scorecardresearch
 

विराट कोहली के नाम एक खुला खत

हमारे पसंदीदा बल्लेबाज,विराट कोहली,भारत को अच्छे लगते हो तुम, तुम्हारा नाम, तुम्हारे बल्ले का स्वीट साउंड, तुम्हारा अंदाज, तुम्हारा जश्न और जोशो-खरोश. तुम्हारी बैटिंग की वह पुरकशिश भी, जो हर बीतते मैच के साथ तुम्हें सचिन-सा बनाती जा रही है.

विराट कोहली विराट कोहली

हमारे पसंदीदा बल्लेबाज,
विराट कोहली!
भारत को अच्छे लगते हो तुम, तुम्हारा नाम, तुम्हारे बल्ले का स्वीट साउंड, तुम्हारा अंदाज, तुम्हारा जश्न और जोशो-खरोश. तुम्हारी बैटिंग की वह पुरकशिश भी, जो हर बीतते मैच के साथ तुम्हें सचिन-सा बनाती जा रही है.

यह प्रतिभा तुम्हें प्रतापी बनाएगी. यह कामयाबी तुम्हें आत्मविश्वास से भर देगी. यह जोश तुम्हें बुलंदियों तक ले जाएगा. यह कंसिस्टेंसी तुम्हारी मुस्कान को मुकम्मल करेगी. यह वैभव तुम्हें और विराट बनाएगा.

कलाइयों से खेली गई अपनी उस करामाती कवर ड्राइव के बारे में हाय उन चेहरों से पूछना जो क्रिकेट के ज्ञानी हैं और उनसे भी जो बस इस खेल से बेइंतहा इश्क करना जानते हैं. जो पेड़ों पर चढ़कर तुम्हें देखते हैं. तुमने मैदान पर सूझबूझ भी दिखाई है. तेज गेंदबाजों पर भी स्पिनर की तर्ज पर छक्के लगाए हैं. रिकॉर्डों की झड़ी लगाई है. उस दिन दिल्ली मेट्रो की वह बोगी तुम्हारे ही बारे में बात करती रही.

जब तुम गुड लेंथ गेंद को उसकी जड़ तक पहुंचकर कवर और एक्स्ट्रा कवर के बीच से मंजिल तक भेजते हो या ऑफ स्टंप पर आई तेज-तर्रार ‘शॉर्ट ऑफ लेंथ’ को पुल कर डालते हो तो एक यकीन पैदा होता है, समूचे भारतीय क्रिकेट पर.

तुम्हें इस तरह खेलते देखकर हमें वह दौर याद आता है जब कंगारुओं की बाउंसर गेंदें भारतीय बल्लेबाजों के कान के पास से सीटी बजाती हुई निकल जाती थीं. लगता था कि हम उन्हें ससम्मान कीपर के हाथों में जाने देने के लिए प्रतिबद्ध थे. लेकिन तुमने हमें हमारे वर्तमान पर गर्व करने का मौका मुहैया कराया है.

तुम हमारे लिए ढेर सारी उम्मीदें और थोड़ी-बहुत आशंकाएं लेकर आए हो, विराट. हां थोड़ी बहुत आशंकाएं भी. गिनती भर चिंताएं भी. हम उन्हें तुम तक पहुंचाना चाहते हैं. बेहद विनम्रता से अपनी बात कहना चाहते हैं.

सचिन के जाने से पहले तुम्हारे रंग में आने और आते चले जाने की खुशी है. तुम अब ऐसे क्रिकेटर में तब्दील हो गए हो जिसकी सचिन तेंदुलकर से तुलना भारत नहीं, बाहर भी हो रही है. पर याद रखना कि इस भारी विरासत को संभालने की जिम्मेदारी तुम्हारे 24 साल के मजबूत लेकिन अधीर कंधों पर हैं.

हम ‘मास्टर ब्लास्टर’ को देखते हुए बड़े हुए हैं. उनके शतकों के लिए हमने प्रार्थनाएं की हैं, टोटके किए हैं. वह सचिन जिन्होंने हर जवाब बल्ले से दिया. जो कैमरे पर ज्यादा सहज नहीं रहे. जो आसानी से शरमा जाते थे. जिन्हें गालियां देते नहीं सुना गया कभी और जिन्होंने गोरे होने की क्रीम का विज्ञापन भी नहीं किया.

विराट, जब तुम जल्दी आउट होते हो तो अब्यूज करते हो. जब सेंचुरी मारते हो तो अब्यूज करते हो. यह तुम्हारा व्यक्तित्व है. निजी मामला है. पर हमारी सदिच्छा यह है कि यहां थोड़ा संतुलन आ जाए तो ठीक रहेगा. जीत के बाद तुम्हारा जश्न मनाना हमें पसंद है. लेकिन अब जुबानी जंग में उलझना तुम्हारे ‘क्लास’ से ‘मिसमैच’ करने लगा है. मैदान पर सचिन की विरासत को तुम उसी सौम्यता से निभाओगे तो हमें खुशी थोड़ी ज्यादा होगी. कोशिश करके देखना, शायद अपनी उत्तेजना को और सार्थक आकार दे सको.

एक शो पर तुम्हें गंगनम डांस करते देख अच्छा लगा. मुस्कुरा दिए हम. लड़कियां तुम्हारी दीवानी हैं. तुम पार्टी करते हो, अच्छी बात है. पर थोड़ा संभल-संभल कर चलना भाई. देश की अमानत हो. किसी कंट्रोवर्सी में नाम आएगा तो कसम से हमारे चेहरे उतर जाएंगे.

तुमने कोई लक्ष्य नामुमकिन नहीं छोड़ा दोस्त. अब लोग तुम्हें कप्तानी देने का शिगूफा छोड़ेंगे. बड़े-बड़े ब्रांड जो पहले से ही तुम पर फिदा हैं, तुमसे विज्ञापन करवाने को और आतुर होंगे. आशाओं का बोझ तुम पर बढ़ने वाला है. क्या तुम तैयार हो?

क्या तुम्हें यकीन है कि तुम इन भूरि-भूरि प्रशंसाओं पर फ्लैट नहीं हो जाओगे. क्या तुम कप्तानी-शप्तानी से ध्यान हटा अपने ‘रिफ्लेक्सेस’ मजबूत बनाए रखने में जुटे रहोगे? कई प्रतिभाओं को निगल लेने वाली फिल्मी दुनिया से पर्याप्त दूरी बरतोगे? सच बताओ, अपनी बल्लेबाजी पर काम करते रहोगे न दोस्त? ये सारे सवाल तुम खुद से पूछना, अपनी ही ओर से. हम डरते बस इसलिए हैं क्योंकि कई करामाती खिलाड़ियों को बाजार, ग्लैमर या राजनीति की कोठरी में कलंकित होते हमने देखा है. हम घबराते इसलिए हैं क्योंकि हम जानते हैं कि बुलंदियों का तसव्वुर खूब होता है और कभी-कभी अनजाने में ही लोगों के पर निकलने लगते हैं.

हमारी बातें ‘छोटा मुंह, बड़ी बात’ लगी हो तो माफ कर दियो भाई. बस, देश के सबसे डिस्ट्रक्टिव बल्लेबाज को खोना नहीं चाहते हम. हरगिज नहीं.

-क्रिकेट को गंभीरता से लेने वाले देश का एक आम नागरिक
और तुम्हारी बल्लेबाजी का प्रशंसक

बेंगलुरु में 5 हजारी बन सकते हैं है, देखें उनका करियर ग्राफ

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें