scorecardresearch
 

Player Profile: टीम इंडिया के लिए तुरुप का इक्का साबित होंगे चहल

23 जुलाई 1990 को हरियाणा के जिंद में जन्मे यजुवेंद्र चहल ने स्पिन गेंदबाजी में अपना करियर बनाया. चहल लेग स्पिन गेंदबाजी की बदौलत अच्छे अच्छे बल्लेबाजों को पिच पर अपनी जाल में फंसा लेते हैं और उन्हें पवेलियन का रास्ता दिखा देते हैं.

यजुवेंद्र चहल (फोटो - @yuzi_chahal) यजुवेंद्र चहल (फोटो - @yuzi_chahal)

टीम इंडिया के लेग ब्रेक स्पिनर यजुवेंद्र चहल को भी इंग्लैंड में 30 मई से शुरू हो रहे क्रिकेट विश्व कप के लिए कप्तान विराट कोहली के स्क्वॉड में शामिल किया गया है. 28 साल के यजुवेंद्र चहल कई मैचों में भारतीय टीम के लिए तुरुप का इक्का साबित हो चुके हैं. चहल उस वक्त सुर्खियों में आए थे जब उन्होंने साल 2009 के अंडर 19 कूच बिहार टॉफी में 34 विकेट चटकाए थे. साल 2016 में चहल ने वनडे और टी 20 में जिम्‍बाब्‍वे के खिलाफ अपने अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत की थी. चहल जहां वनडे में अब तक 72 विकेट ले चुके हैं वहीं टी 20 में उन्होंने अब तक 46 बल्लेबाजों को आउट किया है.

23 जुलाई 1990 को हरियाणा के जिंद में जन्मे यजुवेंद्र चहल ने स्पिन गेंदबाजी में अपना करियर बनाया. चहल अपने लेग स्पिन गेंदबाजी की बदौलत अच्छे अच्छे बल्लेबाजों को पिच पर अपनी जाल में फांस लेते हैं और उन्हें पवेलियन का रास्ता दिखा देते हैं. चहल लेग ब्रेक के अलावा अपनी गुगली गेंदबाजी से भी भारतीय टीम को कई बार जीत के दर तक लाने में अहम भूमिका निभाते हैं. चहल मुंबई इंडियंस और बेंगलुरू के लिए आईपीएल खेल चुके हैं.

यजुवेंद्र चहल  प्रोफाइल

1. उम्र-  28 साल

2. प्लेइंग रोल- लेग स्पिन गेंदबाज

3. बैटिंग -  दाएं हाथ के बल्लेबाज

4. ओवरऑल वनडे इंटरनेशनल में प्रदर्शन - चहल ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत जिम्‍बाब्‍वे  के हरारे में साल 2016 में किया था. यजुवेंद्र चहल अब तक 41 वनडे मैच खेल चुके हैं जिसमें उन्होंने 24.61 की औसत से 1772 रन देकर 72 विकेट लिए हैं. उनकी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी 42 रन देकर 6 विकेट लेना है. वहीं चहल ने अब तक 31 टी 20 मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 46 विकेट लिए हैं और उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 25 रन देकर 6 विकेट लेना है. बात अगर उनकी बल्लेबाजी करें तो उन्होंने 41 मैच में 34 रन बनाए हैं और उनका बेस्ट स्कोर 18 रन है.

5. वर्ल्ड कप- चहल का भी यह पहला वर्ल्ड कप टूर्नामेंट है और उनका प्लेइंग 11 में शामिल होना लगभग तय माना जा रहा है क्योंकि विदेशी बल्लेबाजों को भारतीय स्पिनरों को खेलने में बेहद दिक्कत होती है जिसका फायदा टीम इंडिया उठाएगी.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट सफर- चहल ने साल 2016 में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रखा था और विश्व कप उनके अब तक के करियर का सबसे बड़ा टूर्नामेंट हैं. अब देखने वाली बात यह होगी कि वो अपनी फिरकी में विपक्षी टीम के कितने खिलाड़ियों को फंसा पाते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें