scorecardresearch
 

Pitru Paksha 2021 Dates: कब से शुरू हो रहे पितृ पक्ष? जानें श्राद्ध का महत्व और प्रमुख तिथियां

Pitru Paksha 2021 Date: पितृपक्ष में पूर्वजों को याद करके दान धर्म करने की परंपरा है. हिन्दू धर्म में इन दिनों का खास महत्व है. पितृ पक्ष (Pitru Paksha) पर पितरों की मुक्ति के लिए कर्म किये जाते हैं.

पितृपक्ष में श्राद्ध और तर्पण का होता है खास महत्व  पितृपक्ष में श्राद्ध और तर्पण का होता है खास महत्व
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पितृपक्ष में श्राद्ध और तर्पण का होता है खास महत्व
  • इस बार पितृपक्ष 20 सितम्बर से 06 अक्टूबर तक रहेगा

Pitru Paksha 2021 Date: पितृपक्ष में पूर्वजों को याद करके दान धर्म करने की परंपरा है. हिन्दू धर्म में इन दिनों का खास महत्व है. पितृ पक्ष (Pitru Paksha) पर पितरों की मुक्ति के लिए कर्म किए जाते हैं. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, पितृ नाराज हो जाएं तो घर की तरक्की में बाधाएं उत्पन्न होने लगती हैं. यही कारण है कि पितृ पक्ष में पितरों को खुश करने और आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए श्राद्ध किए जाते हैं. पितृ पक्ष आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरू होता है. ये अमावस्या तिथि तक रहता है. इस वर्ष पितृ पूजन 20 सितंबर से शुरू होकर 06 अक्टूबर को समाप्त हो जाएगा.

पितृ पक्ष का महत्व
मान्यता है कि पितृ पक्ष में श्राद्ध और तर्पण करने से पितर प्रसन्न होते हैं और आशीर्वाद प्रदान करते हैं. उनकी कृपा से जीवन में आने वाली कई प्रकार की रुकावटें दूर होती हैं. व्यक्ति को कई तरह की दिक्कतों से भी मुक्ति मिलती है. ज्योतिषाचार्य डॉ. अरविंद मिश्र ने बताया कि श्राद्ध न होने स्थिति में आत्मा को पूर्ण मुक्ति नहीं मिलती. पितृ पक्ष में नियमित रूप से दान- पुण्य करने से कुंडली में पितृ दोष दूर हो जाता है. पितृपक्ष में श्राद्ध और तर्पण का खास महत्व होता है.

पितृपक्ष में कैसे करें पितरों को याद?
पितृपक्ष में हम अपने पितरों को नियमित रूप से जल अर्पित करें. यह जल दक्षिण दिशा की ओर मुंह करके दोपहर के समय दिया जाता है. जल में काला तिल मिलाया जाता है और हाथ में कुश रखा जाता है. जिस दिन पूर्वज की देहांत की तिथि होती है, उस दिन अन्न और वस्त्र का दान किया जाता है. उसी दिन किसी निर्धन को भोजन भी कराया जाता है. इसके बाद पितृपक्ष के कार्य समाप्त हो जाते हैं.पितृ

पक्ष में श्राद्ध की तिथियां (Pitru Paksha 2021 date) :
पूर्णिमा श्राद्ध - 20 सितंबर
प्रतिपदा श्राद्ध - 21 सितंबर 
द्वितीया श्राद्ध - 22 सितंबर 
तृतीया श्राद्ध - 23 सितंबर 
चतुर्थी श्राद्ध - 24 सितंबर 
पंचमी श्राद्ध - 25 सितंबर 
षष्ठी श्राद्ध - 27 सितंबर 
सप्तमी श्राद्ध - 28 सितंबर 
अष्टमी श्राद्ध- 29 सितंबर
नवमी श्राद्ध - 30 सितंबर 
दशमी श्राद्ध - 1 अक्टूबर 
एकादशी श्राद्ध - 2 अक्टूबर
द्वादशी श्राद्ध- 3 अक्टूबर
त्रयोदशी श्राद्ध - 4 अक्टूबर
चतुर्दशी श्राद्ध- 5 अक्टूबर
अमावस्या श्राद्ध-  6 अक्टूबर 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें