scorecardresearch
 

टीम इंडिया के कोच बनना चाहते हैं राहुल द्रविड़!

महान बल्लेबाज राहुल द्रविड़ ने टीम इंडिया के कोच बनने की चाहत जताई है. उन्होंने यह बात दिलीप सरदेसाई स्मृति लेक्चर देने के बाद कही. उन्होंने चकिंग और एकदिवसीय क्रिकेट के मुद्दे पर भी अपने विचार रखे.

राहुल द्रविड़ राहुल द्रविड़

महान बल्लेबाज राहुल द्रविड़ ने टीम इंडिया के कोच बनने की चाहत जताई है. उन्होंने यह बात दिलीप सरदेसाई स्मृति लेक्चर देने के बाद कही. उन्होंने चकिंग और एकदिवसीय क्रिकेट के मुद्दे पर भी अपने विचार रखे.

जब राहुल द्रविड़ से टीम इंडिया को कोच करने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, 'मेरे हिसाब से हर चीज का सही वक्त होता है. मैंने कमेंटेटर के तौर पर अपनी भूमिका का लुत्फ उठाया. साथ ही राजस्थान रॉयल्स के मेंटर का रोल निभाना आनंददायक रहा. भविष्य की बात करें तो मैं टीम इंडिया ही क्यों, रणजी ट्रॉफी में राजस्थान टीम का कोच बनना चाहूंगा.'

मुश्किल में वनडे
इस मौके पर राहुल द्रविड़ ने कहा कि खेल के तीन प्रारूपों में फिलहाल एकदिवसीय क्रिकेट सबसे अधिक अप्रासंगिक है और अपना अस्तित्व बचाए रखने के लिए जूझ रहा है. उन्होंने कहा कि इसे प्रासंगिक बनाए जाने के लिए चैंपियंस ट्रॉफी या विश्व कप जैसे अधिक टूर्नामेंटों का आयोजन करना होगा. द्रविड़ ने कहा, ‘मुझे लगता है कि एकदिवसीय क्रिकेट जूझ रहा है. एकदिवसीय क्रिकेट को अगर आप चैंपियंस ट्रॉफी या विश्व कप के नजरिये से देखो तो यह प्रासंगिक है.’

उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि सभी अन्य वनडे क्रिकेट को इस तरह से खेला जाना चाहिए कि यह चैंपियंस ट्रॉफी और विश्व कप में खेलने की ओर बढ़े. मुझे लगता है कि बेमानी वनडे मैच हो रहे हैं और काफी अधिक वनडे मैच समस्या हो सकते हैं.’

चकिंग अपराध नहीं
अवैध गेंदबाजी एक्शन पर द्रविड़ ने कहा कि ‘चकिंग’ अपराध नहीं है लेकिन तकनीकी खामी में सुधार किया जाना चाहिए. द्रविड़ ने कहा, ‘आईसीसी का नियम है. जब उन्होंने काफी पुरानी फुटेज की समीक्षा की तो पाया कि कोहनी का 15 डिग्री तक मुड़ना सामान्य है. सभी ऐसा कर रहे हैं. ग्लेन मैकग्राथ की कोहनी भी मुड़ती थी लेकिन यह 15 डिग्री के भीतर था इसलिए वह चकिंग नहीं करता था. इसके लिए एक प्रणाली है.’

उन्होंने कहा, ‘मुझे इस बात की खुशी है कि वे इसे कड़ाई से लागू कर रहे हैं और इसकी समीक्षा कर रहे हैं. मैं उन्हें संदेह का लाभ देता हूं. आईसीसी अधिक सतर्क हो गया है और वे ऐसा नहीं कह रहे हैं कि अगर 2009 में आप सही साबित हुए हो तो दोबारा आपका परीक्षण नहीं होगा.’

दौरों पर पत्नियों और प्रेमिकाओं को ले जाना गलत नहीं
कुछ भारतीय खिलाड़ियों के इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला 1-3 से गंवाने के दौरान अपनी पत्नियों और प्रेमिकाओं को साथ ले जाने के संदर्भ में द्रविड़ ने कहा कि इसकी इजाजत मिलनी चाहिए. उन्होंने कहा, ‘खिलाड़ी साल में 10 या 11 महीने खेलते हैं. अगर आप दौरों पर उनकी पत्नी या प्रेमिकाओं को जाने की इजाजत नहीं दोगे तो बड़ी समस्या हो जाएगी. मुझे नहीं लगता कि आप प्रदर्शन के लिए पत्नियों या प्रेमिकाओं को दोषी ठहरा सकते हो.’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें