scorecardresearch
 

Adhik Maas 2020 की क्या है महिमा? भूलकर न करें ये काम

Adhik Maas 2020 की क्या है महिमा? भूलकर न करें ये काम

क‍िस्मत कनेक्शन में आज बात करेंगे अधिक मास की महिमा के बारे में. हिन्दू पंचांगों में 12 मास होते हैं. यह सूर्य की संक्रांति और चन्द्रमा पर आधारित होते हैं. हर वर्ष सूर्य और चन्द्र मास में लगभग 11 दिनों का अंतर आ जाता है. तीन वर्ष में यह अंतर लगभग एक माह का हो जाता है. इसलिए हर तीसरे वर्ष अधिक मास आ जाता है. इसको लोकाचार में मलमास भी कहा जाता है. इस बार आश्विन में अधिक मास रहेगा. यह 18 सितम्बर 2020 से 16 अक्टूबर तक रहेगा. पंड‍ित शैलेंद्र पांडे बताएंगे क‍ि क्या होता है अधिक मास? अधिक मास का महत्व क्या है? अधिक मास में कौन कौन से कार्य न करें? अधिक मास में कौन कौन से कार्य करना लाभदायक है? कैसे अधिक मास में ग्रहों को अनुकूल बनायें और ईश्वर की कृपा प्राप्त करें? ज्योत‍िषी शैलेंद्र पांडे बात आपकी राशियों की भी करेंगे, आपके सवालों का जवाब भी देंगे. लेक‍िन कार्यक्रम की शुरुआत में जानेंगे गुडलक.

In this episode of Kismat Connection astrologer Shailendra Pandey will tell you about the significance of Adhik Maas. Adhikamas is also known as Malamas and Purushottam Maas. There is no auspicious work in this month. Also, know the exact prediction of your zodiac sign and good luck tips to make your day better.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें