scorecardresearch
 

Parliament के भीतर हल्ला मचाना, काम ना करना भी क्या एक लोकतांत्रिक प्रक्रिया है? देखें दस्तक

Parliament के भीतर हल्ला मचाना, काम ना करना भी क्या एक लोकतांत्रिक प्रक्रिया है? देखें दस्तक

क्या हमारे देश में जनप्रतिनिधियों की सोच ऐसी हो चुकी है कि कौन कोशिश करे कि सूरत बदलनी चाहिए ? सांसदों-विधायकों को संविधान के अनुच्छेद 105 और 194 के तहत कुछ विशेष शक्तियां, कुछ विशेषाधिकार और कुछ खास संरक्षण मिला हुआ है. तो सदन में बोलने की आजादी का मतलब क्या हंगामा करना है? संसद या विधानसभा में शोरगुल, काम ना करने देना क्या सदस्यों का विशेषाधिकार है? सदन की गरिमा को तार-तार करने वाली असंसदीय हरकत हैं. संसद को ही ना चलने देना क्या लोकतंत्र की एक नई विधा, नया तरीका है? देखें दस्तक का ये एपिसोड.

MPs-MLAs have got some special powers, some privileges, and some special protection under Articles 105 and 194 of the Constitution. So what does freedom of speech mean in the House? Noise in Parliament or Vidhan Sabha, is it the prerogative of the members to not allow work? Unparliamentary acts tarnishing the dignity of the House. Is not allowing Parliament itself to function is a new model of democracy, a new way? Watch this episode of Dastak.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें