scorecardresearch
 

संजय सिन्हा से सुनिए अच्छाई और बुराई के फर्क की कहानी

संजय सिन्हा से सुनिए अच्छाई और बुराई के फर्क की कहानी

संजय सिन्हा आज अपनी कहानी 'झूठ की कसक' सुना रहे हैं. वो कहते हैं कि अच्छा करने के लिए मन में विश्वास ठान लेना होता है और वही काम अच्छा है जिसकी दूसरे तारीफ करें, जिसके जरिए आपको खुशी मिले. अच्छाई और बुराई में बुनियादी अंतर यही है कि अच्छे काम को सभी खुले आम स्वीकार करते हैं जबकि सभी अपने बुरे कामों को छुपाते हैं. आगे आप सुनिए पूरी कहानी...

Sanjay Sinha is telling a story today. He says good work is exactly the same as all the praise. When a person doing a good thing he or she accepts it openly. The bad person hides his or her work. Watch this video to see the full story.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें