scorecardresearch
 

2500 साल पुराने मठ के शंकराचार्य बनेंगे विजयेंद्र, 14 की उम्र में लिया था संन्यास

संन्यासी समाज का वो वर्ग होता है जो समाज से अलग होकर निस्वार्थ भाव से समाज के कल्याण के लिए काम करता है. विजयेंद्र जयेन्द्र सरस्वती के शिष्य थे. विजयेंद्र अब कांची कामकोटि को पीठाधिपति हैं.

Photo: Twitter/@KanchiMatham Photo: Twitter/@KanchiMatham

कांची कामकोटि पीठ के शंकराचार्य जयेन्द्र सरस्वती का बुधवार सुबह निधन हो गया. उनके बाद अब विजयेंद्र सरस्वती कांची मठ के 70वें शंकराचार्य होंगे. शंकराचार्य जयेन्द्र सरस्वती 83 साल के थे. उनके अंतिम दर्शन के लिए लाखों लोगों की भीड़ उमड़ी थी.

संन्यासी समाज का वो वर्ग होता है जो समाज से अलग होकर निस्वार्थ भाव से समाज के कल्याण के लिए काम करता है. विजयेंद्र, जयेन्द्र सरस्वती के शिष्य थे. विजयेंद्र अब कांची कामकोटि को पीठाधिपति हैं. पीठ के प्रमुख को शंकराचार्य की उपाधि दी जाती है. विजयेंद्र अब 482 ईसा पूर्व में बने उस मठ के प्रमुख होंगे जिसकी शुरुआत स्वयं आदिगुरु शंकराचार्य ने की थी. (kamakoti.org के मुताबिक इस पीठ की स्थापना 482 ईसा पूर्व में की गई थी.)

कांची के शंकराचार्य होने के नाते अब विजयेंद्र सनातन अद्वैत वेदांत के प्रवर्तक होंगे. इनका जन्म 1969 में कांचीपुरम के करीब थंडलम में हुआ था. विजयेंद्र के बचपन का नाम शंकरनारायणन है. विजयेंद्र के पिता कृष्णमूर्ति शास्त्री वेदों के ज्ञाता थे. वे तमिलनाडु के पोलूर के एक वैदिक स्कूल में ऋग्वेद पढ़ाते थे.

14 साल की उम्र में लिया था संन्यास

विजयेंद्र ने 14 साल की उम्र में सन् 1983 में जयेंद्र सरस्वती को अपना गुरु मानकर संन्यास ले लिया था. जयेन्द्र सरस्वती ने ना केवल इन्हें शिष्य के रूप में स्वीकार किया बल्कि अपना उत्तराधिकारी घोषित कर शंकर विजयेंद्र सरस्वती का नाम भी दिया.

एक पीठ के 3 पीठाधिपति

साल 1987 में चर्चा हुई कि जयेन्द्र सरस्वती ने मठ छोड़ दिया है जिसके बाद चंद्रशेखरेंद्र सरस्वती ने विजयेंद्र सरस्वती का अभिषेक कर दिया. बाद में जयेन्द्र सरस्वती के लौटने पर मठ के 3 पीठाधिपति हो गए थे. 

युवाओं में वैदिक ज्ञान का प्रचार-प्रसार के लिए मशहूर

युवाओं में वैदिक ज्ञान का प्रचार-प्रसार करने पर जोर देने वाले विजयेंद्र सरस्वती कांची मठ के अनुयायियों के बीच काफी लोकप्रिय हैं. मंदिरों के जीर्णोंद्धार के लिए बनाए गए लोक धर्म सेवा फाउंडेशन ट्रस्ट का श्रेय भी इन्हें ही जाता है.

2013 में हुए थे सभी आरोपों से बरी

गौरतलब है कि साल 2004 में मठ के एक कर्मचारी शंकररमन के मौत के सिलसिले में जयेन्द्र सरस्वती को पुलिस ने हिरासत में लिया था. बाद में साल 2005 के जनवरी में विजयेंद्र सरस्वती को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद जयेन्द्र सरस्वती को बेल पर रिहा कर दिया गया था. इसके एक महीने बाद विजयेंद्र को भी बेल दे दी गई थी. 27 नवंबर 2013 को पुदुच्चेरी कोर्ट ने दोनों को हत्या के सभी आरोपों से बरी कर दिया था. विजयेंद्र भी किसी शिष्य को जल्द ही अपना उत्तराधिकारी घोषित कर सकते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें