scorecardresearch
 

आज रोहित शर्मा कहीं बेहतर कप्तान हैः सचिन तेंदुलकर

मुंबई इंडियन्स के आइकॉन सचिन तेंदुलकर ने आईपीएल चैंपियन टीम के कप्तान रोहित शर्मा की जमकर तारीफ करते हुए कहा कि पिछले कुछ वर्षों में वह कप्तान के रूप में निखर गया है.

सचिन तेंदुलकर सचिन तेंदुलकर

मुंबई इंडियन्स के आइकॉन सचिन तेंदुलकर ने आईपीएल चैंपियन टीम के कप्तान रोहित शर्मा की जमकर तारीफ करते हुए कहा कि पिछले कुछ वर्षों में वह कप्तान के रूप में निखर गया है. तेंदुलकर ने कहा, ‘उसने जब मुंबई इंडियन्स की कप्तानी पहली बार संभाली थी यदि उसकी तुलना आज के रोहित से की जाए तो आज वह कहीं बेहतर कप्तान है. वह अब आत्मविश्वास से भरा हुआ है.’

सचिन ने कहा, ‘मुंबई इंडियन्स के कप्तान के रूप में वह कई उतार चढ़ावों से गुजरा है क्योंकि उसे काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ा. इन चुनौतियों से आप बेहतर क्रिकेटर और मजबूत इंसान बनते हैं. रोहित की अगुवाई में मुंबई इंडियन्स ने चेन्नई सुपरकिंग्स को हराकर दूसरी बार आईपीएल खिताब जीता. तेंदुलकर ने iplt20.com से कहा, मुझे लगता है कि इस सत्र में वह बहुत अच्छी तरह से चीजों को अमल में लाया. हमने बैठकों और ड्रेसिंग रूम में जो भी रणनीति बनायी वह उसे अच्छी तरह से लागू करने में सफल रहा. गेंदबाज आपको जो फीडबैक देते हैं उससे आप कप्तान के बारे में काफी कुछ कह सकते हो. गेंदबाज उस क्षेत्र में गेंद करता है और उन रणनीतियों पर अमल करता है जो कप्तान उसे करने के लिए कहता है.’

उन्होंने कहा, ‘हम बंद कमरों में कई रणनीतियां बना सकते हैं लेकिन वह कप्तान, गेंदबाज और क्षेत्ररक्षक होते हैं जो मिलकर उसे हकीकत में बदलते हैं. रोहित ने यह काम बहुत अच्छी तरह से किया. तेंदुलकर ने इस सत्र में मुंबई इंडियन्स का लगातार चार हार के बाद वापसी करने को शानदार करार दिया.’

उन्होंने कहा, ‘हमारी शुरुआत अच्छी नहीं रही थी. वास्तव में बहुत मुश्किल शुरुआत थी. लेकिन वह परीक्षा की घड़ी थी. तब टीम ने एकजुटता दिखाई और हमने कड़ी मेहनत की. यह जीत संयोग से नहीं मिली है. हमने जो कड़ी मेहनत की यह उसका परिणाम है.’

तेंदुलकर ने कहा, ‘हम सभी को यह विश्वास था कि हम चीजों को बदल सकते हैं. यह मायने नहीं रखता कि आपने शुरुआत कैसे की. यह मायने रखता है कि आपने अंत कैसा किया.’

इस 42 वर्षीय दिग्गज बल्लेबाज ने कहा कि उनकी टीम ने लगातार मैच गंवाने के बावजूद भरोसा नहीं खोया था. उन्होंने कहा, ‘हमें अपनी क्षमता पर भरोसा था. किसी भी समय कोई भी खिलाड़ी सोचकर निराश नहीं हो रहा था कि यह मुश्किल सत्र है और हमारा भविष्य अच्छा नहीं है. हमें हमेशा उम्मीद की किरण नजर आ रही थी.’

तेंदुलकर ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान और अब मुंबई इंडियन्स के कोच रिकी पोंटिंग का खेल के प्रति नजरिया अब भी वैसा ही जैसा कि अपने खेलने के दिनों में हुआ करता था.

उन्होंने कहा, ‘जब हम उनके खिलाफ खेला करते थे तो वह काफी गंभीर और निर्भीक क्रिकेटर के रूप में पेश आता था जो कभी हार नहीं मानना चाहता. यही चीज यहां भी लागू होती है. किसी भी समय उन्हें यह अहसास नहीं हुआ कि हम टूर्नामेंट से बाहर हो जाएंगे. हमें अच्छा अनुभव रखने वाले सकारात्मक लोग टीम में चाहिए और इनमें से किसी भी विभाग में रिकी पीछे नहीं है.’

इनपुटः भाषा

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें