scorecardresearch
 

महान टेनिस खिलाड़ी मोनिका सेलेस को जन्मदिन मुबारक

टेनिस की दुनिया में 1988 में एक सनसनी आई और कुछ सालों तक उसने इस खेल पर एकछत्र राज किया. इस महिला टेनिस खिलाड़ी का नाम था मोनिका सेलेस.

X
जब मोनिका सेलेस को घोंपा गया चाकू जब मोनिका सेलेस को घोंपा गया चाकू

टेनिस की दुनिया में 1988 में एक 'सनसनी' आई और कुछ सालों तक उसने इस खेल पर एकछत्र राज किया. इस महिला टेनिस खिलाड़ी का नाम था मोनिका सेलेस. इस खिलाड़ी ने करियर की शुरुआत से ही नाम और शोहरत हासिल की लेकिन एक सनकी फैन ने सेलेस को ऐसा झटका दिया कि इस खिलाड़ी के करियर पर सवालिया निशान लग गया. सेलेस के नाम पर 9 ग्रैंड स्लैम खिताब हैं. इस महान टेनिस खिलाड़ी का जन्म 2 दिसंबर 1973 को यूगोस्लाविया में हुआ था. सेलेस ने 2008 में टेनिस से संन्यास ले लिया था. 'भारत में सानिया मिर्जा होना मुश्किल'

मोनिका सेलेस के जीवन से जुड़ी रोचक बातें:
1- मोनिका को यूगोस्लाविया के अलावा अमेरिका और हंगरी की नागरिकता मिली थी. सेलेस ने 9 ग्रैंड स्लैम खिताब जीते जिसमें से आठ यूगोस्लाविया के लिए खेलते हुए और एक अमेरिका के लिए खेलते हुए.

2- 1990 में सेलेस ने जब फ्रेंच ओपन खिताब जीता, तो ऐसा करने वाली वो सबसे कम उम्र की टेनिस खिलाड़ी बनीं. उस समय वह महज 16 वर्ष की थीं. सेलेस अपने 20वें जन्मदिन से पहले आठ ग्रैंड स्लैम खिताब जीत लिए थे. इसके अलावा 1991, 1992 और 1995 में वो नंबर एक महिला टेनिस खिलाड़ी रहीं.


3- सेलेस का पहला प्रोफेशनल टूर्नामेंट 1988 में हुआ. उस समय उनकी उम्र महज 14 वर्ष थी. 1989 में उन्होंने हूस्टन में करियर का पहला टाइटल जीता. इसी साल फ्रेंच ओपन के सेमीफाइनल तक पहुंची. सेमीफाइनल में उन्हें उस समय की नंबर एक खिलाड़ी स्टेफी ग्राफ ने 3–6, 6–3, 3–6 से मात दी. 1989 में सेलेस की रैंकिंग वर्ल्ड नंबर 6 रही.

4- 1990 में सेलेस ने अपने करियर का पहला ग्रैंड स्लैम खिताब जीता. फ्रेंच ओपन फाइनल में उन्होंने स्टेफी ग्राफ को मात दी. उस समय उनकी उम्र 16 साल और 6 महीने थी. 1990 में उनकी रैंकिंग वर्ल्ड नंबर-2 हो गई.

5- 1991 में सेलेस ने ऑस्ट्रेलियन ओपन जीतकर साल का शानदार आगाज किया. मार्च में वो स्टेफी ग्राफ को पछाड़ते हुए नंबर वन महिला खिलाड़ी बन गईं. इसी साल उन्होंने अपना फ्रेंच ओपन खिताब भी बरकरार रखा. चोट के चलते इस साल सेलेस विंबलडन में नहीं खेल सकीं लेकिन उन्होंने यूएस ओपन में खिताब जीतकर जोरदार वापसी की. यूएस ओपन फाइनल में उन्होंने मार्टिना नवरातिलोवा को मात दी थी. इस तरह से सेलेस इस साल भी नंबर वन के ताज पर बनी रहीं.

6- 1992 साल भी सेलेस के ही नाम रहा, उन्होंने फ्रेंच, ऑस्ट्रेलियन और यूएस ओपन का खिताब बचाया हालांकि उन्हें विंबलडन फाइनल में अपनी चिर प्रतिद्वंद्वी स्टेफी ग्राफ के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा.

7- तीन साल के अंदर करियर की बुलंदी पर पहुंच चुकी सेलेस के लिए साल 1993 भी जीत के तोहफे लेकर आया. सेलेस ने इस साल फ्रेंच ओपन, यूएस ओपन और ऑस्ट्रेलियन ओपन का खिताब जीता. ऑस्ट्रेलियन ओपन के फाइनल में सेलेस के सामने ग्राफ थीं. इस तरह से उस समय तक ग्राफ और सेलेस के बीच यह चौथा ग्रैंड स्लैम मैच था जिसमें से तीन सेलेस ने जीते थे.


8- 30 अप्रैल 1993 को सेलेस हैमबर्ग में मैगडेलेना मलीवा के खिलाफ क्वार्टरफाइनल मैच खेल रही थीं और 6–4, 4–3 से बढ़त बनाए हुए थीं. इसी बीच स्टेफी ग्राफ का एक सनकी फैन गुंटर पार्श ने उन्हें पीछे से चाकूं घोंप दिया. करियर के बेस्ट टाइम पर सेलेस के साथ यह घटना सबके लिए चौंकाने वाली थी. कुछ लोगों ने तो यहां तक कहा कि इस हमले के पीछे स्टेफी ग्राफ का हाथ था. सेलेस को चाकू 1.5 सेंटीमीटर अंदर तक घोंपा गया था. इस चोट से उबरने में सेलेस को कुछ ही हफ्ते लगे लेकिन इसके बाद वो टेनिस से दो साल तक दूर रहीं. पार्श पर केस चला लेकिन मानसिक रूप से बीमार होने के कारण सजा नहीं दी गई.

9- सेलेस ने 1995 में टेनिस कोर्ट पर वापसी की और कैनेडियन ओपन जीतकर बता दिया कि उनके अंदर अभी टेनिस जिंदा है. इसके बाद सेलेस ने यूएस ओपन के फाइनल में जगह बनाई लेकिन स्टेफी ग्राफ के खिलाफ फाइनल मैच हार गईं. जनवरी 1996 में सेलेस ने करियर का चौथा ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब जीता. और यह सेलेस के करियर का आखिरी ग्रैंड स्लैम खिताब भी साबित हुआ.

10- मोनिका सेलेस के नाम पर एक ओलंपिक मेडल भी है. 2000 में हुए सिडनी ओलंपिक में सेलेस ने महिला सिंगल्स में ब्रॉन्ज मेडल जीता.

11- यह टेनिस खिलाड़ी टेनिस हॉल ऑफ फेम में शामिल हैं. सेलेस 2009 से बिलेनियर टॉम गोलिसानो को डेट कर रही हैं. 5 जून 2014 को दोनों ने सगाई कर ली.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें