scorecardresearch
 

PV Sindhu: पीवी सिंधु को आया गुस्सा... अंपायर से भिड़ीं, जानें क्या रही वजह

पीवी सिंधु पर बैडमिंटन एशिया चैम्पियनशिप के सेमीफाइनल में अंपायर ने पेनल्टी लगाई थी. यही पेनल्टी टर्निंग पॉइंट रही और सिंधु लीड के बावजूद मैच हार गईं...

X
PV Sindhu (Twitter) PV Sindhu (Twitter)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पीवी सिंधु BAC के सेमीफाइनल में हारीं
  • यामागुची 13-21, 21-19, 21-16 से जीतीं

ओलंपिक में दो मेडल जीतकर देश का नाम रोशन करने वाली भारतीय स्टार शटलर पीवी सिंधु को शायद ही किसी ने गुस्सा होते देखा होगा, लेकिन ऐसा हुआ है. सिंधु ने शनिवार को बैडमिंटन एशिया चैम्पियनशिप (BAC) के सेमीफाइनल में शिकस्त झेली है. इसी सिंगल्स मुकाबले के दौरान एक समय चेयर अंपायर ने सिंधु पर पेनल्टी लगा दी, जिस पर सिंधु ने अपना आपा खो दिया और अंपायर से ही भिड़ गईं.

दरअसल, मनीला (फिलीपींस) में पीवी सिंधु का मुकाबला जापान की शीर्ष वरीय अकाने यामागुची से था. पहला सेट 21-13 से आगे रहने के बाद सिंधु ने दूसरे सेट में भी एक समय 14-12 से बढ़त बना ली थी. इसी दौरान अंपायर ने देरी से सर्विस करने के कारण सिंधु पर पेनल्टी लगाते हुए यामागुची को एक पॉइंट दे दिया. इस पर सिंधु गुस्सा गईं.

'यामागुची तैयार नहीं थीं, इस वजह से देरी हुई'

सिंधु सीधे चेयर अंपायर के पास गईं और उनसे भिड़ गईं. मामला गरम होते देख चीफ रेफरी ने दखल दिया और सिंधु से बात करने आए. इन दोनों को बीच भी जमकर बहस चली. सिंधु ने अंपायर और रेफरी दोनों से कहा कि यामागुची तैयार नहीं थीं. इस वजह से सर्विस करने में देरी हुई. सिंधु की बातें सुनने के बाद भी अंपायर अपनी बात पर अड़े रहे.

यही टर्निंग पॉइंट भी रहा और आखिरी दोनों सेट में पीवी सिंधु को 19-21, 16-21 से हार झेलनी पड़ी. इस तरह सिंधु ने सेमीफाइनल में जीत का मौका गंवा दिया और उन्हें ब्रॉन्ज मेडल से ही संतोष करना पड़ा. 

'बातें सुनकर भी अंपायर नहीं माने, मेरे साथ गलत हुआ'

मैच के बाद भी सिंधु ने यही बात दोबारा दोहराई. उन्होंने कहा, 'अंपायर ने मुझसे कहा कि आपने सर्विस करने में देरी की, इसलिए पेनल्टी लगाई, जबकि हकीकत यह है कि विपक्षी खिलाड़ी ही तैयार नहीं थी. सब सुनने के बाद भी अंपायर ने उसे एक पॉइंट दे दिया, यह मेरे साथ बिल्कुल गलत हुआ है.'

सिंधु ने कहा, 'मुझे लगता है कि यह भी एक बड़ा कारण है कि मैं अपना मैच हार गई. मेरा मतलब है कि उस समय में 14-11 से आगे थी और मानसिक तौर पर मजबूत थी. तब मैं 15-11 से आगे हो सकती थी. जबकि अंपायर ने 14-12 कर दिया. यह गलत हुआ. मैं यह मैच जीतकर फाइनल खेल सकती थी.'

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें