scorecardresearch
 

Corona की त्रासदी, Lockdown की ओर लौटता देश, सुशासन में सिस्टम की भेंट चढ़ती जनता! देखें 10तक

Corona की त्रासदी, Lockdown की ओर लौटता देश, सुशासन में सिस्टम की भेंट चढ़ती जनता! देखें 10तक

वैश्विक ब्रोकरेज फर्म बार्कलेज ने वित्त वर्ष 2022 के लिए भारत की जीडीपी ग्रोथ के अनुमान में कटौती की है. ऐसा कोरोना की दूसरी लहर और देशभर में लग रही पाबंदियों की वजह से हुआ है. लॉकडाउन से देश में गरीबी बढ़ी, लोग बेरोजगार हुए. फिर भी क्यों सरकारें लॉकडाउन की तरफ बढ़ रही हैं? सवाल ये है कि कोरोना के खिलाफ अधूरी तैयारी सरकारें करें और खामियाजा जनता भुगतने के लिए ये कितना जायज है? कोरोना महामारी ने सुशासन के हर उस दावे को धराशाई कर दिया है जो बिहार की सरकार 15 साल से कर रही है. वहीं सरकारी लापरवाही ने कर्नाटक में 24 लोगों की जान ले ली. बिहार में अस्पताल के बाहर कोरोना का एक मरीज गुहार लगाता रहा. मदद मांगता रहा. किसी मदद के बिना आखिरकार उस मरीज ने कैमरे के सामने दम तोड़ दिया. ये दिल दहलाने वाली दास्तां बिहार के आरा की है. देखें दस्तक, श्वेता सिंह के साथ.

Barclays Securities has lowered India's Financial year 2021-22 GDP growth forecast due to the ravaging the second wave of coronavirus. Coronavirus has destroyed India's health care system. State governments have no other option other than lockdown. Lockdown itself is a big problem for the poor to survive. The nationwide collapse of the health care system is exposing the poor covid mismanagement of centre and state governments. In this episode of 10 Tak, we discussed the insensitivity of the government during the pandemic. Watch the video.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें