scorecardresearch
 

दंगल

घाटी में आतंकी हमले, निशाने पर आम लोग! देखें दंगल

07 अक्टूबर 2021

कश्मीर में एक बार फिर आतंक की दहशत कायम हुई है. आज श्रीनगर में आतंकियों ने चुन कर महिला सिख प्रिंसिपल और हिंदू टीचर को अपनी कायराना हरकत का शिकार बनाया. कश्मीर में आतंकियों ने बीते 5 दिनों में 7 नागरिकों की जान ली है. 5 अक्टूबर को श्रीनगर के मशहूर दवा कारोबारी कश्मीरी पंडित माखन लाल बिंद्रू की हत्या की गई थी. इन हत्याओं के बाद आज जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा है कि आतंकी घाटी का सांप्रदायिक सद्भाव बिगाड़ना चाहते हैं. इसीलिए आज दंगल में सवाल करेंगे कि क्या कश्मीर के अल्पसंख्यकों को निशाना बनाना आतंकियों के नए गेमप्लान का हिस्सा है? देखें वीडियो.

लखीमपुर कांड की आंच से बचेगी योगी सरकार या विपक्ष होगा कामयाब? देखें दंगल

06 अक्टूबर 2021

लखीमपुर कांड पर योगी सरकार पर दबाव बढ़ाने के लिए कांग्रेस सांसद राहुल गांधी की अगुवाई में कांग्रेस का दल लखीमपुर की ओर कूच कर गया है. आज सुबह जब राहुल ने लखीमपुर जाने का ऐलान किया था, तब तक योगी सरकार किसी नेता को वहां जाने की इजाजत नहीं दे रही थी लेकिन सरकार ने रणनीति बदली और सभी दल के 5-5 नेताओं को वहां जाने की इजाजत दे दी है. गौरतलब है कि लखीमपुर में नेताओं की इजाजत तभी मिली है, जब मारे गए चारों किसान प्रदर्शनकारियों का अंतिम संस्कार हो गया है. ऐसे में दंगल में बहस का मुद्दा है कि क्या लखीमपुर कांड की आंच से योगी सरकार खुद को बचा सकेगी? या फिर विपक्ष, अबकी बार बीजेपी को उत्तर प्रदेश में घेरने में कामयाब होगा? लखीमपुर कांड पर वैसे तो सभी दलों के नेता आक्रामक हैं, लेकिन कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने पहले दिन से ही मोर्चा खोल रखा है. ऐसे में सवाल ये भी कि क्या लखीमपुर से कांग्रेस को उत्तर प्रदेश में संजीवनी मिलेगी?

लखीमपुर कांड सिर्फ संयोग है या प्रयोग? दंगल में देखें बड़ी बहस

05 अक्टूबर 2021

लखीमपुर कांड के कई वीडियोज वायरल हुए हैं. जिसमें से एक में प्रदर्शनकारियों को पीछे से रौंदते हुए गाड़ी आगे बढ़ती दिख रही है. ये वीडियो सिर्फ कुछ सेकेंड्स का है और इसके पहले क्या परिस्थितियां बनी, इसकी कोई जानकारी इससे नहीं मिलती लेकिन इस वीडियो के सहारे आम आदमी पार्टी, कांग्रेस और बाकी सभी विपक्षी दल सरकार को घेर रहे हैं. तो वहीं लखीमपुर कांड के और वीडियोज भी वायरल है, जिसमें एक में कथित ड्राइवर पिट रहा है, एक वीडियो में ड्राइवर इस बात से साफ इनकार कर रहा है कि उसे लोगों को कुचलने के लिए भेजा गया. साफ है कि लखीमपुर कांड में कई परतें हैं जो खुलनी बाकी हैं. लेकिन सियासत में इसे लेकर तूफान मचा हुआ है. दंगल में देखें क्या लखीमपुर कांड सिर्फ संयोग है या प्रयोग?

लखीमपुर खीरी में जानबूझ कर भड़काई गई हिंसा? देखें दंगल

04 अक्टूबर 2021

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में किसान प्रदर्शनकारियों और प्रशासन के बीच फिलहाल समझौता हो गया है. मृतकों के आश्रितों को 45 लाख रुपयों का मुआवजा, परिवार में नौकरी और घायलों को 10-10 लाख के मुआवजे और रिटायर्ड जज से जांच के नाम पर लखीमपुर की घटना की आंच को प्रशासन कुछ कम करने पर कामयाब हुआ है. लखीमपुर की घटना के बाद यूपी की राजनीति का पारा चढ़ा हुआ है. लखीमपुर की घटना के बाद केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी सियासत के निशाने पर हैं. हालांकि उन्होंने दावा किया है कि जब कल किसान प्रदर्शनकारियों पर गाड़ी चढ़ी तब उनके बेटे आशीष वहां मौजूद नहीं थे. क्या किसान आंदोलन बेकाबू हो गया है? और लखीमपुर की घटना में क्या किसी की साजिश है?

आर्यन खान को लाया गया NCB दफ्तर, आज 7 बजे होगी कोर्ट में पेशी

03 अक्टूबर 2021

मुंबई क्रूज मामले में आज आर्यन खान समेत 8 लोगों को नारकोट‍िक्स कंट्रोल ब्यूरो यानि एनसीबी ने गिरफ्तार कर लिया है. शनिवार को एनसीबी ने मुंबई पोर्ट से चले एक क्रूज पर छापा मारा था जिसमें हाई प्रोफाइल लोग मौजूद थे. एनसीबी को छापेमारी में भारी मात्रा में कोकीन, हसीस और एमडी आदि पार्टी ड्रग्स मिले. इस मामले में शाहरुख खान के बेटे आर्यन व अन्य लोगों से 8 घंटे तक पूछताछ चली, जिसके बाद सभी को गिरफ्तार कर लिया गया. गिरफ्तारी के बाद आर्यन को मेडिकल टेस्ट के लिए ले जाया गया जहां से उन्हें एनसीबी के दफ्तर ले जाया गया. आज शाम 7 बजे आर्यन की कोर्ट में पेशी भी होनी है. देखें दंगल.

अपनी मांगों पर अड़े किसान, धान पर क्यों मचा है घमासान? देखें दंगल

02 अक्टूबर 2021

कृषि कानून पर करीब एक साल से चल रहा घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा. अब ये जंग धान पर आ गई है. पंजाब और हरियाणा के करीब हर शहर में ये घमासान देखने को मिल रहा है. सीएम से लेकर मंत्री तक को किसान घेर रहे हैं. कई जगहों पर प्रदर्शन उग्र हो गया है जहां पुलिस और किसानों के बीच हिंसक झड़प की भी तस्वीरें आ रही हैं. महात्मा गांधी की जयंती पर जब सत्य, शांति और सत्याग्रह के संदेश पूरे देश में गूंज रहे हैं. ठीक उसी वक्त हरियाणा और पंजाब के शहर-शहर में किसान शक्ति प्रदर्शन कर रहे हैं. धान पर क्यों मचा है घमासान. देखें दंगल.

कांग्रेस को भारी पड़ेगी अमरिंदर की बगावत? देखें दंगल

01 अक्टूबर 2021

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के कांग्रेस छोड़ने के ऐलान के बाद आज कांग्रेस ने उनके हर एक आरोपों का जवाब दिया है. कांग्रेस ने अमरिंदर से अपने फैसले पर फिर से विचार करने को तो जरूर कहा लेकिन ये दावा किया कि पार्टी में सम्मान नहीं मिलने का अमरिंदर का दावा गलत है. लेकिन सवाल है कि क्या अमरिंदर को लेकर कांग्रेस ने भूल कर दी है? ये सवाल इसलिए और गंभीर है क्योंकि जिस नवजोत सिंह सिद्धू के चलते अमरिंदर को मुख्यमंत्री पद से हटाया गया वो भी कोपभवन में हैं. इसलिए आज दंगल में सीधा सवाल पूछेंगे - ना सिद्धू ना अमरिंदर, पंजाब में कांग्रेस की भूल भयंकर?

दंगल: मनीष गुप्ता की मौत के बाद UP पुलिस पर उठ रहे गंभीर सवाल!

30 सितंबर 2021

उत्तर प्रदेश में पुलिस के कामकाज को लेकर गंभीर बहस शुरू हो गई है. सवाल उठ रहा है कि क्या यूपी में पुलिस अधिकारों का बेजा इस्तेमाल हो रहा है? ये सवाल व्यवसायी मनीष गुप्ता की मौत के मामले को लेकर उठे हैं. आरोपों के मुताबिक मनीष गुप्ता को गोरखपुर के होटल में ID कार्ड दिखाने के विवाद में इतना पीटा गया कि उनकी मौत हो गई. इस मामले में सीएम योगी आदित्यनाथ ने पीड़ित परिवार से मुलाकात की है, इंसाफ का भरोसा दिया है. SHO समेत 6 आरोपी पुलिसवाले सस्पेंड हैं. साथ ही 2 कमेटियां बनायी गई हैं, जिसमें से एक पूरे यूपी में दागदार पुलिसवालों की पहचान करेगी. लेकिन सवाल उठ रहा है कि उत्तर प्रदेश में मनीष गुप्ता की मौत के मामले का जिम्मेदार कौन है? देखें दंगल.

पंजाब कांग्रेस में कलह, 2022 की राह होगी मुश्किल? देखें दंगल

29 सितंबर 2021

पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देकर उन्होंने कांग्रेस को संकट में तो जरूर डाला है, लेकिन सूत्रों के मुताबिक अब कांग्रेस उनकी मनमर्जियां और चलते रहने देने के मूड में नहीं है और पंजाब कांग्रेस के लिए नए अध्यक्ष पद की तलाश में हैं. जबकि सिद्धू ने अपने वीडियो बयान में बागी तेवर बरकरार रखे हैं. इसलिए दंगल में आज पूछेंगे कि क्या नवजोत सिंह सिद्धू का ये कदम उन पर भारी पड़ेगा? इसी के साथ सवाल ये भी होगा कि क्या कलह से 2022 के चुनाव में पंजाब में कांग्रेस की राह मुश्किल होगी? वैसे आज चरणजीत सिंह चन्नी सरकार ने बकाया बिजली बिलों का दांव चलकर सिद्धू संकट से निकलने की कोशिश की है, लेकिन क्या जनता कांग्रेस को अपना समर्थन बरकरार रखेगी?

सिद्धू के इस्तीफे के बाद शुरू हुई राजनीतिक बयानबाजी!देखें दंगल

28 सितंबर 2021

पंजाब का राजनीतिक घमासान अभी खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. अब नवजोत सिंह सिद्धू ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया है. सोनिया गांधी को भेजे इस्तीफे में नवजोत सिंह सिद्धू ने लिखा कि वह पंजाब के भविष्य के साथ समझौता नहीं करना चाहते. सिद्धू ने इस्तीफे की असल वजहों को पत्र में तो नहीं लिखा है, लेकिन सूत्रों के मुताबिक, नए सीएम चरणजीत सिंह चन्नी के साथ उनकी बन नहीं रही थी और उनके कुछ फैसलों से भी सिद्धू खुश नहीं थे. नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी ट्वीट किया. उन्होंने कहा कि मैंने पहले ही कहा था कि वो एक स्थिर आदमी नहीं हैं, बॉर्डर से जुड़े पंजाब जैसे राज्य के लिए बिल्कुल फिट नहीं हैं. आज दंगल में इसी मुद्दे पर कांग्रेस पऔर बीजेपी प्रवक्ता करेंगे इसी मुद्दे पर बात.

किसानों का आंदोलन यूपी चुनाव में बनेगा अहम फैक्टर? देखें दंगल

27 सितंबर 2021

कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन के मोर्चे पर डटे संयुक्त किसान मोर्चा ने आज एक बार फिर अपनी ताकत दिखाई. कृषि बिलों पर राष्ट्रपति की मुहर लगने के 1 साल पूरे होने पर अपना विरोध जताने के लिए SKM ने भारत बंद बुलाया था, जिसका मिलाजुला असर रहा. लेकिन किसानों के इस आंदोलन के चुनावी असर को लेकर अभी से कयास लगने शुरू हो गए हैं. पश्चिमी यूपी में असर रखने वाले राकेश टिकैत जैसे नेता 2022 के यूपी चुनाव में बीजेपी को वोट की चोट देने का दम पहले ही भर चुके हैं और आज का भारत बंद एक बार फिर वही तेवर दिखाने वाला रहा. किसान संगठनों के इस तेवर के बीच यूपी सरकार भी अपनी तैयारियों में जुटी है. कल ही योगी सरकार ने गन्ना किसानों के लिए गन्ने का समर्थन मूल्य 25 रुपए बढ़ाकर 350 रुपया प्रति क्विटंल करने का फैसला लिया है, लेकिन जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आ रहा है किसानों के मसले पर खुद बीजेपी के भीतर से आवाज उठनी शुरू हो गई है. आज दंगल में इसी मुद्दे पर करेंगे बहस. देखें वीडियो.

दंगल: यूपी में मंत्रिमंडल विस्तार, 2022 चुनाव में करेगा बेड़ा पार?

26 सितंबर 2021

उत्तर प्रदेश में चुनाव से करीब पांच महीने योगी मंत्रिमंडल में फेरबदल किया जा रहा है. सात नए मंत्रियों को शपथ दिलाई जाएगी. खबर है कि मंत्रिमंडल के इस फेरबदल में जातीय समीकरण का पूरा ध्यान रखा जाएगा. सूत्रों की मानें तो सात नए मंत्रियों में ब्राह्मण चेहरा जितिन प्रसाद को मौका मिलेगा. साथ ही तीन ओबीसी और तीन दलितों को भी शामिल किया जाएगा. दरअसल, चुनाव में सिर्फ छह महीने बचे हैं और बीजेपी का पूरा फोकस सत्ता में वापसी पर है. शायद यही वजह है कि पार्टी जातीय समीकरण साधने की कोशिश कर रही है. यूपी में मंत्रिमंडल विस्तार 2022 चुनाव में करेगा बेड़ा पार?

इमरान खान के झूठ का पीएम मोदी करेंगे पर्दाफाश, देखें दंगल में बड़ी बहस

25 सितंबर 2021

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक बार फिर कश्मीर पर पुराना राग छेड़ा है. संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में अपने देश और उसकी चुनौतियों की बात करने की बजाय इमरान हर साल की तरह इस बार भी भारत का रोना रोने बैठ गए लेकिन कश्मीर के साथ साथ इस बार उनके एजेंडे में तालिबान भी था. आतंकवादियों की सरकार को मान्यता दिलाने की फिक्र में इमरान की रातों की नींद उड़ी हुई है. अफगानिस्तान का बच्चा बच्चा कहता है कि उनके मुल्क में जो कोहराम मचा वो पाकिस्तान की पैदाइश है. पाकिस्तान और उसके पीएम इमरान खान की इस चालबाजी को पूरी दुनिया जानती और समझती है. फिर भी इमरान बड़ी बेशर्मी से कहते फिरते हैं कि उनका मुल्क आतंकवाद से पीड़ित हैफिर भी इमरान बड़ी बेशर्मी से कहते फिरते हैं कि उनका मुल्क आतंकवाद से पीड़ित है. देखें ये खास शो.

दंगल: दिल्ली के रोहिणी कोर्ट में गैंगवॉर, कौन जिम्मेदार?

24 सितंबर 2021

शुक्रवार दोपहर को राजधानी नई दिल्ली की रोहिणी कोर्ट में दिनदहाड़े 2 गैंग्स के बीच खूनी खेल हुआ. रोहिणी कोर्ट में पेशी के लिए लाए गए गैंगस्टर जितेंद्र उर्फ गोगी पर ताबड़तोड़ गोलियां चलायी गईं और उसकी हत्या कर दी गई. वकील के भेष में आए दोनों हमलावरों को दिल्ली पुलिस ने मार गिराया. दिल्ली की कोर्ट के भीतर सनसनीखेज शूटआउट ने पूरी दिल्ली में हड़कंप मचा दिया है. हमलावर जिस तरह से कोर्ट की सुनवाई के दौरान हथियारों के साथ पहुंचने में कामयाब रहे, इसे सुरक्षा व्यवस्था में बड़ी चूक माना जा रहा है. देखें वीडियो.

क्या CBI जांच में सुलझेगी महंत की मौत मिस्ट्री? देखें दंगल में बड़ी बहस

23 सितंबर 2021

महंत नरेंद्र गिरि की मौत के बाद का एक वीडियो सामने आया है. ये वीडियो उनकी मौत की परिस्थितियों का सबसे बड़ा सुराग बन सकता है. मौत के बाद के इस वीडियो में कई ऐसी बातें हैं जो सुसाइड थ्योरी को लेकर गंभीर जांच की मांग करती हैं. मसलन कमरे का पंखा चलता दिख रहा है, नायलॉन की रस्सी 3 हिस्सों में कटी हुई है. महंत का शव पुलिस के पहुंचने से पहले ही फर्श पर रखा जा चुका है. यूपी पुलिस के कटघरे में अभी मुख्य तौर पर शिष्य आनंद गिरि समेत 3 लोग हैं, क्या इस वीडियो के सामने आने के बाद अब जांच का दायरा कुछ और लोगों तक जाएगा? यूपी सरकार ने महंत नरेंद्र गिरि की मौत की जांच CBI से कराने की सिफारिश कर दी है. क्या CBI महंत की मौत को लेकर उठ रहे सवालों के सही जवाब तलाश सकेगी? इसीलिए आज दंगल में महंत नरेंद्र गिरि की मौत को लेकर उठ रहे सवालों पर देखें सीधी बहस.

मौलाना कलीम सिद्दकी को यूपी ATS ने किया गिरफ्तार, धर्मांतरण पर छिड़ी बहस!

22 सितंबर 2021

उत्तर प्रदेश की ATS ने धर्मांतरण का सबसे बड़ा रैकेट चलाने वाले मौलाना को गिरफ्तार करने का दावा किया है. जामिया इमाम वलीउल्लाह ट्रस्ट चलाने वाले मौलाना कलीम सिद्दीकी की गिरफ्तारी मंगलवार की रात मेरठ से हुई. UP ATS का दावा है कि मौलाना कलीम को अवैध विदेशी फंडिंग हासिल हुई और उसने मदरसों की फंडिंग की. पुलिस के मुताबिक मौलाना ने मदरसों की आड़ में धर्मांतरण कराने और शरीयत का कानून लागू करने की कोशिश की. UP ATS ने मौलाना कलीम सिद्दीकी का कनेक्शन जून में गिरफ्तार हुए उमर गौतम से जोड़ा है. हालांकि पुलिस इसे बड़ी कामयाबी मान रही है कि लेकिन आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह खान ने ये कहकर सनसनी मचा दी है कि यूपी चुनाव के पहले मौलाना की गिरफ्तारी मुसलमानों पर अत्याचार है. SP सांसद शफीकुर्रहमान ने भी गिरफ्तारी पर सवाल उठाया है. इसीलिए आज दंगल में हमारी बहस का मुद्दा है कि क्या मौलाना कलीम सिद्दीकी की गिरफ्तारी धर्मांतरण के धंधे के खिलाफ बड़ी कामयाबी है या ये चुनावी चाल है?

मौत या साजिश! आखिर कैसे सुलझेगी महंत की मौत की गुत्थी? देखें दंगल

21 सितंबर 2021

महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत का मामला पूरे देश की सुर्खियां बना हुआ है. नरेंद्र गिरि की मौत का राज क्या है? क्या वो अपने शिष्य आनंद गिरि से इतने परेशान थे कि उन्होंने खुदकुशी कर ली? या फिर इस खुदकुशी की थ्योरी में छेद है? महंत नरेंद्र गिरि की मौत पर जितने मुंह उतने सवाल हैं? पुलिस ने आनंद गिरि पर सुसाइड के लिए उकसाने के आरोपों में केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है. हालांकि साधु-संत ये मानने को तैयार नहीं हैं कि महंत नरेंद्र गिरि ने खुदकुशी की होगी. हत्या के एंगल से जांच की मांग उठ रही है. क्या CBI जांच हो, क्या हाई कोर्ट के सिटिंग जज से जांच हो? आखिर महंत की मौत की गुत्थी कैसे सुलझेगी, इस पर देखें दंगल में बहस.

क्या चन्नी का दलित चेहरा होना कांग्रेस का मास्टरस्ट्रोक साबित होगा? देखें दंगल

20 सितंबर 2021

चरणजीत सिंह चन्नी ने पंजाब के नए मुख्यमंत्री का जिम्मा संभाल लिया है लेकिन दंगल का मुद्दा है कि क्या चरणजीत सिंह चन्नी के दांव से पंजाब में कांग्रेस ने अपना घर संभाल लिया है? चन्नी दलित सिख समुदाय से आते हैं और तकरीबन 32 प्रतिशत दलित आबादी वाले पंजाब में वो पहले दलित चेहरे हैं जिन्होंने सत्ता की सबसे बड़ी कुर्सी राज्य में संभाली है. ऐसे में क्या कांग्रेस का ये कदम मास्टरस्ट्रोक है? वैसे पहले ही दिन सुनील जाखड़ के एक ट्वीट से हंगामा मचा हुआ है. हालांकि जाखड़ ने नाराज नहीं होने की बात कह दी है, लेकिन उन्होंने नवजोत सिंह सिद्धू के नेतृत्व में चुनाव लड़ने के संकेतों का पुरजोर विरोध किया है. एक ओर बीजेपी, अकाली समेत विपक्षी दलों का आरोप है कि चन्नी तो बस दलित के नाम पर मोहरा हैं, तो दूसरी ओर चन्नी पर 2018 के एक महिला IAS के आरोपों को भी तूल दिया जा रहा है. महिला IAS ने चन्नी पर आपत्तिजनक संदेश भेजने का आरोप लगाया था. क्या चन्नी से कांग्रेस का बेड़ा होगा पार? देखें दंगल का ये एपिसोड.

दंगल: पंजाब के नए सीएम होंगे चरनजीत सिंह चन्नी

19 सितंबर 2021

पंजाब कांग्रेस की इकाई ने रविवार को सब को चौंका दिया. कांग्रेस सीलपी की बैठक में चरनजीत सिंह चन्नी को निर्विरोध चुना गया कांग्रेस विधायक दल के नेता. चरनजीत सिंह अब पंजाब के नए मुख्यमंत्री बनेंगे. चरनजीत राज्यपाल से मिलने राज भवन गए हैं. ये पहली बार हुआ है कि किसी दलित नेता के हाथ में बागडोर सौंपी गई हो. चरनजीत ने मुख्यमंत्री की रेस में सुखजिंदर सिंह रंधावा को पछाड़ दिया है. चरनजीत अमरिंदर सरकार में तकनीकी शिक्षा मंत्री भी रह चुके हैं. देखें वीडियो.

दंगल: कैप्टन ने पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया

18 सितंबर 2021

पंजाब में शनिवार को राजनीतिक हलचल तेज है. कांग्रेस इकाई में कलह बढ़ गई है. कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है. कैप्टन ने अपना इस्तीफा राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित को सौंपा. कैप्टन के इस्तीफे से पंजाब में सियासी भूचाल आ गया है. कैप्टन के अलावा राज्य की पूरी मंत्रिपरिषद ने इस्तीफा दिया है. इस्तीफा देने के बाद कैप्टन ने ये साफ कर दिया है कि उनके पास भविष्य की राजनीति के विकल्प खुले हैं. कैप्टन ने कहा- आलाकमान को मुझ पर संदेह था, अब मैंने इस्तीफा दे दिया है. कांग्रेस अध्यक्ष अब जिसे चाहे सीएम बनाएं. देखें वीडियो.

दंगल: कृषि कानूनों के एक साल पूरे, कब तक जारी रहेगा बवाल?

17 सितंबर 2021

कृषि कानूनों के विरोध में बीते करीब एक साल से किसान सड़कों पर हैं. कानूनों को लेकर संयुक्त किसान मोर्चा के संग्राम और अब राजनीतिक दलों की खींचतान से घमासान मचा हुआ है. आज शिरोमणि अकाली दल ने दिल्ली ने कृषि कानूनों के विरोध में जमकर हल्ला बोला. प्रदर्शन की वजह से दिल्ली-एनसीआर के कई इलाकों में घंटों जाम लगे रहे. इस प्रदर्शन में अकाली दल नेता सुखबीर सिंह बादल और हरसिमरत कौर शामिल हुए. तो दूसरी ओर बीकेयू नेता राकेश टिकैत का केंद्र पर हमला जारी है. टिकैत ने कहा है कि 10 साल तक हम विरोध करते रहेंगे. देखें वीडियो.