scorecardresearch
 

India Today Conclave East 2022: स्टार्टअप्स को प्रॉफिट कमाने के बाद ही IPO लाना चाहिए, बोले संजीव गोयनका

India Today Conclave East 2022: देश में प्राइवेट सेक्टर के निवेश में कमी आने को लेकर एक सवाल के जवाब में उद्योगपति संजीव गोयनका ने कहा कि रूस-यूक्रेन युद्ध समाप्त होने के बाद भारत में बड़ा निवेश देखने को मिलेगा. वह इंडिया टुडे कॉनक्लेव ईस्ट 2022 में बोल रहे थे.

X
संजीव गोयनका (Photo : Chandra Deep Kumar)
संजीव गोयनका (Photo : Chandra Deep Kumar)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • रूस-यूक्रेन युद्ध खत्म होने पर होगा बड़ा निवेश
  • इंडियन इकोनॉमी की स्थिति बाकियों से बेहतर

देश के प्रमुख उद्योग घरानों में से एक RP-Sanjiv Goenka Group के प्रमुख संजीव गोयनका का कहना है कि  वैश्विक अर्थव्यवस्था की परेशानियों का असर सभी पर पड़ता है, लेकिन भारत की अर्थव्यवस्था अन्य देशों की तुलना में बेहतर स्थिति में है. इंडिया टुडे कॉनक्लेव ईस्ट 2022 में देश की आर्थिक स्थिति को लेकर गोयनका ने और भी कई बातें कहीं.

इंडियन इकोनॉमी का कॉन्फिडेंस हाई
संजीव गोयनका ने कहा कि अगर भारत की अर्थव्यवस्था की बात की जाए तो हमारी आंतरिक स्थिति मजबूत है. हमारा आत्मविश्वास काफी बढ़ा हुआ है. वहीं हमारी अर्थव्यवस्था की स्थिरता भी अडिग है.

रूस-यूक्रेन युद्ध खत्म होने पर होगा बड़ा निवेश
गोयनका ने कहा-दुनिया में चल रही गतिविधियों का असर सभी पर पड़ता है और भारत इसमें शामिल है. भारतीय अर्थव्यवस्था की मजबूती को देखते हुए कुछ निवेश का ऐलान हो चुका है और कुछ का आने वाले समय में और होगा. मेरा मानना है कि उद्योगपति और निवेशक बस इंतजार में हैं कि वैश्विक अर्थव्यवस्था के हालत थोड़ा सुधरें और रूस-यूक्रेन युद्ध का अंत हो.

प्रॉफिट मेकिंग होने के बाद ही लिस्ट हों स्टार्टअप 
संजीव गोयनका ने स्टार्टअप कंपनियों के शेयर बाजार में लिस्टिंग को लेकर कहा कि आईपीओ लाने के लिए हो सकता है आपको शुरू में अच्छा वैल्यूएशन मिल जाए. लेकिन मेरा मानना है कि जब तक स्टार्टअप कंपनियां प्रॉफिट कमाना शुरू नहीं कर दें, तब तक शेयर बाजार में लिस्ट होना सस्टेनबल नहीं होगा.

10 साल में 7000 से 50000 करोड़ का निवेश
संजीव गोयनका ने देश में धीमे निवेश की बात पर अपनी कंपनी का उदाहरण देते हुए कहा कि पिछले 10 साल में हमारा परिसंपत्ति आधार (एसेट बेस) 7,000 करोड़ रुपये से बढ़कर 50,000 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. ये कहीं से भी धीमा निवेश नहीं है. गोयनका ने अपनी कंपनी के हाल में B2B से B2C पर मूव होने को लेकर भी बात की. उन्होंने कहा कि हमने एफएमसीजी और रीटेल के साथ-साथ IT Enabled सर्विसेस और स्पोर्ट पर ध्यान देना शुरू किया है. इससे भी बड़ी बात हमने अपने रीटेल बिजनेस के लिए कोई कर्ज नहीं लिया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें