scorecardresearch
 

Budh Ast 2022: बुध इस राशि में हो रहे अस्त, जानें किसके लिए शुभ और किसके लिए अशुभ

Budh Ast 2022 Date: सूर्य के सबसे निकटतम ग्रह बुध मकर राशि में अस्त होने जा रहा है. ज्योतिष के अनुसार बुध ग्रह के अस्त होने का सभी 12 राशियों पर शुभ या अशुभ प्रभाव रहेगा. बुध को बुद्धि और स्मार्टनेस का प्रतीक माना गया है. हालांकि बुध को एक शुभ ग्रह माना जाता है, लेकिन यदि कुंडली में यह किसी अशुभ ग्रह के साथ है तो अशुभ परिणाम देता है.

X
Budh Ast 2022 Budh Ast 2022
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मीन राशि के जातक निवेश से जुड़े फैसले ध्यान से लें
  • कन्या राशि के जातकों का आत्मविश्वास होगा कम

Budh Ast 2022: बुध ग्रह 15 जनवरी से मकर राशि में वक्री यानि उल्टी चाल चल रहा है. वहीं 17 जनवरी को इसी राशि में सूर्य की मौजूदगी के प्रभाव से बुध अस्त यानि शक्तिविहीन हो जाएंगे. बुध इस दिन रात 7 बजकर 7 मिनट पर अस्त होंगे, जो वापस 29 जनवरी को अपनी सामान्य स्थिति में आएंगे. ज्योतिष के अनुसार बुध ग्रह के अस्त होने का सभी 12 राशियों पर कुछ ना कुछ अनुकूल और प्रतिकूल प्रभाव अवश्य पड़ेगा. आइए बताते हैं कि बुध अस्त (Budh Ast 2022) का आपकी राशि पर क्या असर होगा ? 

मेष (Aries): मेष राशि के जातकों के लिए बुध उनके तीसरे व छठे भाव के स्वामी हैं. बुध दशम भाव में अस्त हो जाएंगे. ऐसे में बुध की ये स्थिति मेष राशि के जातकों को अपने करियर में सावधानी बरतने के संकेत दे रही है. इस दौरान आपके जीवन में बार-बार बाधाएं, संचार में भ्रम की स्थिति, कागजी कार्रवाई की कोई बड़ी समस्याओं आदि आने की आशंका है.

 
वृषभ (Taurus):
वृषभ राशि के जातकों के लिए बुध उनके दूसरे और पांचवें भाव के स्वामी है और अब उनका अस्त आपके नवम भाव में होगा. इस अवधि में ऐसे छात्र जो छात्र उच्च शिक्षा ग्रहण करने की योजना बना रहे हैं, उन्हें इस बारे में एक बार पुनः विचार करने और सही निर्णय लेने के लिए गहन शोध करने की सलाह दी जा रही है.

मिथुन (Gemini): मिथुन राशि के जातकों के लिए बुध ग्रह उनके लग्न भाव के स्वामी होने के साथ-साथ उनके चतुर्थ भाव के स्वामी भी हैं. बुध आपकी राशि से अष्टम भाव में अस्त हो रहे हैं. ऐसे में बुध की ये स्थिति मिथुन राशि के जातकों को अपने स्वास्थ्य के साथ-साथ अपनी मां के स्वास्थ्य का भी ध्यान रखने के संकेत दे रहे है. क्योंकि आशंका है कि बुध देव के कारण आपको कोई त्वचा संबंधी कुछ संक्रमण या अचानक स्वास्थ्य संबंधी कोई समस्या का सामना करना पड़ सकता है

कर्क (Cancer): कर्क राशि के जातकों के लिए बुध उनके बारहवें और तीसरे भाव के स्वामी हैं और अब उनका अस्त आपके जीवनसाथी और व्यावसायिक साझेदारी के सप्तम भाव में हो रहा है. ऐसे में वो कर्क जातक जो अपने व्यवसाय में कोई नई साझेदारी शुरू करने के लिए लम्बे समय से प्रतीक्षा कर रहे थे उन्हें अभी और इंतज़ार करना होगा.
  
सिंह (Leo): सिंह राशि के जातकों के लिए बुध उनके दूसरे व एकादश दोनों ही भावों के स्वामी हैं. बुध आपके छठे भाव में अस्त हो रहे हैं. इस दौरान आपको कई प्रकार की आर्थिक समस्याओं से परेशानी संभव है. आशंका ये भी है कि इस दौरान आपको अपने स्वास्थ्य से जुड़ी कुछ समस्याओं पर भी अपना बहुत सा धन खर्च करना पड़ सकता है.

कन्या (Virgo): कन्या राशि के जातकों के लिए बुध उनके लग्नेश होने के साथ-साथ दशम भाव के स्वामी भी हैं. आपकी राशि के पंचम भाव में बुध अस्त हो रहे हैं. इस दौरान आपको अपने आत्मविश्वास में आ रही भारी कमी का सामना करना पड़ सकता है और इससे आप थोड़े भ्रमित भी नज़र आएंगे. 

तुला (Libra): तुला राशि के जातकों के लिए बुध उनके द्वादश व नवम भाव के स्वामी हैं और अब वे आपकी राशि के चतुर्थ भाव में अस्त हो रहे हैं. अपने माता-पिता के स्वास्थ्य पर ध्यान देने की ज़रूरत होगी. क्योंकि उन्हें इस दौरान कुछ स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है.
 
वृश्चिक (Scorpio):
वृश्चिक राशि के जातकों के लिए बुध उनके एकादश व अष्टम भाव के स्वामी हैं और अब वे आपकी राशि के तीसरे भाव में अस्त हो रहे हैं. यदि आप किसी छोटी दूरी की यात्रा पर जाने की योजना बना रहे हैं तो वो किसी कारणवश अचानक आखिरी समय में रद्द हो सकती है. इसके अलावा पारिवारिक जीवन में भी अपने छोटे भाई-बहन के साथ आपको किसी भी बहस से पड़ने से बचना होगा, अन्यथा वो बहस बाद में किसी गंभीर लड़ाई का रूप ले सकती है.

धनु (Sagittarius): धनु राशि के जातकों के लिए बुध उनके सप्तम व दशम भाव के स्वामी हैं और अब वे आपके दूसरे भाव में अस्त हो रहे हैं. बुध का ये प्रभाव कार्यक्षेत्र पर आपके लिए सामान्य से कम ही अनुकूल परिणाम देने के योग बनाएगा. यदि आप किसी धन लाभ की उम्मीद कर रहे थे तो इसमें भी अभी आपको देरी हो सकती है. 
 
मकर (Capricorn): 
मकर राशि के जातकों के लिए बुध उनके छठे व नवम भाव के स्वामी हैं और अब वे आपके लग्न अर्थात प्रथम भाव में अस्त होंगे. मकर राशि के जातकों को इस समय सबसे अधिक अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता होगी. इसलिए कोशिश करें और योग व ध्यान को अपनी दिनचर्या में शामिल करें. 
 
कुंभ (Aquarius): कुंभ राशि के जातकों के लिए बुध उनके पंचम व अष्टम भाव के स्वामी हैं और अब वे आपके बारहवें भाव में अस्त होंगे. इस कारण सबसे अधिक प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्र को समस्या आने की आशंका रहेगी. क्योंकि ये वो समय होगा जब छात्र अपने लक्ष्य से थोड़ा भ्रमित या विचलित हो सकते हैं या परीक्षा की तारीखों को लेकर कुछ अनिश्चितता भी संभव है. 
 
मीन (Pisces): मीन राशि के जातकों के लिए बुध उनके चौथे और सातवें भाव के स्वामी हैं. अब वे 17 जनवरी को मीन राशि के आर्थिक लाभ के एकादश भाव में अस्त होंगे. इसलिए इस दौरान निवेश से जुड़े किसी ही गलत फैसले से आपकी आर्थिक स्थिति खराब हो सकती है. ऐसे में इस समय कोई भी निवेश करने से अभी परहेज करें. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें