scorecardresearch
 

PM मोदी ने किए पुर्तगाल के साथ 11 समझौते, जानें दौरे की अहमियत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तीन देशों की अपनी यात्रा के पहले चरण में पुर्तगाली पीएम से मुलाकात के बाद अमेरिका के लिए रवाना हो गए हैं. वह कुछ ही देर में वॉशिंगटन पहुंच जाएंगे, जहां वह कई कार्यक्रमों में शिरकत करेंगे.

पुर्तगााली प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा और पीएम मोदी पुर्तगााली प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा और पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तीन देशों की अपनी यात्रा के पहले चरण में पुर्तगाली पीएम से मुलाकात के बाद अमेरिका के लिए रवाना हो गए हैं. पीएम मोदी की 26 जून को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात होगी. इसके अलावा मोदी दिग्गज अमेरिकी कंपनियों के कार्यकारी अधिकारियों से मिलेंगे और भारतीय समुदाय के नेताओं को संबोधित करेंगे.

इस दौरान वॉशिंगटन में भारतीय राजदूत नवतेज सरना एक कार्यक्रम की मेजबानी करेंगे, जिसमें भारतीय समुदाय के करीब छह सौ नेता शिरकत करेंगे. इसके बाद 27 जून को नीदरलैंड के लिए रवाना हो जाएंगे. पीएम मोदी ने अमेरिका, नीदरलैंड समेत तीन देशों के दौरे की शुरुआत पुर्तगाल के दौरे के साथ की. पुर्तगाल पहुंचने पर वहां प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा ने पीएम मोदी का जबरदस्त स्वागत किया गया.

कोस्टा ने मोदी के स्वागत में आयोजित लंच में गुजराती व्यंजन की व्यवस्था की. इस दौरान मोदी ने आतंकवाद से मुकाबले, अंतरिक्ष एवं जलवायु अध्ययन जैसे क्षेत्रों में सहयोग पर अपने पुर्तगाली समकक्ष एंटोनियो कोस्टा से गहन वार्ता की.

भारत-पुर्तगाल के बीच 11 समझौतों पर दस्तखत
शनिवार को भारत और पुर्तगाल के बीच युवा एवं सांस्कृतिक आदान-प्रदान समेत 11 द्विपक्षीय समझौतों पर दस्तखत हुए. इसके बाद संयुक्त बयान में मोदी और कोस्टा ने कहा कि दोनों देशों के रिश्तों में पिछले छह महीने में काफी प्रगति हुई है. इसके बाद लिस्बन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पुर्तगाल के प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा ने संयुक्त बयान जारी किया. कोस्टा ने कहा कि युवा एवं सांस्कृतिक आदान-प्रदान समेत कई समझौते पर हस्ताक्षर हुए हैं. इसका भविष्य में अच्छा असर पड़ेगा.

40 लाख यूरो के संयुक्त फंड की घोषणा
पुर्तगाल में मोदी ने कहा कि हम 40 लाख यूरो का संयुक्त विज्ञान एवं तकनीकी फंड गठित करने पर सहमत हुए हैं. उन्होंने कहा कि टैक्सेशन, साइंस, स्पेश, यूथ अफेयर और स्पोर्ट के क्षेत्र में नए समझौते हुए हैं. आतंकवाद और हिंसा के खिलाफ दोनों देश मजबूत संबंध बनाने को दृढ़ संकल्प हैं. उन्होंने कहा कि पुर्तगाल में फुटबॉल का जबरदस्त उत्साह है. पुर्तगाली प्रधानमंत्री कोस्टा खुद इसके बड़े फैन हैं. फुटबॉल भी दोनों देश के समाज को जोड़ सकता है. मोदी ने कहा कि भारतीय फिल्मों को पुर्तगाली भाषा में डब किया जा रहा है और हिंदी-पुर्तगाली डिक्सनरी विकसित की जा रही है.

सुरक्षा परिषद की सदस्या का समर्थन करने के लिए शुक्रिया
मोदी ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता और बहुपक्षीय निर्यात नियंत्रण व्यवस्था के लिए भारत का लगातार समर्थन करने के लिए पुर्तगाल का शुक्रिया अदा किया. इस बीच मोदी ने पुर्तगाल में आग में झुलसे लोगों के प्रति संवेदना भी व्यक्त की. 17 साल बाद कोई भारतीय प्रधानमंत्री पुर्तगाल के दौरे पर पहुंचे हैं. मोदी लिस्बन में भारतीय मूल के पुर्तगाल के प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा के साथ भी वार्ता की.

मोदी ने लिस्बन में राधा कृष्ण मंदिर में पूजा की
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को लिस्बन में राधा कृष्ण मंदिर में पूजा अर्चना की और भारतीय मूल के प्रमुख लोगों से बातचीत की. हिंदू-पुर्तगाली समुदाय के नौ हजार से अधिक सदस्य हैं और इनमें से अधिकतर का संबंध पुर्तगाल के उपनिवेशों से है. ये सदस्य साप्ताहिक आधार पर मंदिर में एकत्र होते हैं. मंदिर सभी आगंतुकों के लिए खुला रहता है.

17वीं शताब्दी के पत्रों के आदान-प्रदान के लिए धन्यवाद किया
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 17वीं शताब्दी में गोवा और पुर्तगाल के बीच हुए पत्रों के अदान-प्रदान वाले 12 हजार दस्तावेजों का एक डिजिटल संस्करण साझा करने के लिए पुर्तगाल को धन्यवाद दिया. मोदी ने कहा कि ये पत्र भारत में अनुसंधानकर्ताओं की मदद करेंगे. गोवा पर पुर्तगाल ने तब विजय हासिल की थी, जब पुर्तगाली भारत के गवर्नर एफोंसो डि अल्बुकर्क ने 1510 ईस्वी में इस शहर पर कब्जा कर लिया था. पुर्तगाल के साथ कूटनीति विफल होने के बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने भारतीय बलों को गोवा पर बलपूर्वक नियंत्रण हासिल कर लेने का आदेश दिया था. 18 और 19 दिसम्बर 1961 को भारतीय सैनिकों ने बहुत कम प्रतिरोध के साथ गोवा पर नियंत्रण हासिल कर लिया.

जानें क्यों है ये दौरा अहम
-यूरोप के नए देशों के साथ संबंध सुधारने की भारत की कोशिश पिछले कुछ दिनों से लगातार चल रही है. पिछले महीने पीएम मोदी ने स्पेन और जर्मनी का दौरा किया था. इससे पहले 2000 में अटल बिहारी वाजपेयी ने पुर्तगाल का दौरा किया था.

-पुर्तगाल के प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा इस साल जनवरी में भारत आए थे. वे प्रवासी भारतीय दिवस समारोह के चीफ गेस्ट थे. इसमें उन्हें सम्मानित किया गया था. इस दौरे में भारत और पुर्तगाल के बीच रक्षा सहयोग समेत छह MoU पर हस्ताक्षर हुए थे.

-पुर्तगाल संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थाई सदस्यता का समर्थन करता है.

-दोनों नेताओं के बीच पर्सनल केमिस्ट्री भी गजब की है. अपनी यात्रा के दौरान कोस्टा ने पीएम मोदी को मशहूर फुटबॉलर रोनाल्डो के साइन वाली जर्सी गिफ्ट की थी.

 

कोस्टा का इंडिया कनेक्शन
एंटोनियो कोस्टा भारतीय मूल के हैं. उनके कई रिलेटिव्स गोवा के मडगांव में रहते हैं. एंटोनियो कोस्टा के पिता ओर्लांदो द कोस्टा मशहूर नॉवेलिस्ट थे. उन्होंने रवीन्द्रनाथ टैगोर पर भी एक लेख लिखा था. गोवा में जब पुर्तगालियों का शासन था, उस वक्त ओर्लांदा यंग थे और उन्होंने कई साल इसी शहर में गुजारे थे.

पुर्तगाल की इकोनॉमी में भारतीय की हिस्सेदारी अहम
पुर्तगाल में भारतीय मूल के करीब 70 हजार लोग रहते हैं. बैंकिंग से लेकर तमाम क्षेत्रों में भारतीय मूल के कारोबारियों का दबदबा है. दौरे पर क्या बोले पीएम अपने दौरे से पहले पीएम मोदी ने कहा- पीएम एंटोनियो कोस्टा की जनवरी में भारत यात्रा के बाद से हमारे ऐतिहासिक और दोस्ताना रिश्तों में मजबूती आई है. मैं कोस्टा से मीटिंग के लिए उत्साहित हूं. हम द्विपक्षीय संबंधों, खासतौर पर आर्थिक सहयोग, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, स्पेस और आपसी रिश्तों में मजबूती पर चर्चा करेंगे. हम आतंकवाद को खत्म करने में सहयोग बढ़ाने, कारोबार और निवेश पर भी चर्चा करेंगे. मैं यात्रा के दौरान पुर्तगाल में रहने वाले भारतीयें से भी बातचीत करूंगा."

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें