scorecardresearch
 

बनासकांडा में 50 सालों से नहीं आई कोई बारात...

बनासकांडा में 50 सालों से नहीं आई कोई बारात...

शादी ना सिर्फ दो दिलों के मिलन का नाम है, बल्कि हमारे सभ्य समाज में रहने वाले लोगों की पीढ़ियों को आगे बढ़ाने का सामाजिक और कानूनी जरिया भी. पर जरा सोचिए कि आधी सदी गुजर जाए और पूरा का पूरा इलाका शहनाई से महरुम हो तो क्या कहेंगे आप? अब आप यकीन करें या ना करें पर हमारे देश में एक इलाका ऐसा है, जहां 50 बरस बाद लोगों ने बारात देखी है

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें