scorecardresearch
 

डोनाल्ड ट्रंप बोले- कोरोना से भारत हुआ तबाह, चीन दे मुआवजा

पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने गुरुवार को कहा कि भारत कोरोना वायरस महामारी से तबाह हो गया है. ट्रंप ने यह भी कहा कि चीन को विश्व स्तर पर कोरोना वायरस फैलाने के लिए कथित तौर पर जिम्मेदार होने के लिए अमेरिका को 10 ट्रिलियन अमरीकी डॉलर का भुगतान करना चाहिए.

पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने फिर चीन को घेरा (फाइल फोटो-AP) पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने फिर चीन को घेरा (फाइल फोटो-AP)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति ने चीन को आड़े हाथों लिया
  • ट्रंप ने चीन को देशों को क्षतिपूर्ति देने को कहा है
  • अमेरिका को 10 ट्रिलियन डॉलर दे चीन- डोनाल्ड ट्रंप

पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने गुरुवार को कहा कि भारत कोरोना वायरस महामारी से तबाह हो गया है. ट्रंप ने यह भी कहा कि चीन को विश्व स्तर पर कोरोना वायरस फैलाने के लिए कथित तौर पर जिम्मेदार होने के लिए अमेरिका को 10 ट्रिलियन अमरिकी डॉलर का भुगतान करना चाहिए.

फॉक्स न्यूज के साथ इंटरव्यू में ट्रंप ने कहा कि वास्तव में चीन को दुनिया को मुआवजे के रूप में ज्यादा भुगतान करना चाहिए. लेकिन सवाल है कि क्या वह मुआवजे का सही भुगतान कर पाएगा?

डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि चीन को पूरी दुनिया को मुआवजा देना चाहिए. अब देखना है कि वह कितना क्षतिपूर्ति कर सकता है. क्योंकि वास्तव में नुकसान बहुत ज्यादा है. दुनिया के कई देश कोरोना से बुरी तरह से बर्बाद हो चुके हैं. ट्रंप ने कोरोना को चीनी और वुहान वायरस करार दिया है. पूर्व राष्ट्रपति ने कहा कि अमेरिका को कोविड-19 से भारी नुकसान हुआ है. 

कोरोना वायरस के फैलने के एक सवाल के जवाब में ट्रंप ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि यह एक दुर्घटना थी. मुझे उम्मीद है कि यह अक्षमता या दुर्घटना के कारण हुआ था. ट्रंप ने भारत का हवाला देते हुए कहा कि वहां पर इससे पहले किसी भी बीमारी से इतनी मौतें नहीं हुईं. आप देख सकते हैं कि अभी भारत में क्या हो रहा है. भारत में लोगों को कहने की आदत है कि वे कितना अच्छा कर रहे हैं. मगर सच्चाई ये है कि देश तबाह हो चुका है. वास्तव में जानलेवा कोरोना चलते संक्रमण के कारण हर देश बर्बाद हुआ है. अब इन सभी देशों की चीन को मदद करनी चाहिए. 

दुनियाभर में कोरोना संक्रमण पर डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, भले यह दुर्घटनावश हुआ, आप इन देशों को देखिए. वे अब कभी पहले जैसे नहीं हो सकेंगे. हमारा देश भी बुरी तरह से प्रभावित हुआ है. मगर अन्य देश हमसे भी ज्यादा प्रभावित हुए हैं. उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि एक कारण जो सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है, वह है ये पता लगाना कि ये कहां से आया और कैसे आया? 

चीन के वुहान में कोरोना का पहला मामला 2019 में सामने आया था. ट्रंप आरोप लगाते रहे हैं कि चीन के वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी से कोरोना वायरस लीक हो सकता है. हालांकि अमेरिका के इस आरोप को चीन खारिज करता रहा है.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें