scorecardresearch
 

चाल चक्र

गणेश जी का कौन सा स्वरूप होता है सबसे मंगलकारी? जानें महत्व

18 अगस्त 2021

आज चाल चक्र में पंडित शैलेंद्र पाण्डेय बताएंगे कि गणेश जी का सबसे मंगलकारी स्वरूप के बारे में. गणेश जी के मुख्य रूप से आठ स्वरुप माने जाते हैं. इन स्वरूपों में जीवन की हर समस्या का समाधान मौजूद रहता है. अष्टविनायक स्वरुप में सिद्धि विनायक सबसे ज्यादा मंगलकारी माने जाते हैं. सिद्धटेक नामक पर्वत पर इनका प्राकट्य होने के कारण इनको सिद्धि विनायक कहा जाता है. मात्र सिद्धि विनायक की उपासना से हर संकट और बाधा को नष्ट किया जा सकता है. इस वीडियो में जानें इनका पौराणिक इतिहास और कैसा है भगवान सिद्धि विनायक का स्वरुप?

मंगल दे सकता है कष्ट, देखें शिव कृपा से कैसे होगा दूर

17 अगस्त 2021

आज चाल चक्र में पंडित शैलेंद्र पाण्डेय बताएंगे कि शिव कृपा से कैसे मंगल की समस्याएं दूर होंगी. मंगल ग्रहों में सेनापति माना जाता है. शक्ति,ऊर्जा,आत्मविश्वास और पराक्रम का स्वामी है. मंगल मकर राशी में सबसे ज्यादा मजबूत होता है और कर्क राशी में सबसे ज्यादा कमजोर. मंगल जीवन में कई प्रकार की समस्या पैदा कर सकता है. आज इस वीडियो में हम आपको बताएंगे मंगल से होने वाली समस्या और इनके उपाय. ज्यादा जानकारी के लिए देखें वीडियो.

सावन के सोमवार को करें ये विशेष उपाय, पूरी होंगी मनोकामनाएं

16 अगस्त 2021

आज सावन का आखिरी सोमवार है. शास्त्रों में बताया गया है कि सावन के सोमवार का बहुत महत्व है और इस दिन पूजा करने से अधिक लाभ मिलता है. इस वीडियो में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि सावन के अंतिम सोमवार को कौन से विशेष उपाय करें की भगवान शिव आपसे प्रसन्न होकर आपकी सारी मनोकामनाएं पूर्ण करें. ज्योतिष के अनुसार- भगवान शिव की पूजा के लिए सावन के सोमवार बड़े महत्वपूर्ण होते हैं. इसमें मुख्य रूप से शिव लिंग की पूजा होती है और उस पर जल तथा बेल पत्र अर्पित किया जाता है. अंतिम सोमवार पर भी सोम प्रदोष का संयोग बन रहा है. जिसके कारण हर तरह की कामनाएं पूरी की जा सकेंगी. साथ में जानें, आज का आपका दिन कैसा रहेगा, दिशाशूल, नक्षत्र-राहुकाल. देखें वीडियो.

स्वतंत्रता दिवस पर जानें भारत की कुंडली में क्या है?

15 अगस्त 2021

इस साल 15 अगस्त के दिन देश अपना 75वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है. इस वीडियो में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि आजाद भारत की कुंडली क्यों है खास, देश के किस्मत में क्या है. स्वतंत्र भारत की कुंडली 15 अगस्त 1947 मध्य रात्री की है. इसमें लग्न वृष तथा राशि कर्क है. जन्म नक्षत्र पुष्य है. जो शनि का नक्षत्र है. तृतीय भाव में तमाम ग्रहों की युति से लगातार उतार चदाव दिखाता है. परन्तु स्थिर लग्न और शनि की कृपा होने के कारण भारत अखंड बना रहा. भारत वर्ष की कुंडली का प्राण है शनि जो अपनी मजबूती में भारत को उन्नति तक पहुंचा कर ही रहेगा. साथ में जानें, आज का आपका दिन कैसा रहेगा, दिशाशूल, नक्षत्र-राहुकाल. देखें वीडियो.

शनि कृपा से हो जाएंगे मालामाल, सावन के शनिवार पर करें ये उपाय

14 अगस्त 2021

आज सावन के पावन महीने का तीसरा शनिवार है. ऐसे तो भोलेनाथ की कृपा पाने के लिए सावन का हर दिन खास होता है. लेकिन, सावन के शनिवार का धार्मिक महत्‍व बहुत है. शनि दोष से निजात पाने के लिए और कृपा पाने के लिए शिवलिंग पर विशेष चीजें अर्पित किया जाता है. इस वीडियो में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि सावन के तीसरे शनिवार पर कैसे करें पूजा. और कौन सी खास बातों का ध्यान रखना है. साथ में जानें, आज का आपका दिन कैसा रहेगा, दिशाशूल, नक्षत्र-राहुकाल. देखें वीडियो.

नागपंचमी पर ये उपाय दूर करेंगे राहु-केतु की समस्या

13 अगस्त 2021

आज नाग पंचमी है. नाग पंचमी का त्यौहार श्रावण शुक्ल के पंचमी तिथि को मनाया जाता है. सनातन धर्म सर्पों की पूजा को शुभ माना जाता है. नागों की पूजा कर आध्यात्मिक शक्ति, सिद्धि और अपार धन की प्राप्ति की जा सकती है. ऐसी मान्यता है कि आज नागदेव की पूजा करने से कुंडली के सारे दोष खत्म हो जाते हैं. इस वीडियो में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि नागपंचमी पर वो कौन से उपाय करें की राहु-केतु की समस्या दूर हो जाए. साथ में जानें, आज का आपका दिन कैसा रहेगा, दिशाशूल, नक्षत्र-राहुकाल. देखें वीडियो.

सावन में रामचरितमानस के पाठ से मिलेगी शिव कृपा?

12 अगस्त 2021

रामचरितमानस के पाठ से भगवान शिव की भी कृपा बरसती है. और सावन के महीने में पाठ करने से विशेष लाभ मिलता है. पाठ के पूर्व शिव की उपासना अवश्य करें. इस वीडियो में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि शिव को प्रसन्न करने के लिए कौन सा पाठ जरूर करें. महान कवि तुलसीदास की रचना में कई अनमोल बातें लिखी हैं. जो कि जीवन के कई मोड़ पर मनुष्य को मदद करती है. साथ में जानें, आज का आपका दिन कैसा रहेगा, दिशाशूल, नक्षत्र-राहुकाल. देखें वीडियो.

हरियाली तीज पर पूजन के लिए इन बातों का रखें ध्यान

11 अगस्त 2021

आज चाल चक्र में पंडित शैलेंद्र पांडेय बताएंगे हरियाली तीज की शाम का महत्व. हरियाली तीज मुख्यत मनचाहे वर की प्राप्ति का पर्व है. इस दिन महिलाएं भगवान् शिव और माँ पार्वती की पूजा करती हैं. इस दिन उपवास रखना लाभकारी होता है. अगर व्रत न रख पायें तो केवल सात्विक आहार ग्रहण करें. साथ ही इस दिन महिलाओं को श्रृंगार जरूर करना चाहिए. इस दिन माँ पार्वती को श्रृंगार की सामग्री जरूर अर्पित करें. ज्यादा जानकारी के लिए देखें वीडियो.

क्या है "महामृत्युंजय" मंत्र का महत्व और इसके नियम? जानें

10 अगस्त 2021

चाल चक्र में आज के खास एपिसोड में ज्योत‍िष‍ शैलेंद्र पांडे ने बताया कि क्या है "महा-मृत्युंजय" मंत्र का महत्व और इसके नियम. ज्योत‍िष‍ शैलेंद्र पांडे ने बताया कि इसमें भगवान शिव के महामृत्युंजय स्वरुप से आयु रक्षा और रक्षा की प्रार्थना की गई है. इस मंत्र का दीर्घ या लघु स्वरुप जाप करने से व्यक्ति हमेशा सुरक्षित रहता है. इस मंत्र को जाप करने की सावधानियां या नियम हैं,जिनका पालन करने से यह ज्यादा प्रभावशाली हो जाता है. यह कई प्रकार से प्रयोग में लाया जाता है , सामान्य भी और विशेष रूप से भी. कुंडली के कुछ विशेष दोषों को दूर करने में महामृत्युंजय मंत्र ही कारगर हो सकता है और कोई मंत्र नही. चाल चक्र में आज क्या खास है? देखें ये एपिसोड.

भोलेनाथ के स्वरूपों की उपासना के लिए सावन का तीसरा सोमवार उत्तम

09 अगस्त 2021

सावन का पवित्र महीना का आज तीसरा सोमवार है. सोमवार इस सावन मास का सबसे अहम दिन माना जाता है. इस वीडियो में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि सावन के सोमवार को क्या विशेष उपाय करें की आप पर भोले बाबा की कृपा बरसे. ज्योतिष के अनुसार- शिव जी सृष्टि के तीनों गुणों को नियंत्रित करते हैं. तीनों स्वरूपों की उपासना के लिए सावन का तीसरा सोमवार सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होता है. तीनों स्वरूपों की उपासना करके सावन के तीसरे सोमवार को मनोकामनाओं की पूर्ति की जा सकती है. शिव जी के स्वरूपों की उपासना अगर प्रदोष काल में करें तो सर्वोत्तम होगा. देखें वीडियो.

भगवान शिव की एक ही ज्योति के दो स्वरूप, जानें क्या है महिमा

08 अगस्त 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि शिव जी की एक ही ज्योति के दो स्वरूप के बारे में. और जानेंगे क्या है इसकी महीमा. साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार, शिव जी के सारे ज्योतिर्लिंग आपस में रूप से जुड़े हुए हैं. परन्तु शिव जी के दो ज्योतिर्लिंग आपस में विशेष रूप से जुड़े हुए हैं. एक है केदारनाथ और दूसरा है पशुपति नाथ. ये शिव जी की एक ही ज्योति के दो भाग हैं. देखें वीडियो.

सावन के शनिवार की पूजा का है खास महत्व, इन उपायों से मिलेगा लाभ

07 अगस्त 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि सावन के शनिवार की खास बातें क्या होती हैं और क्या है इस बार दूसरे शनिवार की खास बात क्या है? साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार, सावन में आम तौर पर हर तरह की ऊर्जा की कमी होती है. इसलिए इस समय आम आदमी को स्वास्थ्य और धन की समस्याओं का सामना करना पड़ता है. सावन का हर शनिवार उपासना करने पर व्यक्ति को अपार धन और संपत्ति दे सकता है. इसीलिए सावन के हर शनिवार को संपत शनिवार भी कहते हैं. इस बार शनिवार की रात्रि को अमावस्या का संयोग भी बन रहा है. देखें वीडियो.

सावन शिवरात्रि आज, शिव कृपा पाने के लिए इस समय करें पूजा

06 अगस्त 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि सावन की शिवरात्रि के समय भोले नाथ को प्रसन्न करने के लिए पुजा का सबसे उत्तम समय क्या है. और पूजा विधि क्या है. साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार, शिवरात्रि हिन्दू परंपरा का एक बहुत बड़ा पर्व है. माना जाता है इस दिन शिव जी का प्राकट्य हुआ था. इस दिन महादेव की उपासना से व्यक्ति को जीवन में सम्पूर्ण सुख प्राप्त हो सकता है. आज पश्चिम दिशा में यात्रा करना उत्तम नहीं होगा. चन्द्रमा आज मिथुन राशि में होगा. आज भगवान शिव का अभिषेक करने से अधिक लाभ मिलेगा और आपकी सारी मनोकामनाएं पूर्ण होंगी. देखें वीडियो.

क्या है शिव पंचाक्षर और ये इतने ज्यादा महत्वपूर्ण क्यों हैं?

05 अगस्त 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि शिव पंचाक्षर की महिमा है और शिव उपासना के पांच अक्षर इतने ज्यादा महत्वपूर्ण क्यों हैं. साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार शिव उपासना के पांच अक्षर हैं 'नमः शिवाय'. शिव जी सृष्टि के नियंत्रक हैं. सृष्टि पांच तत्वों से मिलकर बनी है. इन पांच अक्षरों से सृष्टि के पाँचों तत्वों को नियंत्रित किया जा सकता है. हर अक्षर का अपना अर्थ और महत्व है. जब इन पांचों अक्षरों को एक साथ मिलाकर जप किया जाता है तो सृष्टि पर नियंत्रण किया जा सकता है. देखें वीडियो.

क्या है रुद्राभिषेक और इसकी महिमा? कैसे करें अभिषेक?

04 अगस्त 2021

आज चाल चक्र में बात करेंगे रुद्राभिषेक के बारे में. रूद्र और शिव पर्यायवाची शब्द हैं, रूद्र शिव का प्रचंड रूप है. शिव कि कृपा से समस्त ग्रह बाधाओं का, समस्त समस्याओं का नाश होता है. शिव की कृपा प्राप्त करने के लिए शिवलिंग पर मन्त्रों के साथ विशेष वस्तुएं अर्पित की जाती हैं , इस पद्धति को रुद्राभिषेक कहा जाता है. पंडित शैलेंद्र पाण्डेय बताएंगे कि किस प्रकार से शिवलिंग पर रुद्राभिषेक करना चाहिए? किस पदार्थ से अभिषेक करने से क्या फल प्राप्त होता है? ज्यादा जानकारी के लिए देखें वीडियो.

क्या होता है शाप? किस प्रकार से होगा इसका निवारण?

03 अगस्त 2021

आज चाल चक्र में बात करेंगे शाप के बारे में. हम आपको बताएंगे कि शाप होता क्या है और आम जीवन में इसे कैसे समझा जा सकता है. किसी व्यक्ति के द्वारा किये किये गए दुष्कर्मों के कारण उसे एक अवधि तक इसका फल भोगना पड़ता है. कभी-कभी यह फल इतना ज्यादा कठोर होता है कि जन्म जन्मान्तर तक पीछा करता रहता है. जब किये गए दुष्कर्मों के फल के कारण और निवारण का पता न हो तो यह शाप होता है. पंडित शैलेंद्र पाण्डेय बताएंगे कि कैसे जानें कि आपके जीवन में शाप है या नहीं. किस प्रकार के कर्मों को करने से शाप मिलने की सम्भावना ज्यादा होती है? ज्यादा जानकारी के लिए देखें वीडियो.

बरसेगी भोलेनाथ की कृपा, सावन के दूसरे सोमवार को ऐसे करें पूजा

02 अगस्त 2021

सावन का दूसरा सोमवार आज है. सावन का पवित्र महीना भगवान शिव को समर्पित माना जाता है. चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि सावन के दूसरा सोमवार को सुख-समृद्धि के लिए भगवान भोलेनाथ की पूजा कैसे करेंगे. साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार सावन का दूसरा सोमवार नवमी को साथ लेकर आ रहा है. नवमी तिथि की स्वामी स्वयं मां दुर्गा हैं. हर महीने के दोनों पक्ष की नवमी का महत्व अलग अलग है. नवमी और सोमवार का अदभुत संयोग जीवन की हर मनोकामनाओं को पूरा कर सकता है. इस दिन उपवास रखकर शिव जी और मां पार्वती की पूजा करनी चाहिये. नवमी के दिन शिव जी की पूजा प्रदोष काल में करना सर्वोत्तम होता है. देखें वीडियो.

जानें, अगस्त के महीने में किस्मत का क्या रहेगा हाल

01 अगस्त 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि अगस्त के महीने में किस्मत का हाल क्या रहने वाला है. साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार अगस्त महीने की शुरुआत मेष लग्न में हो रही है. और इस दिन चन्द्रमा मेष राशि में ही विद्यमान हैं. बुध और सूर्य आरम्भ में एक साथ रहेंगे. शनि और सूर्य का दृष्टिगत सम्बन्ध भी बना रहेगा. मंगल और शुक्र भी एक साथ बने रहेंगे. पूरे माह में शनि और बृहस्पति की चाल उलटी रहेगी. देखें वीडियो.

चाल चक्र: सावन के महीने से शनि का सम्बन्ध क्या है?

31 जुलाई 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि सावन के महीने से शनि का सम्बन्ध क्या है? साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार सावन का महीना जल तत्त्व का महीना होता है, इसमें तत्वों का संतुलन बिगड़ जाता है. इस कारण से मन, पाचन तंत्र और स्नायु तंत्र की समस्याएं लगातार व्यक्ति को परेशान करती हैं. अगर हम वायु तत्व और उसके स्वामी शनि को मजबूत कर सकें तो स्वास्थ्य और मन की समस्याओं से मुक्ति पा जाएंगे. इसके लिए कुछ मन्त्रों का जाप करना होगा और कुछ सावधानियां अपनानी होंगी. देखें वीडियो.

द्वादश ज्योतिर्लिंग पूरी करेंगे मनोकामना, जानें पूजा के नियम

30 जुलाई 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि क्या हैं ज्योतिर्लिंग और क्या है इनकी उपासना का महत्व. साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार भगवान शिव की साकार रूप में पूजा लिंग स्वरुप में सबसे ज्यादा होती है. जहाँ इस लिंग रूप में भगवान ज्योति के रूप में विद्यमान रहते हैं उसको ज्योतिर्लिंग कहते हैं. भगवान शिव के द्वादश ज्योतिर्लिंग हैं. अन्य शिवलिंगों की पूजा की तुलना में ज्योतिर्लिंगों की पूजा करना अधिक उत्तम होता है. अगर नित्य प्रातः केवल शिवलिंगों के नाम का स्मरण किया जाए तो, माना जाता है कि इससे सात जन्मों के पाप तक धुल जाते हैं. देखें वीडियो.

किस प्रकार से सावन में शिव पूजन से अशुभ दशाओं का निवारण होगा?

29 जुलाई 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि किस प्रकार से सावन में शिव पूजन से अशुभ दशाओं का निवारण होगा? साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार पूरा श्रावण मास जप-तप और ध्यान के लिए उत्तम होता है. शिव ही सृष्टि के नियंत्रक हैं. उनकी उपासना से हर चीज़ को नियंत्रित किया जा सकता है. किसी भी ग्रह-नक्षत्र को आसानी से शांत भी किया जा सकता है. सावन में थोड़े से प्रयास से किसी भी ग्रह की अशुभ दशा के प्रभाव को कम किया जा सकता है. देखें वीडियो.