scorecardresearch
 
विश्व

तालिबान पर रूस ने अमेरिका को दिया था ये बड़ा ऑफर

Afghanistan
  • 1/8

तालिबान अफगानिस्तान में काफी मोर्चों पर आगे निकल गया है, जैसे ही अमेरिकी फौज अफगानिस्तान से बाहर निकली तालिबान ने इसे अवसर बनाते हुए अफगानी सेनाओं से युद्ध छेड़ दिया. हालांकि अफगानी राष्ट्रपति अशरफ गनी दावा कर रहे हैं कि जरूर तालिबान ने कुछ लड़ाइयां जीती हैं लेकिन अंततः युद्ध अफगानी सेना ही जीतेगी.

(Photo- Getty Images)

US Army
  • 2/8

अफगान युद्ध के बीस साल पूरे होने पर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अचानक अमेरिकी सैनिकों को अफगानिस्तान से वापस बुला लिया. जिसके बाद तालिबान ने अफगान में कहर बरपाना शुरू कर दिया. लेकिन एक रूसी अख़बार ने दावा किया है कि रूस ने अमेरिका को मध्य एशिया (Central Asia) में स्थित अपने मिलिट्री बेसेज (Russian military bases) यूज करने का ऑफर दिया था. जहां से वो अफगानिस्तान संबंधी सूचना इकट्ठी कर सके.

(Photo- Getty Images)

Putin Palace
  • 3/8

पिछले महीने जून में रूसी राष्ट्रपति पुतिन और अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन के बीच जेनेवा में पहली मुलाकात हुई थी, इसी दौरान पुतिन ने अमेरिकी राष्ट्रपति को ऑफर दिया था कि वो मध्य एशिया में स्थित रूसी सैन्य ठिकानों का उपयोग अफगानिस्तान संबंधी सूचनाएं एकत्रित करने के लिए कर सकता है.

(Photo- Getty Images)

Afghan map
  • 4/8

जिस तरह तालिबान ने अफगान के बड़े हिस्से पर कब्जा करना शुरू कर दिया. इस बात ने रूस को भी चिंतित कर दिया है. रूस को ये भी डर है कि अफगानिस्तान से भागकर आए शरणार्थी कहीं मध्य एशिया के उसके दक्षिणी क्षेत्र में अस्थिरता पैदा न कर दें.

(Photo- Getty Images)

Putin
  • 5/8

रूसी अख़बार कोमर्सेंट (Kommersant newspaper) ने दावा किया है कि वाशिंगटन और मोस्को के बीच ठंडे पड़े रिश्तों के बीच, पुतिन ने 16 जून को जेनेवा में बिडेन के साथ हुई बातचीत में प्रस्ताव दिया था कि अफगान समस्या में वे आपसी समन्वय कर सकते हैं और तजाकिस्तान (Tajikistan) एवं किर्गिस्तान (Kyrgyzstan) में स्थित रूसी सैन्य ठिकानों का प्रैक्टिकल यूज (Practical use) कर सकते हैं.

Photo- Reuters 

joe Biden
  • 6/8

रूसी अखबार ने कहा है कि इस डील के तहत ड्रोन से जुटाई सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जा सकता था. लेकिन अमेरिकी साइड से कोई ठोस प्रतिक्रिया नहीं दी गई.

(Photo- Getty Images)

Taliban
  • 7/8

इससे पहले समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने भी एक रिपोर्ट की थी कि बाइडेन प्रशासन कजाखस्तान (Kazakhstan), तजाकिस्तान (Tajikistan) और उज्बेकिस्तान (Uzbekistan) से बातचीत कर रहा है ताकि उन हजारों अफगानियों को बसाया जा सके जो अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना के साथ काम आकर रहे थे और अब तालिबान से खतरे में जी रहे हैं.

(Photo- Getty Images)

putin
  • 8/8

अफगान में आज जो हालत बने हैं उसे लेकर रूस ने अमेरिका को ही जिम्मेदार माना है और अमेरिकी सैनिकों की निकासी को जल्दबाजी करार दिया है. हाल ही में रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव (Russia's Foreign Minister Sergei Lavrov) ने शुक्रवार के दिन एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा है कि यूएस और नाटो की सेनाओं की निकासी ने अफगानिस्तान में राजनीतिक और सैन्य स्थिति में अनिश्चितता ला दी है.