scorecardresearch
 

Coronavirus Crisis: सबको वैक्सिनेशन में चुनौती! इतनी बड़ी आबादी को कैसे लगेगा टीका? देखें दंगल

Coronavirus Crisis: सबको वैक्सिनेशन में चुनौती! इतनी बड़ी आबादी को कैसे लगेगा टीका? देखें दंगल

1 मई से वयस्क आबादी के कोरोना टीकाकरण का रजिस्ट्रेशन शुरू हो चुका है. कई राज्यों ने, जिनमें ज्यादातर कांग्रेस शासित राज्य हैं उन्होंने 1 मई से टीकाकरण प्रोग्राम को लेकर हाथ खड़े कर दिए हैं. पंजाब, छत्तीसगढ़, राजस्थान जैसे राज्यों की दलील है कि वैक्सीन मैन्यूफैक्चरर उन्हें टीकाकरण शुरू करने के लिए टीके उपलब्ध ही नहीं करवा पाएंगे. उधर, बीजेपी शासित राज्यों की ओर से 1 मई से टीकाकरण की उम्मीद जतायी जा रही है. लेकिन सवाल यही है कि टीका उपलब्ध कैसे हो पाएगा? कोविशील्ड बनाने वाला सीरम इंस्टीट्यूट अभी 6-7 करोड़ डोज हर महीने बनाने की क्षमता रखता है और कोवैक्सीन बनाने वाला भारत बायोटेक हर महीने 1 करोड़ टीकों से ज्यादा नहीं बना सकता. इसके अलावा गमालया इंस्टीट्यूट के जिस स्पूतनिक वी टीकों को मंजूरी मिली उनका रूस में बना स्टॉक 15 मई से पहले आने की संभावना नहीं है. क्या 1 मई से टीकाकरण के प्रोग्राम को लेकर जताई जा रही आशंकाएं सच हैं या उनमें राजनीति है? और क्या टीकाकरण को एक राष्ट्रीय मिशन की तरह लिया जाएगा? 1 मई से सबको टीका, सबका विश्वास? देखें दंगल, चित्रा त्रिपाठी के साथ.

Vaccination for all above 18 is going to start from May 1 in India. Some non-BJP ruled states claim that they do not have sufficient corona vaccines to vaccinate all above 18 age group. Serum Institute of India can produce 6-7 crore doses per month, on the other hand, Bharat Biotech can produce only 1 crore vaccine doses per month. Now the question arises that how will such a large population get vaccinated? Watch this episode of Dangal.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें