scorecardresearch
 

वोदका ने बनाया अंधा, व्हिस्की ने लौटायी रोशनी

न्यूजीलैंड में वोदका पी कर देखने की शक्ति खो चुके 65 वर्षीय व्यक्ति की रोशनी व्हिस्की की एक बोतल से लौट आयी. मधुमेह की दवाओं के साथ वोदका की ‘प्रतिक्रिया’ के कारण उनकी आंखों की रोशनी चली गई थी.

न्यूजीलैंड में वोदका पी कर देखने की शक्ति खो चुके 65 वर्षीय व्यक्ति की रोशनी व्हिस्की की एक बोतल से लौट आयी. मधुमेह की दवाओं के साथ वोदका की ‘प्रतिक्रिया’ के कारण उनकी आंखों की रोशनी चली गई थी.

न्यू प्लीमाउथ के वेस्टर्न इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में केटरिंग प्रशिक्षक डेनिस डुथी ने अपने माता-पिता की शादी की 50वीं सालगिरह पर थोड़ी शराब पी कर खुशियां मनाने की योजना बनायी. वोदका पीने के बाद वह अपने कमरे में चले गए जहां उन्हें पता चला कि उनकी दृष्टि चली गई है.

‘द न्यूजीलैंड हेराल्ड’ की खबर के अनुसार, डेनिस ने अखबार से कहा कि मुझे लगा कि अंधेरा हो गया है, कई बार मुझे परेशानी हुई. उस वक्त दोपहर के साढ़े तीन बजे थे. मैं पूरे कमरे में स्विच खोजते हुए भटक रहा था. मैं पूरी तरह अंधा हो गया था.

जब डेनिस अस्पताल पहुंचे तो डॉक्टरों ने तय किया कि उन्हें चिकित्सा में उपयोग किए जाने वाले इथेनॉल की जरूरत है लेकिन अस्पताल में उनकी पूरी डोज नहीं थी. ऐसे में अस्पताल ने पास की शराब की दुकान से व्हिस्की की एक बोतल मंगवायी और एक ट्यूब की मदद से डेनिस की पेट में डाला. डेनिस ने कहा कि मैं पांच दिन बाद उठा और आंख खोलने पर मैं सबकुछ देख सकता था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×