scorecardresearch
 

West Bengal Election 2021: दीदी बचाएंगी गढ़ या बीजेपी पूरा करेगी प्रण? देखें शंखनाद

West Bengal Election 2021: दीदी बचाएंगी गढ़ या बीजेपी पूरा करेगी प्रण? देखें शंखनाद

जिसका इंतजार था वो घड़ी आ गई. गिन-गिने कुछ घंटे बचे हैं, जब तीसरे चरण का समर शुरु होगा. तीन जिलों के मतदाता अपना नीति नियंता चुनेंगे, 31 सीटों पर होने वाले इस तीसरे चरण के मतदान में अबतक दीदी का पलड़ा भारी रहा है, क्योंकि कल जिन तीन जिलों में चुनाव होने हैं, वो ममता का गढ़ है. लेकिन इस बार हालात बदले हुए हैं. बीजेपी ने दीदी का ये किला ढहाने के लिए पूरा दम लगा दिया है तो दीदी के सामने अपना दुर्गद्वार बचाने की चुनौतियां हैं. पश्चिम बंगाल के चुनाव में दोनों दलों की ओर से साम दाम दंड भेद सब अपनाए जा रहे हैं. कार्यकर्ताओं के बीच हिंसा का आलम है तो नेताओं के बीच बदजुबानी चरम पर है. चुनाव में नेता भाषा की न्यूनतम मर्यादा भी लांघते नजर आए हैं. ताजा मामला ममता दीदी का है. ममता दीदी ने एक दिन पहले पीएम मोदी और गृहमंत्री के बारे में तल्ख टिप्पणी की थी, मगर आज ममता दीदी ने पीएम और गृहमंत्री को गद्दार तक कह दिया. देखें शंखनाद.

West Bengal is set to witness the third phase of assembly elections on Tuesday. The West Bengal on April 6 will see polling in 31 constituencies of Hooghly, Howrah, and South 24 Parganas districts. Most of these seats have remained loyal to the Trinamool Congress in every format of elections since 2011. In the last Lok Sabha election, the BJP replaced the Left Front to mount a formidable challenge in these seats, much like in the rest of Bengal. In this episode of Shanknaad, we will talk about would Mamta be able to save her fort?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें