scorecardresearch
 

चाल चक्र

द्वादश ज्योतिर्लिंग पूरी करेंगे मनोकामना, जानें पूजा के नियम

30 जुलाई 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि क्या हैं ज्योतिर्लिंग और क्या है इनकी उपासना का महत्व. साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार भगवान शिव की साकार रूप में पूजा लिंग स्वरुप में सबसे ज्यादा होती है. जहाँ इस लिंग रूप में भगवान ज्योति के रूप में विद्यमान रहते हैं उसको ज्योतिर्लिंग कहते हैं. भगवान शिव के द्वादश ज्योतिर्लिंग हैं. अन्य शिवलिंगों की पूजा की तुलना में ज्योतिर्लिंगों की पूजा करना अधिक उत्तम होता है. अगर नित्य प्रातः केवल शिवलिंगों के नाम का स्मरण किया जाए तो, माना जाता है कि इससे सात जन्मों के पाप तक धुल जाते हैं. देखें वीडियो.

किस प्रकार से सावन में शिव पूजन से अशुभ दशाओं का निवारण होगा?

29 जुलाई 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि किस प्रकार से सावन में शिव पूजन से अशुभ दशाओं का निवारण होगा? साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार पूरा श्रावण मास जप-तप और ध्यान के लिए उत्तम होता है. शिव ही सृष्टि के नियंत्रक हैं. उनकी उपासना से हर चीज़ को नियंत्रित किया जा सकता है. किसी भी ग्रह-नक्षत्र को आसानी से शांत भी किया जा सकता है. सावन में थोड़े से प्रयास से किसी भी ग्रह की अशुभ दशा के प्रभाव को कम किया जा सकता है. देखें वीडियो.

चाल चक्र: क्या करें जब कुंडली में हों बुरे योग? जानें

28 जुलाई 2021

तेज के खास कार्यक्रम चाल चक्र में पंडित शैलेंद्र पांडे बताएंगे जब कुंडली में हों बुरे योग हों तो ऐसे में हमें क्या करना चाहिए. ज्योतिष में कुंडलियां तब अच्छी होती हैं जब उनके अंदर अच्छे योग होते हैं और जीवन में कुंडलियों के परिणाम तब बुरे होते हैं जब उनके अंदर बुरे योग पाए जाते हैं. अगर कुंडली में कोई दुर्योग है तो उसकी वजह से जीवन में बहुत सारी रुकावटें आती हैं और यह दिक्कतें आपके जीवन में परेशानियां बढ़ा देती हैं. तो आज पंडित शैलेंद्र पांडे बताएंगे की सावन के इस पावन महीने में आप अपनी कुंडली के दुर्योगों को भगवान शिव की कृपा से कैसे समाप्त कर सकते हैं. चाल चक्र में आज क्या खास है? देखें ये एपिसोड.

Sawan 2021: सावन के महीने से धन समृद्धि का क्या है संबध?

27 जुलाई 2021

आज चाल चक्र में बात करेंगे कि सावन के महीने से धन-समृद्धि प्राप्ति का क्या सम्बन्ध है. सावन के महीने में हर तरह की ऊर्जा का स्तर घट जाता है जिससे सफलता के रास्ते बंद हो जाते हैं. लगभग हर व्यक्ति को धन और स्वास्थ्य की समस्याओं का सामना करना पड़ता है. इसलिए इस महीने में धन-समृद्धि प्राप्ति के उपाय करना आवश्यक हो जाता है. सावन के महीने के अधिष्ठाता भगवान शिव होते हैं जिनकी पूजा उपासना से जीवन मैं धन की सारी समस्याओं को हल किया जा सकता है. इस वीडियो में हम आपको बताएंगे कुछ ऐसे उपाय सावन के महीने में धन की समस्या से दूर रहेंगी. ज्यादा जानकारी के लिए देखें वीडियो.

सावन में भोलेनाथ पर चढ़ाएं बेलपत्र, मिलेंगे चमत्कारी परिणाम

25 जुलाई 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि सावन के पावन महीने में बेलपत्र के अद्भुत प्रयोग से भगवान भोलेनाथ को आप कैसे प्रसन्न कर सकते हैं. साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार इस बार सावन का महीना 25 जुलाई से 22 अगस्त तक रहेगा. ऐसे में आप इस महीने में भगवान शिव की पूजा कर वरदान पा सकते हैं. बेलपत्र का सावन महीने में काफी महत्तव है. भगवान शिव की पूजा में बेलपत्र के अदभुत प्रयोग होते हैं. बिना बेलपत्र के शिव जी की पूजा सम्पूर्ण नहीं हो सकती. बेलपत्र के दैवीय प्रयोग के अलावा,औषधीय प्रयोग भी होते हैं. सावन के महीने में भगवान् शिव की पूजा बेलपत्र के साथ करने से चमत्कारी परिणाम मिल सकते हैं. देखें वीडियो.

चाल चक्र: क्या है सावन के महीने की महिमा?

24 जुलाई 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि क्या है सावन के महीने की महिमा? सावन में कैसे चमकेगा भाग्य? साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार यह महीना हिन्दुओं के पवित्र चातुर्मास में से एक माना जाता है. इस महीने का सम्बन्ध पूर्ण रूप से शिव जी से माना जाता है. इसी महीने मैं समुद्र मंथन हुआ था, और भगवान शिव ने हलाहल विष का पान किया था. तपस्या, साधना और वरदान प्राप्ति की लिये यह महीना विशेष शुभ है. इस बार सावन का महीना 25 जुलाई से 22 अगस्त तक रहेगा. देखें वीडियो.

चाल चक्र: गुरु पूर्णिमा का महत्व क्या है? जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि

23 जुलाई 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि गुरु पूर्णिमा पर कैसे मिलेगी गुरु कृपा? गुरु पूर्णिमा का महत्व क्या है? और कैसे करें गुरु की उपासना? साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के पर्व के रूप में मनाया जाता है. इस दिन महर्षि वेदव्यास का जन्म भी हुआ था, अतः इसे व्यास पूर्णिमा भी कहते हैं. इस दिन शिष्य अपने गुरु की विशेष पूजा करता है , और यथाशक्ति दक्षिणा,पुष्प,वस्त्र आदि भेंट करता है. शिष्य इस दिन अपनी सारे अवगुणों को गुरु को अर्पित कर देता है, तथा अपना सारा भार गुरु को दे देता है. इस बार गुरु पूर्णिमा का पर्व 24 जुलाई को मनाया जाएगा. देखें वीडियो.

विवाह का बृहस्पति से क्या है संबंध? कैसे करता है प्रभावित? जानें

22 जुलाई 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि ज्योतिष में बृहस्पति का स्थान क्या है और क्या है इसका महत्व? महिलाओं और पुरुषों के विवाह को बृहस्पति कैसे प्रभावित करता है? साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार नवग्रहों में बृहस्पति को गुरु और मंत्रणा का कारक माना जाता है. विवाह के मामले में बृहस्पति की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है. बृहस्पति कमजोर हो तो विवाह में खूब विलम्ब होता है. साथ ही वैवाहिक जीवन में कष्ट भोगना पड़ता है. देखें वीडियो.

घर की छोटी-छोटी चीज़ें कैसे किस्मत पर डालती हैं असर?

21 जुलाई 2021

आज किस्मत कनेक्शन में बात करेंगे कि कैसे घर की छोटी-छोटी चीजें आपकी किस्मत पर असर डालती हैं. घर की हर छोटी चीज़ का अपना महत्व भी है और योगदान भी . ये छोटी-छोटी चीज़ें घर मे सम्पन्नता और समृद्धि भी देतीं हैं और मुश्किलें भी बढ़ाती हैं. झाड़ू घर की इतनी महत्वपूर्ण चीज़ है कि इससे घर की आर्थिक स्थिति देखी जाती है. झाड़ू का अनादर करना , पैर से लगना ,फेंक देना और टूटी झाड़ू रखना घर की आर्थिक स्थिति को ख़राब करता है. इस वीडियो में जानें ऐसी कई जानकारी.

देवशयनी एकादशी: चार महीने तक शुभ कार्य क्यों बंद होने वाले हैं?

20 जुलाई 2021

आज चाल चक्र में बात करेंगे देवशयनी एकादशी के बारे में. इस एकादशी से अगले चार माह तक श्रीहरि विष्णु योगनिद्रा मे चले जाते हैं. इसलिए अगले चार माह तक शुभ कार्य वर्जित हो जाते हैं. इसी समय से चातुर्मास की शुरुआत भी हो जाती है. इस एकादशी से तपस्वियों का भ्रमण भी बंद हो जाता है. इन दिनों में केवल ब्रज की यात्रा की जा सकती है. इस बार देवशयनी एकादशी 21 जुलाई को है. हम आपको बताएंगे कि क्यों देवशयनी एकादशी के दौरान शुभ कार्य बंद कर दिए जाते हैं. ज्यादा जानकारी के लिए देखें चाल चक्र.

चाल चक्र: पूजन सामग्री का विशेष धार्मिक महत्व क्या है?

19 जुलाई 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि क्यों जलाते हैं पूजा में धूप? क्यों दीपक का जलाना होता है जरूरी? क्यों अर्पित करते हैं फूल और प्रसाद? साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार व्यक्ति के मन को एकाग्र करने और तनाव घटाने के लिए सुगंध का प्रयोग किया जाता है. इसीलिए पूजा के दौरान अगरबत्ती या धूपबत्ती का प्रयोग किया जाता है. अगरबत्ती की तुलना में धूपबत्ती का प्रयोग ज्यादा अच्छा माना जाता है. सामान्यतः पूजा के लिए चन्दन की धूपबत्ती का प्रयोग करें. देखें वीडियो.

आज सूर्य देंगे विजय का वरदान, ऐसे करें आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ

18 जुलाई 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि आज आप कैसे पा सकते हैं सूर्य देव से विजय का वरदान. और क्या है आदित्य हृदय स्तोत्र, कैसे करें पाठ. साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार आदित्य हृदय स्तोत्र मुख्य रूप से श्री वाल्मीकि रामायण के युद्धकाण्ड का एक सौ पांचवां सर्ग है. भगवान राम को युद्ध में विजय प्राप्त करने के लिए, अगस्त्य ऋषि द्वारा इस स्तोत्र का वर्णन किया गया था. सूर्य के समान तेज प्राप्त करने और युद्ध तथा मुकदमों में विजय प्राप्त करने के लिए इसका पाठ अमोघ है. इसके पाठ के कुछ विशेष नियम हैं. जिनका पालन न करने से इसका फल नहीं मिलता. देखें वीडियो.

चाल चक्र: कौन सी खास बातों से कोई बनता है भाग्यशाली?

17 जुलाई 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि हर व्यक्ति के अन्दर कौन सी ऐसी ख़ास बात होती है जिससे वह भाग्यशाली बन सकता है? किस तरह जानें कि आप के अन्दर कौन सी ख़ास बात है? साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार हर व्यक्ति पांच तत्वों तथा नौ ग्रहों से नियंत्रित होता है. हर तत्त्व की एक विशेषता होती है और जब यही तत्त्व प्रधान हो जाता है तो व्यक्ति के अन्दर ख़ास बात पैदा हो जाती है. अगर व्यक्ति के अन्दर ख़ास बात हो और साथ में ग्रहों का साथ मिल जाय तो व्यक्ति अपनी विशेषता से महान बन जाता है. देखें वीडियो.

चाल चक्र: कर्क संक्रांति पर मिलेगी सूर्य देव की कृपा

16 जुलाई 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि क्या होती है संक्रांति और क्या है कर्क संक्रांति? किस राशि पर इस परिवर्तन का क्या प्रभाव होगा? साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार सूर्य का किसी राशी विशेष पर भ्रमण करना संक्रांति कहलाता है. सूर्य हर माह में राशी का परिवर्तन करता है,इसलिए कुल मिलाकर वर्ष में बारह संक्रांतियां होती हैं. परन्तु दो संक्रांतियां सर्वाधिक महत्वपूर्ण होती हैं-मकर संक्रांति और कर्क संक्रांति. सूर्य जब कर्क राशि में जाता है तब कर्क संक्रांति होती है. देखें वीडियो.

चाल चक्र: ग्रहों के अशुभ दशा को ऐसे करें ठीक, मिलेगा फायदा

15 जुलाई 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि ग्रहों की अशुभ दशा को कैसे करें ठीक. साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार सूर्य की दशा बुरी है तो, सूर्य की ही उपासना करें. नित्य प्रातः सूर्य देव को जल अर्पित करें. "ॐ आदित्याय नमः" का जप करें, या गायत्री मन्त्र का जप करें. रविवार को गुड़ का दान करें. चन्द्रमा की दशा खराब है तो नित्य प्रातः शिव जी को जल अर्पित करें. सोमवार को सफ़ेद वस्तु का दान करें. मोती भूलकर भी धारण न करें. मंगल, बुध, शुक्र और बृहस्पति के बारे में देखें इस वीडियो में.

कौन से होते हैं ज्योतिष के पांच महाशुभ योग, देखें चाल चक्र

14 जुलाई 2021

आज चाल चक्र में बात करेंगे ज्योतिष के पांच महाशुभ योग के बारे में. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुछ ही ऐसे भाग्यवान लोग होते है जिनकी जन्मकुंडली जीवन की सभी सुख सुविधाओं को भोगने के पंच महापुरुष योग बनता है. जिस किसी भी व्यक्ति की कुंडली में ये योग बनते हैं वह सभी प्रकार की सुख सुविधाओं का अधिकारी बन जाता है. हंस योग, शश योग, मालव्य योग, रूचक योग और भद्र योग होते हैं पांच महाशुभ योग. इस वीडियो में हम आपको बताएंगे कि कौन से होते हैं महाशुभ योग. साथ ही बात करेंगे आपके दैनिक राशिफल की और आपको बताएंगे कि कैसा रहेगा आपका दिन.

किन ग्रहों की वजह से बनते हैं नौकरी के योग?

13 जुलाई 2021

आज चाल चक्र में बात करेंगे कि आखिर किन ग्रहों की वजह से नौकरी के योग बनते हैं. वैसे तो नौकरी का मुख्य कारक शनि होता है पर नौकरी पाने में अन्य पाप ग्रहों की भी भूमिका होती है. कुंडली का छठवां और ग्यारहवां भाव नौकरी से सीधे संबधित होते हैं. इनके स्वामी भी नौकरी पाने में बड़ी भूमिका निभाते हैं. कुंडली में अग्नि और पृथ्वी राशियां नौकरी पाने में खूब सहायता करती हैं. हम आपको बताएंगे कि कब आपको सरकारी नौकरी मिल सकती है. इस वीडियो में पंडित शैलेंद्र पाण्डेय नौकरी से जुड़े आपके सारे सवालों के जवाब देंगे. ज्यादा जानकारी के लिए देखें वीडियो.

चाल चक्र: जानिए कौन हैं भगवान जगन्नाथ और क्या है रथयात्रा?

12 जुलाई 2021

चाल चक्र के इस एपिसोड में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि कौन हैं भगवान जगन्नाथ और क्या है रथयात्रा. और साथ में जानें भगवान को प्रसन्न करने की विधि. ज्योतिष के अनुसार भगवान जगन्नाथ जी की रथयात्रा आषाढ़ शुक्ल द्वितीया को जगन्नाथपुरी में आरंभ होती है. रथयात्रा में भगवान जगन्नाथ वर्ष में एक बार जनसामान्य के बीच जाते हैं. इसलिए इसका इतना ज्यादा महत्व है. भगवान जगन्नाथ जी की रथयात्रा आषाढ़ शुक्ल द्वितीया को जगन्नाथपुरी में आरंभ होती है, और दशमी तिथि को समाप्त होती है. देखें वीडियो.

सर दर्द से हैं परेशान? पंडित शैलेंद्र से जानिए इसका समाधान

10 जुलाई 2021

तेज के इस खास कार्यक्रम में हम आपके ल‍िए लेकर आते हैं ज्योत‍िषीय सलाह जिसमें आपकी जिंदगी को आसान बनाने के लिए बताते हैं आसान उपाय. आजकल सर दर्द की समस्या बहुत ही आम हो गई है लेकिन अक्सर इसका कोई समाधान नहीं मिल पाता है तो ज्योत‍िषी शैलेंद्र पांडे की सलाह के अनुसार, अगर आप सर दर्द से परेशान हैं तो सेब के सिरके को एक गिलास पानी में डालकर पीएं आपको इससे शीघ्र ही लाभ मिलेगा. देखें ये वीडियो.

विवाह होने में आ रही बाधा? पंडित शैलेंद्र से जानिए समाधान

10 जुलाई 2021

शादी का सीजन चल रहा है और हर कहीं मांगलिक कार्यक्रम हो रहे हैं, लेकिन फिर भी कई लोग ऐसे हैं, जिनको योग्य वर-वधु नहीं मिल रहे हैं. किसी ना किसी कारण विवाह में बाधा आ जाती है या फिर किसी कारणवश विवाह में देरी हो रही है तो इस वीडियो में पंडित शैलेंद्र पांडेय इस समस्याओं से निजात पाने के तरीके बता रहें हैं. ज्योतिष के ये उपाय आपकी मदद कर सकते हैं. ये उपाय विवाह संबंधित अड़चन को खत्म कर सकते हैं और घर में जल्द ही मंगल कार्य संपन्न होते हैं. देखें ये वीडियो.

चाल चक्र: कौन सा ग्रह जीवन में सुख के लिए जिम्मेदार होता है?

09 जुलाई 2021

चाल चक्र के इस विशेष एपिसोड में ज्योतिष सैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि कैसे मिलेगा जिंदगी में सुख? और साथ में जानें- कौन सा ग्रह है जिम्मेदार, और कैसे करें मजबूत. ज्योतिष के अनुसार ज्योतिष में वैभव, ऐश्वर्य और सुख के लिए मुख्य रूप से शुक्र जिम्मेदार होता है. किसी भी व्यक्ति के जीवन में बिना शुक्र के, न तो अच्छा वैवाहिक जीवन मिल सकता है, न ही किसी तरह का सुख मिल सकता है. अन्य ग्रह सुविधा और साधन तो दे सकते हैं, पर सुख नहीं दे सकते. साथ में राशिनुसार जानें कैसा रहेगा आपका आज का दिन. देखें वीडियो.