एक्सप्रेसवे पर भी FASTag से ही टोल संग्रह किया जा रहा है. यमुना एक्सप्रेसवे पर निजी और कमर्शियल व्हीकल का टोल FASTag से जुटाया जा रहा है जबकि 2-व्हीलर्स के लिए कैश लेन बनी हुई है.

ये भी पढ़ें:

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें