scorecardresearch
 

इराकी बेस पर फिर दागा गया रॉकेट, अमेरिकी सेना को निशाना बनाना था मकसद

इराकी एयरबेस पर एक बार रॉकेट से हमला किया गया है. न्यूज एजेंसी एएफपी के मुताबिक, इराकी पुलिस को उसके एयरबेस पर रॉकेट हमले की सूचना मिली है. इस एयरबेस का इस्तेमाल अमेरिकी सेना करती है.

प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

  • इराक एयरबेस पर दागे गए एक रॉकेट
  • हमले की किसी ने नहीं ली जिम्मेदारी

इराकी एयरबेस पर एक बार रॉकेट से हमला किया गया है. न्यूज एजेंसी एएफपी के मुताबिक, इराकी पुलिस को उसके एयरबेस पर रॉकेट हमले की सूचना मिली है. इस एयरबेस का इस्तेमाल अमेरिकी सेना करती है. हमले से जान-माल के नुकसान की खबर नहीं है.

इससे पहले इराक के अल बलाद एयरबेस पर 8 मोर्टार दागे गए थे, जिनमें से 7 मोर्टार ने एयरबेस के रनवे को नुकसान पहुंचाया था. इस हमले में इराक सेना के चार जवान घायल हुए थे. हालांकि, इस हमले की किसी ने जिम्मेदारी नहीं ली थी. हालांकि, अमेरिका आरोप लगा चुका है कि इराक में ईरान समर्थित ग्रुप की ओर से यह हमला किया जा रहा है.

इराक की राजधानी बगदाद से लगभग 90 किलोमीटर दूर स्थित एयर बेस पर यह हमला सोमवार शाम को हुआ था, जिसमें चार जवान हो गए थे और आस-पास की इमारतें क्षतिग्रस्त हो गईं. बलाद एयर बेस इराक का सबसे बड़ा एयर बेस है. अमेरिकी सेना इसे लॉजिस्टिक्स सपोर्ट एक्टिविटी (एलएसए) एनाकॉन्डा के नाम से जानती है.

एयर बेस में कई अमेरिकी सैनिक और इराकी एफ-16 विमान उड़ाने वाली एक अमेरिकी कंपनी के सलाहकार रहते थे, लेकिन अमेरिका की अगुआई वाले अंतर्राष्ट्रीय गठबंधन ने इराक में इस्लामिक स्टेट (आईएस) के खिलाफ अपना अभियान स्थगित करने की घोषणा करने के बाद वे लगभग एक सप्ताह पहले वहां से चले गए थे.

यह हमला इराकी ईरान समर्थित शिया मिलीशिया असैब अहल अल-हक के नेता कैस अल-खजाली के बयान के कुछ दिनों बाद हुआ था, जिसमें उसने कहा था कि ईरान के सैन्य कमांडर की मौत के बदले में ईरान का शुरुआती जवाब आ चुका है और इराक को अमेरिकी हवाई हमले का जवाब देने का समय आ गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें