scorecardresearch
 

न्यूयॉर्क में प्रधानमंत्री मोदी और बराक ओबामा ने गले मिलकर दोस्ती की मजबूती का भरा दम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा सोमवार को न्यूयॉर्क में पूरी गर्मजोशी से मिले. दोनों नेताओं ने एक-दूसरे को गले लगा लिया. इस साल दोनों नेताओं के बीच हुई पांचवीं मुलाकात पर पीएमओ ने ट्वीट करके सबसे बडे लोकतंत्र के नेताओं से मुलाकात पर खुशी जताई.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा सोमवार को न्यूयॉर्क में पूरी गर्मजोशी से मिले. दोनों नेताओं ने एक-दूसरे को गले लगा लिया. इस साल दोनों नेताओं के बीच हुई पांचवीं मुलाकात पर पीएमओ ने ट्वीट करके सबसे बडे लोकतंत्र के नेताओं से मुलाकात पर खुशी जताई.

दोनों नेताओं के बीच आर्थिक संबंधों को आगे बढ़ाने, जलवायु परिवर्तन समेत विविध मुद्दों पर चर्चा हुई. मोदी और ओबामा के बीच करीब एक वर्ष में यह पांचवीं मुलाकात है. बैठक से पहले ओबामा ने मोदी की गर्मजोशी से आगवानी की और उनसे गले मिले. पिछले वर्ष मई के बाद से दोनों नेताओं के बीच यह पांचवीं मुलाकात है.

'यूएनएससी में स्थाई सदस्यता पर बात'
मुलाकात के बाद दोनों शीर्ष नेताओं ने साझा बयान जारी किया. इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति के साथ उनकी कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर बात हुई, जिनमें आतंकवाद, पर्यावरण और सुरक्षा शामिल है. पीएम मोदी ने कहा, 'हमारे बीच द्वि‍पक्षीय आर्थ‍िक सहयोग को लेकर बात हुई. यूएनएससी में स्थाई सदस्यता को लेकर भी बात हुई.'

प्रधानमंत्री ने कहा कि दोनों देश आतंकवाद के खि‍लाफ लड़ाई में साथ मिलकर काम करेंगे. बराक ओबामा और पीएम मोदी के बीच क्लीन एनर्जी के क्षेत्र में साथ मिलकर काम और रक्षा के क्षेत्र में एक-दूसरे के सहयोग पर भी बात हुई. पीएम मोदी ने कहा कि पर्यावरण के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा.

गणतंत्र दिवस परेड में मुख्य अतिथि थे ओबामा
दोनों नेताओं के बीच इस बैठक से जनवरी में नई दिल्ली में शुरू हुई चर्चा को आगे बढ़ाने का मौका मिला है. जनवरी में ओबामा भारत की यात्रा पर आए थे और वे गणतंत्र दिवस परेड में मुख्य अतिथि थे. प्रधानमंत्री मोदी पिछले बुधवार को अमेरिका की यात्रा पर आए. इस दौरान उन्होंने सिलिकन वैली की यात्रा की और शीर्ष आईटी कंपनियों के सीईओ से मुलाकात की और सैन जोस में सैप सेंटर में भारतीय समुदाय के 18000 लोगों को संबोधित किया. इससे पहले मोदी की ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरन और फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलोंद के साथ द्विपक्षीय बैठक हुई.

क्यों अहम है मुलाकात
मोदी और ओबामा की बैठक ऐसे समय में हो रही है जब अमेरिका और भारत के बीच शुरूआती सामरिक और वाणिज्यिक वार्ता पूरी हो चुकी है. दोनों नेताओं के बीच बातचीत के दौरान भारत और अमेरिका में यह सहमति बनी कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में सहयोग को और गहरा बनाया जाए और पाकिस्तान से कहा जाए कि वह 2008 के मुम्बई आतंकी हमले के षड्यंत्रकारियों को न्याय के कटघरे में लाए. भारत की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण: रोड्स
ओबामा-मोदी बैठक से पहले अमेरिका के उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बेन रोड्स ने कहा, ‘हम भारत अमेरिकी संबंधों, अपने आर्थिक एवं वाणिज्यिक रिश्तों को मजबूत बनाने, एशिया और विश्व भर में अपने राजनीतिक और सुरक्षा सहयोग को बढ़ाने को पूर्णत: प्रतिबद्ध हैं.' रोड्स ने कहा कि जलवायु परिवर्तन के खिलाफ वैश्विक लड़ाई को सफल बनाने के लिए भारत की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है और इसलिए द्विपक्षीय चर्चाओं में यह महत्वपूर्ण विषय है. उन्होंने कहा, ‘पेरिस में होने वाली आगामी बैठक में साझा दृष्टि के साथ कैसे बढा जाए, इस बारे में निश्चित तौर पर दोनों नेता चर्चा करेंगे.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें