scorecardresearch
 

Mahogany Cultivation: एक पेड़ फायदे अनेक, महोगनी की खेती से सिर्फ 12 साल में बन जाएंगे करोड़पति!

Mahogany Farming: भारत में महोगनी की खेती का चलन बेहद तेजी से बढ़ा है. औषधीय गुणों से भरपूर होने की वजह से बाजार में इसकी लकड़ियों की कीमतों में तेजी से इजाफा हो रहा है. उत्तर भारत के अलावा अब इसकी खेती दक्षिण के राज्यों में भी होने लगी है.

X
Mahogany Farming Mahogany Farming
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कई रोगों के खिलाफ असरदार
  • मच्छर मारने की दवाओं में होता है इस्तेमाल

Mahogani Cultivation: परंपरागत खेती में लगातार कम होते मुनाफे की वजह से अब किसान नई तरह की फसलों की खेती की तरफ रुख कर रहे हैं. केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा भी किसानों को अपने-अपने स्तर पर मदद पहुंचाई जा रही है. कहीं सेमिनार तो कहीं योजनाओं के माध्यम से किसानों के बीच जागरूकता फैलाने का काम किया जा रहा है. इन सबके बीच सरकार किसानों को मुनाफेदार पेड़ों की खेती के लिए भी प्रोत्साहित कर रही है.

भारत में महोगनी की खेती का चलन बेहद तेजी से बढ़ा है. औषधीय गुणों से भरपूर होने की वजह से बाजार में इसकी लकड़ियों की कीमतों में तेजी से इजाफा हो रहा है. उत्तर भारत का तापमान इसकी खेती के लिए बेहद उपयुक्त मानी जाती है. हालांकि, देश के दक्षिणी राज्यों में भी इसकी खेती बड़े पैमाने पर शुरू हो गई है.

किसी भी प्रकार की मिट्टी में की जा सकती है खेती

महोगनी के पेड़ की खासियत है कि इसे हिमपात क्षेत्र को छोड़कर किसी भी तापमान में उगाया जा सकता है. साथ ही किसी भी प्रकार मिट्टी में इसकी खेती की जा सकती है. हालांकि, दोमट मिट्टी यह पेड़ ज्यादा अच्छे से विकास करता है. इसकी लंबाई 40 से 200 फीट तक भी हो सकती है.

ज्यादा निगरानी की जरूरत नहीं

अन्य पौधों के मुकाबले इस पौधे को देखभाल की आवश्यकता बेहद कम पड़ती हैं. साथ ही इसे पानी की भी बेहद कम जरूरत होती है. गर्मियों के हर सप्ताह में दो बार पानी देना चाहिए. लेकिन बाद में इसको इतने पानी जरुरत नहीं पड़ती है. बता दें कि इसे वसंत या बरसात के मौसम में पानी की आवश्यकता नहीं होती है.

औषधीय गुणों से भरपूर

बता दें महोगनी का पेड़ औषधीय गुणों से भरपूर होता है. इसके पत्तों को पत्तों को खाद के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है. कैंसर, ब्लड प्रेशर, अस्थमा, सर्दी और मधुमेह सहित कई प्रकार के रोगों के खिलाफ भी ये प्रभावी है. इसके अलावा यह पेड़ जिन जगहों पर लगाया जाता है, वहां मच्छरों की संख्या कम हो जाती है. इसके पत्तों और छाल का उपयोग मच्छर मारने वाली दवाओं में भी उपयोग किया जाता है. साथ ही इसका उपयोग इसकी सुंदरता, स्थायित्व, रंग, प्राकृतिक चमक, फर्नीचर, संगीत वाद्ययंत्र और जहाज के पुर्जों के लिए किया जाता है.

अगर एक एकड़ जमीन में महोगनी के 100 से ज्यादा पेड़ लगाते हैं तो आप महज 12 साल में करोड़पति बन सकते हैं. एक बीघा में इसे लगाने की लागत 40-50 हजार रुपये रुपये आती है. महोगनी का एक पेड़ 20 से 30 हज़ार का बिकता है. ऐसे में आप अपने खेत में बड़े स्तर पर इसकी खेती कर करोड़ रुपये कमा सकते हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें