scorecardresearch
 

चाल चक्र

चाल चक्र: दिव्य दशहरे के दस महाउपाय

25 अक्टूबर 2020

आज चाल चक्र में हम बात करेंगे दशहरे के महत्व और मान्यता के बारे में. दशहरे के दिन ही भगवान राम ने रावण पर विजय प्राप्त की थी. इसी दिन नवरात्रि की समाप्ति भी होती है और इसी दिन देवी की प्रतिमा का विसर्जन भी होता है. इस दिन अस्त्र शस्त्रों की पूजा की जाती है और विजय पर्व मनाया जाता है. इस दिन अगर कुछ विशेष प्रयोग किये जाएं तो अपार धन की प्राप्ति हो सकती है. इस बार दशहरा 25 अक्टूबर को मनाया जा रहा है. इसके अलवा चाल चक्र में पंडित शैलेंद्र पांडेय दशहरा के लिए बताएंगे कुछ महाउपाय और साथ ही बताएंगे आपका राशिफल. देखिए चाल चक्र.

Navratri: मां अन्नपूर्णा दूर करेंगी दरिद्रता, ऐसे करें पूजा

24 अक्टूबर 2020

मां भगवती का वह स्वरुप जिससे संसार को भरण पोषण और अन्न वस्त्र मिल रहा है, अन्नपूर्णा स्वरुप है. माना जाता है कि दुनिया में समस्त प्राणियों को भोजन माँ अन्नपूर्णा की कृपा से ही मिल रहा है. भगवान शिव चूंकि समस्त सृष्टी का नियंत्रण अपने परिवार की तरह करते हैं, अतः उनके इस परिवार की गृहस्थी मां अन्नपूर्णा चलाती हैं. मां अन्नपूर्णा की उपासना से समृद्धि, सम्पन्नता और संतोष की प्राप्ति होती है. इसके साथ ही साथ व्यक्ति को भक्ति और वैराग्य का आशीर्वाद भी मिलता है. इस पर देखें चाल चक्र.

नवरात्र में कन्या पूजन से मिलता है शुभ फल, जानें क्या है महत्व

23 अक्टूबर 2020

नवरात्रि में देवी की उपासना साक्षात रूप में की जाती है. यह उपासना होती है छोटी छोटी बालिकाओं के माध्यम से. इन्हीं को देवी का स्वरुप मानकर नवरात्रि में इनका विशेष पूजन होता है. नवरात्रि में कन्या पूजन किये बिना कभी भी देवी की कृपा नहीं मिल सकती. देखें कन्या पूजन के महत्व और नियम पर चाल चक्र का ये खास एपिसोड.

संकट दूर करते हैं मां दुर्गा के 32 नाम, जानें नामों की महिमा

22 अक्टूबर 2020

देवी के अनंत नाम हैं. ये नाम मन्त्रों और श्लोकों के माध्यम से लिए जाते हैं परन्तु हर व्यक्ति मंत्र उच्चारण नहीं कर सकता. इसमें त्रुटि होने की संभावना होती है. ऐसी दशा में देवी के बत्तीस नामों का उच्चारण भी काफी लाभदायक होता है. इस पर देखें चाल चक्र.

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र के चमत्कारी लाभ, ऐसे करें पाठ

21 अक्टूबर 2020

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र श्रीरुद्रयामल के गौरीतंत्र में शिव पार्वती संवाद के नाम से उदधृत है. दुर्गा सप्तशती का पाठ थोड़ा कठिन है. ऐसे में कुंजिका स्तोत्र का पाठ ज्यादा सरल भी है और ज्यादा प्रभावशाली भी. मात्र कुंजिका स्तोत्र के पाठ से सप्तशती के सम्पूर्ण पाठ का फल मिल जाता है. इसके मंत्र स्वतः सिद्ध किये हुए हैं, अतः इनको अलग से सिद्ध करने की आवश्यकता नहीं है. यह अद्भुत स्तोत्र है, जिसका प्रभाव बहुत चमत्कारी है. इसके नियमित रूप से पाठ से समस्त मनोकामनाओं की पूर्ति हो जाती है. इस पर देखें चाल चक्र.

चाल चक्र: जानिए पान के पत्ते के चमत्कार

19 अक्टूबर 2020

आज चाल चक्र में हम बात करेंगे पान के पत्ते के चमत्कार के बारे में. पान का पत्ता एक विशेष लता का पत्ता है. यह शौक के लिये और औषधि के रूप में प्रयोग किया जाता है. यह पाचन तंत्र को अच्छा और शरीर को विषमुक्त करता है. भारतवर्ष में इसे प्राचीनकाल से काफी पवित्र माना जाता है. इसका उल्लेख वेदों में भी किया गया है. लगभग हर तरह के पूजा अनुष्ठान में इसका प्रयोग होता है. इसको शुभ कार्य की शुरुआत के लिये भी प्रयोग करते हैं. देवी की उपासना में पान के पत्ते से विशेष मनोकामनायें पूरी की जा सकती हैं. इसके अलावा ज्योतिष गुरु से जीनिए कि आज आपकी राशि क्या कह रही है और आज के दिन को कैसे बनाएं भाग्यशाली. देखिए चाल चक्र.

चाल चक्र: नवरात्रि में करें लौंग के चमत्कारी प्रयोग

18 अक्टूबर 2020

चाल चक्र में आज बात करेंगे नवरात्रि में लौंग के चमत्कारी प्रयोगों के बारे में. ज्योत‍िषी शैलेंद्र पांडे बताएंगे लौंग का ज्योतिष में क्या महत्व है? मनोकामना पूर्ण करने के लिए क्या करें? शत्रु और विरोधियों को शांत कैसे करें? तंत्र-मंत्र के असर को काटने के लिए लौंग का प्रयोग कैसे करें? साथ ही बात होगी आज के पंचांग और शुभ पहर की.

नवरात्र में पूरी होंगी नौ मनोकामनाएं, ऐसे करें पूजा-उपासना

17 अक्टूबर 2020

नवरात्रि के नौ दिन, पूजा उपासना और साधना के सर्वोत्तम दिन हैं. इन दिनों में साधना से हर तरह की मनोकामना पूरी की जा सकती है. नवरात्रि के अलग अलग दिन अलग अलग तरह की शक्तियां प्रवाहित होती हैं. हर दिन की शक्ति को समझकर उसके अनुसार अगर कामना की जाय तो कामना निश्चित रूप से पूर्ण होती है. इसके अलावा नवग्रहों से सम्बंधित समस्या भी इन दिनों में दूर की जा सकती है. नवरात्रि के किस दिन किस तरह की शक्तियां प्रवाहित होती हैं? इन नौ दिनों में किस कार्य जरूर करें? इस पर देखें चाल चक्र.

चाल चक्र: जानिए नवरात्रि में कलश स्थापना और पूजा के विधान

16 अक्टूबर 2020

आज चाल चक्र में हम बात करेंगे नवरात्रि में कलश स्थापना और पूजा के विधान के बारे में. पंडित शैलेंद्र पांडेय आपको बताएंगे कि इस बार की नवरात्रि की ख़ास बातें क्या हैं? साथ ही बताएंगे कि कलश स्थापना का मुहूर्त क्या है और कलश की स्थापना कैसे करें? इसके अलावा जानिए नवरात्रि में व्रत का विधान क्या होगा और नवरात्रि में विशेष कामनाओं के लिए कैसे पूजा करें? हम आपको जीवन की बाधाओं को दूर करने के लिए भी उपाय बताएंगे. इसके साथ ही बात करेंगे आपके दैनिक राशिफल की. देखिए चाल चक्र.

कमजोर बृहस्पति कर सकता है बीमार, अच्छी सेहत के लिए करें ये उपाय

15 अक्टूबर 2020

नवग्रहों में बृहस्पति को गुरु और मंत्रणा का कारक माना जाता है. शरीर में पाचन तंत्र, मेदा और आयु की अवधि को निर्धारित करता है. बृहस्पति के कारण ही व्यक्ति का मोटापा घटता और बढ़ता है. बृहस्पति सीधे तौर से मधुमेह की समस्या के लिये जिम्मेदार होता है. पांच तत्वों में आकाश तत्त्व का अधिपति होने के कारण इसका प्रभाव बहुत ही व्यापक और विराट होता है. इस पर देखें चाल चक्र.

चाल चक्र: कैसे तेल हमारे भाग्य पर डालता है असर?

14 अक्टूबर 2020

किसी भी तरह का तेल वास्तव मे रसायन है और शुक्र एवं बुध से सम्बन्ध रखता है. अलग-अलग तेल उनके गुणों, सुगंध और रंगों के आधार पर अन्य ग्रहों से भी सम्बन्ध रखते हैं. तेल के विभिन्न प्रयोगों से हम अपने आपको स्वस्थ रख सकते हैं. अपनी कामनाओं को पूरा कर सकते हैं और विभिन्न समस्याओं से बच सकते हैं. देखें चाल चक्र.