scorecardresearch
 

Chanakya Niti In Hindi: इन 6 चीजों के लिए न करें कभी अहंकार, जानें क्या कहती है चाणक्य नीति

भारत के प्रमुख विद्वानों में गिने जाने वाले आचार्य चाणक्य की नीतियां व्यक्ति को भविष्य में सफल होने और निराशा से पार पाने का रास्ता दिखाती है. यही कारण है कि चाणक्य की नीतियों को आज भी काफी महत्व दिया जाता है.

Chanakya Niti In Hindi, चाणक्य नीति Chanakya Niti In Hindi, चाणक्य नीति

भारत के प्रमुख विद्वानों में गिने जाने वाले आचार्य चाणक्य की नीतियां व्यक्ति को भविष्य में सफल होने और निराशा से पार पाने का रास्ता दिखाती है. यही कारण है कि चाणक्य की नीतियों को आज भी काफी महत्व दिया जाता है. अपने चाणक्य नीति में श्लोक के माध्यम से आचार्य बताते हैं कि मनुष्य को किन 6 चीजों को लेकर व्यक्ति को कभी अहंकार नहीं करना चाहिए.

दाने तपसि शौर्यं वा विज्ञाने विनये नये ।
विस्मयो न हि कर्तव्यो बहुरत्ना वसुन्धरा ।।

इस श्लोक में चाणक्य कहते हैं कि जब मनुष्य...

  • दान
  • तप
  • शूरता
  • विद्वता 
  • सुशीलता
  • और नीति निपुणता की बात करे तो उसे इन चीजों को लेकर अभिमान या अहंकार नहीं होना चाहिए. 

चाणक्य कहते हैं कि मानव-मात्र में कभी भी अहंकार की भावना नहीं रहनी चाहिए. क्योंकि इस धरती पर एक से बढ़कर एक दानी, तपस्वी, शूरवीर, विद्वान और नीति निपुण व्यक्ति मौजूद हैं.

देखें: आजतक LIVE TV

त्यज दुर्जनसंसर्ग भज साधुसमागमम् । 
कुरु पुण्यमहोरात्रं स्मर नित्यमनित्यतः।।

चाणक्य इस श्लोक में कहते हैं कि दुष्टों का साथ छोड़ दो, सज्जनों का साथ करो, रात-दिन अच्छे काम करो और सदा ईश्वर को याद करो. यही मानव का धर्म है. आशय यह है कि हमेशा व्यक्ति को सज्जन लोगों के साथ रहना चाहिए और दुष्ट प्रवृति के लोगों से दूर रहना चाहिए.

सज्जन लोगों का विकार भी लाभदायक होता है और दुर्जनों से होने वाला लाभ दुखदायक ही होता है. साथ ही व्यक्ति को हमेशा पुण्य और अच्छे काम को करने के बारे में सोचना चाहिए. ऐसा करने वाला मनुष्य हमेशा खुशी से रह पाता है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें