scorecardresearch
 

Tokyo Olympics: पूजा रानी मेडल से एक कदम दूर, अल्जीरियाई बॉक्सर को पछाड़ा

भारतीय मुक्केबाज पूजा रानी ने अपने ओलंपिक अभियान की शानदार शुरुआत करते हुए क्वार्टर फाइनल में जगह बना ली है. बुधवार को 75 किलो मिडिलवेट कैटेगरी के राउंड-16 मुकाबले में उन्होंने अपने से 10 साल जूनियर अल्जीरिया की इचरक चाईब को 5-0 से करारी शिकस्त दी.

Pooja Rani (Getty) Pooja Rani (Getty)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मुक्केबाज पूजा रानी ने अपने ओलंपिक अभियान की शानदार शुरुआत की
  • पूजा ने अल्जीरिया की इचरक चाईब को 5-0 से करारी शिकस्त दी

भारतीय मुक्केबाज पूजा रानी ने अपने ओलंपिक अभियान की शानदार शुरुआत करते हुए क्वार्टर फाइनल में जगह बना ली है. बुधवार को 75 किलो मिडिलवेट कैटेगरी के राउंड-16 मुकाबले में उन्होंने अपने से 10 साल जूनियर अल्जीरिया की इचरक चाईब को 5-0 से करारी शिकस्त दी. 

क्वार्टर फाइनल में 30 साल की पूजा का सामना 31 जुलाई को तीसरी रैंक हासिल चीन की ली कियान से होगा. पूजा दो बार एशियन चैम्पियनशिप में गोल्ड जीतने के सफर में इस चीनी मुक्केबाज को हरा चुकी हैं. अगर पूजा ली कियान के खिलाफ जीत दर्ज करती हैं, तो उनका पदक जीतना तय हो जाएगा. 

दोनों ही खिलाड़ियों का यह ओलंपिक में डेब्यू था, लेकिन पूजा का अनुभव अल्जीरियाई मुक्केबाज पर भारी पड़ गया. पहले राउंड में पूजा ने इचरक चाईब पर कुछ बेहतरीन पंच जड़े. इसका नतीजा ये रहा पांचों जजों ने पहले राउंड में पूजा के प्रदर्शन को बेहतर माना. 

दूसरे राउंड में भी पूजा ने अपना बेहतरीन प्रदर्शन जारी रखते हुए लगातार दो बेहतरीन पंच जड़े. इसके बाद अल्जीरियाई बॉक्सर ने अटैक करने का प्रयास किया, लेकिन वह पूजा की डिफेंसिव तकनीक का तोड़ नहीं ढूंढ पाई. दूसरे राउंड में भी पांचों जजों ने पूजा रानी को बेहतर माना. 

तीसरे एवं आखिरी रांउड में भी पूजा रानी अपनी प्रतिद्वंद्वी पर भारी पड़ते हुए मुकाबला अपने नाम कर लिया. पूजा रानी पूरे मैच में इस कदर हावी रहीं कि पांचों जजों ने उन्हें पूरे  30-30 अंक दिए. वहीं, इचरक चाईब को पहले जज ने 26 और बाकी के जजों ने 27-27 प्वाइंट्स दिए. 

पूजा रानी ने मार्च 2020 में आयोजित एशिया/ओसनिया ओलंपिक क्वालिफायर के सेमीफाइनल में पहुंचकर टोक्यो ओलंपिक का कोटा हासिल किया था. इसके साथ ही वह टोक्यो खेलों के लिए क्वालिफाई करने वाली पहली भारतीय बॉक्सर बन गई थीं. चौथी वरीय पूजा ने क्वार्टर फाइनल में थाईलैंड की पॉरनिपा चुटी को 5-0 से हराकर यह उपलब्धि हासिल की. हालांकि टूर्नामेंट के सेमीफाइनल पूजा चीनी मुक्केबाज ली कियान से हार गई थीं, जिसके चलते उन्हें कांस्य पदक से ही संतोष करना पड़ा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें