scorecardresearch
 

करीबियों में कोरोना केस मिलने पर रूस के राष्ट्रपति पुतिन हुए सेल्फ आइसोलेट, तजाकिस्तान भी नहीं जाएंगे

कोरोना महामारी की शुरुआत हुए डेढ़ साल से ज्यादा का समय बीत चुका है, लेकिन फिर भी अब तक खत्म नहीं हो सकी है. वैक्सीनेशन अभियान के बावजूद भी कई देश अब तक कोरोना के कहर से जूझ रहे हैं. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन सेल्फ आइसोलेशन में चले गए हैं.

राष्ट्रपति पुतिन राष्ट्रपति पुतिन
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पुतिन के करीबियों में मिले कोरोना मामले
  • सेल्फ आइसोलेट हुए रूस के राष्ट्रपति
  • तजाकिस्तान दौरे पर भी नहीं जाएंगे

कोरोना महामारी की शुरुआत हुए डेढ़ साल से ज्यादा का समय बीत चुका है, लेकिन फिर भी अब तक खत्म नहीं हो सकी है. वैक्सीनेशन अभियान के बावजूद भी कई देश अब तक कोरोना के कहर से जूझ रहे हैं. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन सेल्फ आइसोलेशन में चले गए हैं. दरअसल, उनके करीबियों में कोरोना संक्रमण के मामले सामने आए थे, जिसके बाद उन्होंने यह कदम उठाया है.

न्यूज एजेंसी एएफपी के अनुसार, पुतिन को इस हफ्ते तजाकिस्तान का दौरा करना था, जोकि अब नहीं होगा. जानकारी दी गई है कि कोरोना मामले मिलने के बाद आइसोलेट हुए पुतिन इस सप्ताह तजाकिस्तान नहीं जाएंगे, जहां पर उन्होंने क्षेत्रीय सुरक्षा को लेकर बैठकें करनी थीं.

बता दें कि रूसी नेता ने महामारी के दौरान स्वास्थ्य संबंधी कई सावधानियां बरती हैं और स्पुतनिक-वी कोविड-19 वैक्सीन की दो खुराकें भी ली हैं. रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने कई सार्वजनिक कार्यक्रमों में भी हाल के समय में भाग लिया है. उन्होंने रूसी पैरालंपिक खिलाड़ियों के साथ मुलाकात की और सीरिया के राष्ट्रपति बशर असद के साथ भी मुलाकात की थी.

बता दें कि रूस में कोरोना वायरस ने जमकर कहर बरपाया है. अब तक 7,176,085 मामले मिल चुके हैं और पिछले 24 घंटों में 17,837 नए केस सामने आए हैं. अब तक रूस में 194,249 लोगों की महामारी की वजह से जान जा चुकी है. अभी तक 6,418,033 लोग बीमारी से ठीक हो चुके हैं. दुनिया में सबसे ज्यादा कोरोना मामलों की सूची में रूस पांचवें नंबर पर है और उससे ऊपर ब्रिटेन, ब्राजील, भारत और अमेरिका ही हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें