scorecardresearch
 

वारदात: टीवी पर रेपिस्ट का कबूलनामा, बताया- घटना के वक्त क्या होती है सोच

गम और गुस्से के मौसम के बीच हम सब रेप, रेप के कानून और कड़ी से कड़ी सज़ा को लेकर तमाम बहस और बातें कर रहे हैं. पर एक ख्याल अकसर सवाल बन कर हम सबके जेहन में कौंधता है. सवाल ये कि आखिर बलात्कारी होते कौन हैं. उनकी सोच क्या होती है. कैसे वो पल में इंसान से भेड़िए बन जाते हैं. कैसे कोई लाशों तक से अपनी हवस मिटा सकता है. वारदात के इस एपिसोड में देखें क्या सोचते हैं ऐसे लोग.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें