scorecardresearch
 

Ravindra Jadeja IPL 2022: एमएस धोनी से ज्यादा सैलरी, कप्तानी में फेल...पूरे सीजन विवादों में ही रहे रवींद्र जडेजा

रवींद्र जडेजा पहले ही चेन्नई सुपर किंग्स की कप्तानी छोड़ चुके हैं और अब उनके टूर्नामेंट से बाहर होने की बात चल रही है. पिछले मैच में चोटिल हुए रवींद्र जडेजा अब बाकी के टूर्नामेंट से हट सकते हैं.

X
Ravindra Jadeja IPL 2022 Ravindra Jadeja IPL 2022
स्टोरी हाइलाइट्स
  • चेन्नई सुपर किंग्स में सबकुछ ठीक ना होने की खबरें
  • रवींद्र जडेजा हो सकते हैं टूर्नामेंट से बाहर

चार बार की आईपीएल चैम्पियन टीम चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) एक बार फिर सुर्खियों में है. प्लेऑफ की दौड़ से लगभग बाहर हो चुकी चेन्नई अब अपने ही पूर्व कप्तान रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) को लेकर चर्चा में है. माना जा रहा है कि चोट की वजह से रवींद्र जडेजा आईपीएल 2022 से बाहर हो सकते हैं. लेकिन बात सिर्फ इतनी नहीं है. 

रिपोर्ट्स की मानें, तो चेन्नई सुपर किंग्स में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है. खराब परफॉर्मेंस की वजह से रवींद्र जडेजा ने पहले कप्तानी छोड़ी थी, फिर चोट लगने की वजह से वह पिछला मैच भी नहीं खेल पाए थे. इस बीच कहा जा रहा है कि चेन्नई सुपर किंग्स ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट से रवींद्र जडेजा को अनफॉलो कर दिया है. 


वहीं रवींद्र जडेजा भी इंस्टाग्राम पर किसी को फॉलो नहीं कर रहे हैं. लगातार हो रहे विवादों के बीच चेन्नई सुपर किंग्स की नज़र आने वाले मैचों पर भी है. अगर रवींद्र जडेजा की बात करें तो वह शुरुआत से ही इस सीजन में सुर्खियों में बने रहे हैं. रवींद्र जडेजा के लिए यह सीजन कैसा गया, समझिए...

एमएस धोनी से ज्यादा सैलरी

चेन्नई सुपर किंग्स ने जब मेगा ऑक्शन से पहले खिलाड़ियों को रिटेन किया, तब हर किसी को हैरानी हुई. क्योंकि महेंद्र सिंह धोनी से ज्यादा सैलरी रवींद्र जडेजा को दी गई थी. तभी साफ हो गया था कि रवींद्र जडेजा का रोल कुछ खास होने वाला है. इस सीजन में रवींद्र जडेजा को 16 करोड़ और एमएस धोनी को 12 करोड़ रुपये मिले हैं. 

कप्तान बने लेकिन फेल साबित हुए

उम्मीद के मुताबिक, रवींद्र जडेजा को चेन्नई सुपर किंग्स ने कप्तान बनाया. आईपीएल शुरू होने से ठीक पहले एमएस धोनी ने कप्तानी छोड़ी और रवींद्र जडेजा को कमान दी गई. लेकिन चेन्नई सुपर किंग्स का हाल बुरा हुआ और टीम को शुरुआती 8 में से 6 मैच गंवाने पड़े. पिछले साल की चैम्पियन चेन्नई के इतने बुरे हाल की उम्मीद किसी को नहीं थी. 

बल्ले-बॉल से भी फेल रहे जडेजा
कप्तानी के अलावा रवींद्र जडेजा बैटिंग और बॉलिंग में भी फेल साबित हुए. सिर्फ 10 मैच में रवींद्र जडेजा ने 116 रन बनाए, इस दौरान उनका औसत 20 से भी कम का रहा. वहीं अगर बॉलिंग की बात करें तो रवींद्र जडेजा ने 10 मैच में सिर्फ 5 ही विकेट लिए. ऐसे में बॉलिंग-बैटिंग में भी रवींद्र जडेजा नाकाम ही रहे. जब धोनी फिर से टीम के कप्तान बने, तब उन्होंने भी कहा था कि हमें दबाव वाला रवींद्र जडेजा नहीं चाहिए, बल्कि बैटिंग-फील्डिंग-बॉलिंग में परफॉर्म करने वाला प्लेयर चाहिए.
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें