scorecardresearch
 

तो क्या सरकार के लिए Oxygen के अभाव में हुई मौतें झूठी हैं? देखें शंखनाद

तो क्या सरकार के लिए Oxygen के अभाव में हुई मौतें झूठी हैं? देखें शंखनाद

तीन महीने पहले ऑक्सीजन के आभाव में लोग दम तोड़ रहे थे.अस्पताल कह रहे थे कि उनके यहां बगैर ऑक्सीजन के मरीज मर रहे हैं, सरकारें ऑक्सीजन के लिए कोर्ट का रुख कर रही थीं. लेकिन संसद में केंद्र ने कहा है कि है कि ऑक्सीजन की कमी से कहीं कोई मौत नहीं हुई. सरकार का कहना है कि कोरोना की दूसरी लहर में,किसी की भी मौत ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई, ऐसा राज्यों ने केंद्र को बताया है'. उधर विपक्ष ने सरकार की संसद में दिए गए इस बयान पर हमलावर है. विपक्ष का कहना है कि सरकार डेटा मैनेजमेंट कर कोरोना से होने वाली मौतों की सच्चाई छिपाना चाहती है. देखें वीडियो.

Three months ago people were dying due to a lack of oxygen. Hospitals were approaching the court because oxygen went out of stock. But in Parliament, the Center has said that there was no death took due to lack of oxygen in second wave. On the other hand, the opposition fiercely slams the government and is accused of hiding the truth of the deaths due to corona by managing data. Watch video.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें