scorecardresearch
 
बिजनेस

73 साल पहले 75 करोड़ लेकर अलग हुआ था PAK, इस वजह से हुआ बर्बाद

73 साल पहले 75 करोड़ लेकर अलग हुआ था PAK, इस वजह से हुआ बर्बाद
  • 1/12
आज की तारीख में पाकिस्तान की आबादी 20 करोड़ से ज्यादा है और यह दुनिया का छठा बड़ी आबादी वाला देश है. आबादी में पाकिस्तान ने रूस और ब्राजील को पीछे छोड़ दिया है. 1951 की जनगणना के मुताबिक आजादी के समय पाकिस्तान की कुल आबादी करीब साढ़े 7 करोड़ थी. (Photo: Getty)
73 साल पहले 75 करोड़ लेकर अलग हुआ था PAK, इस वजह से हुआ बर्बाद
  • 2/12
दरअसल पाकिस्तान 14 अगस्त 1947 को आजाद हुआ था और आज अपनी आजादी की 73वीं वर्षगांठ मना रहा है. उस समय पाकिस्तान को भारत ने 75 करोड़ रुपये दिए थे, ये पैसे आर्थिक मदद के तौर पर पाकिस्तान को मिले थे. (Photo: Getty)

73 साल पहले 75 करोड़ लेकर अलग हुआ था PAK, इस वजह से हुआ बर्बाद
  • 3/12
बंटवारे के वक्त पाकिस्तान को अचल संपत्ति का 17.5 फीसदी हिस्सा मिला था, जबकि भारत के हिस्से में 82.5 फीसदी था. इस अचल संपत्ति में मुद्रा, सिक्के, पोस्टल और रेवेन्यू स्टैंप, गोल्ड रिजर्व और आरबीआई के एसेट्स शामिल थे. (Photo: Lahore-Tahir Iqbal-Flickr)
73 साल पहले 75 करोड़ लेकर अलग हुआ था PAK, इस वजह से हुआ बर्बाद
  • 4/12
दोनों देशों के बीच के चल संपत्ति की बात करें तो यहां बंटवारे का फॉर्मूला 80-20 के अनुपात का था. जिसमें सरकारी टेबल, कुर्सियां, स्टेशनरी, लाइटबल्ब, इंकपॉट्स और ब्लॉटिंग पेपर भी शामिल थे. जब बंटवारा हुआ था तो उस वक्त दोनों देशों की आर्थिक सेहत करीब-करीब एक जैसी थी. (Photo: File)
73 साल पहले 75 करोड़ लेकर अलग हुआ था PAK, इस वजह से हुआ बर्बाद
  • 5/12
बता दें, 1947 में पाकिस्तानी करेंसी की खासी वैल्यू थी. उस समय एक अमेरिकी डॉलर 12 रुपये 15 पैसे के बराबर था. जो आज की तरीख में बढ़कर 160 रुपये तक पहुंच गया है. जबकि पिछले साल यानी 18 अगस्त 2018 को पाकिस्तानी रुपया 123.35 पर था. इससे पहले 2006 में एक अमेरिकी डॉलर का वैल्यू 104 पाकिस्तानी रुपये था. (Photo: File)

73 साल पहले 75 करोड़ लेकर अलग हुआ था PAK, इस वजह से हुआ बर्बाद
  • 6/12
दरअसल गलत नीतियों की वजह से पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था पहले से ही संकट में घिरी है, लेकिन पिछले कुछ महीनों से रुपये में लगातार गिरावट ने संकट और बढ़ा दिया है. इसकी बड़ी वजह है कि विदेशी कर्ज तेजी से बढ़ता जा रहा है. (Photo: File)
73 साल पहले 75 करोड़ लेकर अलग हुआ था PAK, इस वजह से हुआ बर्बाद
  • 7/12
वैसे तो पाकिस्तान एक विकासशील देश है. लेकिन विकास हो नहीं रहा है. साल 2007 तक पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था 7 प्रतिशत की वार्षिक दर से घट रही थी. पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था में कृषि का योगदान तेजी से लुढ़का है. राजनीतिक उथल-पुथल के कारण आज यह पड़ोसी देश दिवालिया होने के कगार पर आ गया है. (Photo: File)
73 साल पहले 75 करोड़ लेकर अलग हुआ था PAK, इस वजह से हुआ बर्बाद
  • 8/12
पिछले एक साल से पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री इमरान खान देश की सेहत सुधारने की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन हालात और बेकाबू होते जा रहे हैं. पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय मुद्दा कोष (IMF) से 6 अरब डॉलर का कर्ज ले रहा है. लेकिन इस कर्ज को देने के साथ IMF ने पाकिस्तान पर कड़ी शर्तें थोप दी हैं, जिसे इमरान सरकार ने स्वीकार भी कर लिया है. पाकिस्तान पर दबाव है कि अगले 12 महीने में 700 अरब रुपये के फंड की व्यवस्था करे. 2013 में पाकिस्तान ने आईएमएफ से 6.6 बिलियन डॉलर का कर्ज लिया था, जो अभी भी बकाया है. (Photo: File)
73 साल पहले 75 करोड़ लेकर अलग हुआ था PAK, इस वजह से हुआ बर्बाद
  • 9/12
वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान के खजाने में विदेशी पूंजी भंडार इतना बचा है कि महज 2 महीनों के आयात के काम आ सकता है. इससे वहां भुगतान संकट की स्थिति पैदा हो सकती है. संभावना है कि समीक्षा में पाकिस्तान को काली सूची में डाल दिया जाएगा. इसके बाद वैश्विक वित्तीय प्रणाली तक पाकिस्तान की पहुंच कम हो जाएगी और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष द्वारा उसे दिए जा रहे 6 अरब डॉलर के कार्यक्रम पर भी असर पड़ेगा. मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान के समक्ष भुगतान का संकट मुंह बाए खड़ा है. (Photo: File)
73 साल पहले 75 करोड़ लेकर अलग हुआ था PAK, इस वजह से हुआ बर्बाद
  • 10/12
करीब 280 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था वाला पाकिस्तान अब GDP के आंकड़ों की रेस में बांग्लादेश से भी पिछड़ सकता है. क्योंकि पाकिस्तान सरकार का कर्ज और देनदारी जीडीपी के 91 फीसदी के स्तर तक पहुंच गया है. यही नहीं, फिलहाल पाकिस्तान पर कर्ज और देनदारी करीब 35 लाख करोड़ रुपये की हो गई है. (Photo: File)
73 साल पहले 75 करोड़ लेकर अलग हुआ था PAK, इस वजह से हुआ बर्बाद
  • 11/12
आर्थिक तरक्की की राह में पाकिस्तान लगातार फिसलता जा रहा है. पाकिस्तान सरकार अर्थव्यवस्था के लगभग सभी क्षेत्रों में लक्ष्य को पाने में असफल रही है. पाकिस्तान की आर्थिक वृद्धि दर गिरकर 3 फीसदी के करीब पहुंच गई है. यह पाक सरकार द्वारा 6.3% के लक्ष्य की तुलना में बहुत कम है. (Photo: File)
73 साल पहले 75 करोड़ लेकर अलग हुआ था PAK, इस वजह से हुआ बर्बाद
  • 12/12
कौन जिम्मेदार
पाकिस्तान में जो टैक्स प्रणाली की व्यवस्था है, वह पारदर्शी और अनुकूल नहीं है. पाकिस्तान में टैक्स कलेक्शन जीडीपी का लगभग 10 फीसदी ही है, जो कि बेहद कम है और इसी वजह से टैक्स की मार आम आदमी पर पड़ रही है. दूसरी बात भ्रष्टाचार चरम पर है. पाकिस्तान में अमीर लोगों की तादाद काफी है, लेकिन वहां ऐसा कोई फ्रेम नहीं है जिससे अमीरों से टैक्स वसूला जाए. (Photo: File)