scorecardresearch
 

मैं भाग्य हूं: बुरे कर्मों से बिगड़ता है भाग्य

मैं भाग्य हूं: बुरे कर्मों से बिगड़ता है भाग्य

अच्छे और बुरे कर्मों से भाग्य बनता या बिगड़ता है. हमारी कई छोटी-छोटी गलत आदतें हमारे जीवन की बड़ी बुराई की जड़ बन जाती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें