scorecardresearch
 

दंगल

केंद्र को ममता की सीधी चुनौती, पेगासस जासूसी मामले की बंगाल में जांच के आदेश

26 जुलाई 2021

पेगासस जासूसी मामले पर तनातनी को आज ममता बनर्जी ने और बढ़ा दिया. ममता सरकार ने 2 पूर्व जजों की कमेटी बनाकर बंगाल से जुड़े पेगासस जासूसी मामले की जांच का फैसला कर लिया. बंगाल से सांसद अभिषेक बनर्जी और रणनीतिकार प्रशांत किशोर की जासूसी के संदेह के बाद से ममता बनर्जी आक्रामक थीं लेकिन अपने दिल्ली दौरे पर निकलने से पहले उन्होंने जांच कमेटी गठित कर दी. इसीलिए आज दंगल का हमारा मुद्दा है कि क्या ममता बनर्जी ने अब मोदी सरकार को सीधी चुनौती दी है? क्या बंगाल की जांच का पूरे देश की राजनीति पर असर पड़ेगा? देखें दंगल

क्या अयोध्या बनेगा UP विधानसभा चुनाव का लॉन्चिंग पैड? देखें दंगल

25 जुलाई 2021

2022 में उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने वाला है. खबर है कि अयोध्या 2022 के लिए बीजेपी का लॉन्चिंग पैड बनाने जा रहा. सीएम योगी आदित्यनाथ अयोध्या से चुनावी मैदान में ताल ठोंक सकते. अगर ऐसा हुआ तो अगले साल की शुरुआती में यूपी विधानसभा का चुनाव काफी दिलचस्प हो जाएगा. हालांकि विपक्ष विकास के मुद्दे पर सवाल पूछ रही है लेकिन अयोध्या के उसी विकास के जरिए बीजेपी यूपी में सुनामी पैदा करने में लगी है. जिसका जायजा लेने सीएम योगी अयोध्या पहुंचे हैं. अब सवाल उठ रहा है कि क्या अयोध्या बनेगा UP विधानसभा चुनाव का लॉन्चिंग पैड?

क्या राहुल गांधी के आम पर दिए बयान से बीजेपी को UP विधानसभा चुनाव में होगा फायदा?

24 जुलाई 2021

राहुल गांधी के आम को लेकर बयान ने उत्तर प्रदेश की सियासत गरमा गई है. राहुल गांधी ने इतना भर कहा कि उन्हें यूपी का आम पसंद नहीं हैं बल्कि आंध्र प्रदेश का आम पसंद है. इसके बाद तो दिल्ली से लेकर लखनऊ तक स्वादानुसार सियासत शुरु हो गयी. लेकिन सबसे बड़ा सवाल कि क्या राहुल का ये टेस्ट यूपी में होनेवाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का स्वाद बिगाड़ देगा. अब इस पर गोरखपुर से सांसद रवि किशन ने नया टर्न दे दिया. उन्होंने कहा कि राहुल कह रहे थे कि उन्हें यूपी का आम पसंद है. यूपी को कांग्रेस पसंद नहीं है. देखें वीडियो.

BSP ने खेला ब्राह्मण कार्ड, क्या इससे बदलेंगे यूपी में चुनावी समीकरण?

23 जुलाई 2021

2022 के यूपी चुनाव के पहले आज बीएसपी ने फिर ब्राह्मणों का समर्थन हासिल करने का दांव चल दिया. पार्टी ने आज अयोध्या में पहला ब्राह्मण सम्मेलन किया है. ब्राह्रणों को फिर साथ लाने के लिए बीएसपी ने जोर लगा दिया है. अयोध्या में राम मंदिर बनवाने का वादा हुआ है और बीएसपी महासचिव सतीश मिश्रा के मुताबिक ब्राह्मणों के एनकाउंटर का बदला लिया जाएगा. 2014 से जो ब्राह्मण एकतरफा बीजेपी के साथ दिखा है, क्या वो 2022 में मायावती के साथ जा सकता है? और क्या बीएसपी के ब्राह्मण कार्ड से यूपी के चुनावी समीकरण बदलेंगे? देखें दंगल.

पेगासस जासूसी मामले पर कांग्रेस का प्रदर्शन, BJP ने इसे बताया फेक

22 जुलाई 2021

इजरायली स्पाईवेयर पेगासस से भारत में जासूसी के मामले पर राजनीति के तेवर आज और सख्त हो गए. आज एक ओर कांग्रेस देश भर में सड़कों पर उतरी तो राज्यसभा में आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव को टीएमसी सांसदों ने जवाब देने से रोक दिया और उनके हाथ से पेपर छीनकर हवा में उछाल दिया. विपक्ष के इन तेवरों के बीच बीजेपी ने जासूसी के मामले को फेक न्यूज करार दिया है. सवाल है कि इस पूरे जासूसी मामले की सच्चाई क्या है? क्या राजनीतिक दलों का मकसद पेगासस जासूसी मामले के जरिये हंगामा खड़ा करना है? देखें दंगल.

क्या 2024 में विपक्ष का चेहरा होंगी ममता बनर्जी? देखें दंगल

21 जुलाई 2021

मिशन बंगाल के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी मिशन दिल्ली में जुट गई हैं. इस बात का टीएमसी के शहीद दिवस के कार्यक्रम ममता बनर्जी ने संकेत भी दे दिया है. इस दौरान ममता बनर्जी के कार्यक्रम में विपक्षी एकजुटता की नुमाइश दिखी. इस दौरान उन्होंने केंद्र सरकार पर भी जमकर हमला बोला. उन्होंने कोविड से होने वाली मौतों से लेकर जासूसी के मामलों पर भी मोदी सरकार को घेरा है. वहीं बंगाल के अलावा देश के 5 राज्यों यूपी, गुजरात, दिल्ली, तमिलनाडु और त्रिपुरा के 32 जिलों में ममता के शहीद दिवस के कार्यक्रम को बड़ी स्क्रीन पर सुना गया. ममता के भाषण का स्थानीय भाषाओं में अनुवाद भी हुआ. देखें वीडियो.

फोन हैकिंग मामले पर बवाल, लगातार दूसरे दिन हंगामे की भेंट चढ़ी संसद की कार्यवाही

20 जुलाई 2021

इजरायली कंपनी NSO के साफ्टवेयर पेगासस से फोन जासूसी का मामला तूल पकड़ चुका है. आज संसद के दोनों सदन विपक्ष के हंगामे की भेंट चढ़ गए. लेकिन विपक्ष के आरोपों पर सरकार के साथ-साथ पूरी बीजेपी आक्रामक है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस सामने आए और विपक्ष के हंगामे पर बीजेपी की लाइन को और हवा दे दी. दोनों नेताओं ने कहा कि ये मामला देश के खिलाफ साजिश है. उधर विपक्ष सरकार की बिल्कुल भी दलील मानने को तैयार नहीं और लगातार जेपीसी जांच की मांग उठा रहा है. देखें दंगल.

क्या हंगामे की भेंट चढ़ जाएगा संसद का मानसून सत्र? देखें दंगल

19 जुलाई 2021

संसद का मॉनसून सत्र आज से शुरू हो गया है लेकिन पहले ही दिन सरकार और विपक्ष के बीच जमकर हंगामा हुआ है. दोनों सदनों में जब नए मंत्रियों के परिचय के समय विपक्ष का हंगामा हुआ तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे दलित, ओबीसी, महिला और किसान विरोधी करार दे दिया. उनके मुताबिक ऐसे वर्गों से आए लोगों का मंत्री बनना विपक्ष को रास नहीं आ रहा. सरकार ये भी कह रही है कि विपक्ष ने संसदीय परंपरा और मर्यादा तोड़ी है.तो उधर विपक्ष कोविड, महंगाई, किसान और फोन से जासूसी के तमाम मुद्दों पर दो-दो हाथ करने के मूड में है.इस बीच सरकार ने कल एक सर्वदलीय बैठक बुलाई है, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मौजूद रहेंगे। इसमें सरकार कोविड मैनेजमेंट से जुड़े कामकाज का प्रजेंटेशन देगी. देखें वीडियो.

कल से सांसद का मानसून सत्र, कई मुद्दों पर भारी हंगामे के आसार

18 जुलाई 2021

दिल्ली में मानसून ने भले ही दगा दे दिया लेकिन इस बार मानसून सत्र में जमकर सियासी बौछार होने के आसार हैं. कल से शुरु होने वाले मानसून सत्र से पहले ऑल पार्टी मीटिंग हुई. पीएम मौजूद रहे. 33 पार्टियों के 40 से ज्यादा प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया. सत्र को ठीक से चलाने पर चर्चा हुई. पीएम ने इस बैठक में सार्थक बहस पर जोर दिया. विपक्ष की अपनी प्लानिंग है और सरकार की अपनी बीजेपी ने अपने सहयोगियों के साथ भी रणनीति पर चर्चा की. पीएम के साथ ऑल पार्टी मीटिंग के बाद एनडीए के नेता एक मंच पर बैठे. मकसद साफ है कि विपक्ष की धार को कुंद करना. देखें वीडियो.

क्या है कांग्रेस का महिला सुरक्षा पर योगी सरकार को बैकफुट पर लाने का प्लान?

17 जुलाई 2021

यूपी में एक बार फिर महिला सम्मान का मुद्दा उठ गया है. पीड़िता समाजवादी पार्टी की नेता हैं और जख्म पर मरहम लगाने प्रियंका गांधी पहुंच गयी. प्रियंका ने लखीमपुरखीरी दौरे पर ब्लॉक प्रमुख चुनाव में ज्यादती की शिकार हुई महिला से मुलाकात की. साथ ही महिला सुरक्षा पर सवाल उठाकर योगी सरकार की घेराबंदी की. 4 महीने बाद प्रियंका को यूपी का ख्याल आने पर बीजेपी ने पलटवार किया है लेकिन इस बीच अखिलेश यादव के बयान ने मामले में नया ट्विस्ट दिया है. ऐसे में 2022 से पहले हर कोई एजेंडा सेट करने में लगा है. देखें ये वीडियो.

मिशन यूपी: चुनावी मोड में बीजेपी, कहां है विपक्ष? देखें दंगल

16 जुलाई 2021

उत्तर प्रदेश में चुनाव अभी 6 महीने बाद है, लेकिन BJP अभी से कमर कसती दिखायी पड़ रही है. आज बीजेपी प्रदेश कार्यसमिति की बैठक हुई है. इसमें यूपी सरकार के काम गिनाने से लेकर विपक्ष पर जोरदार हमला हुआ. कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने योगी की तारीफ की थी और आज कार्यसमिति की बैठक में जेपी नड्डा ने भी योगी सरकार की पीठ थपथपाई. सवाल ये कि जब बीजेपी इस तरह से आक्रामक चुनावी मोड में है, विपक्ष कहां है? हालांकि आज कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी लखनऊ पहुंची हैं, कल समाजवादी पार्टी ने पूरे प्रदेश में प्रदर्शन किया था. लेकिन क्या विपक्ष के तेवर, बीजेपी को चुनौती देने के पर्याप्त हैं? इसीलिए आज दंगल का मुद्दा है कि क्या बीजेपी का यूपी प्लान तैयार, फिर पार्टी 300 के पार?

क्या 2022 में योगी-मोदी की जोड़ी दिलाएगी बीजेपी को जीत? देखें दंगल

15 जुलाई 2021

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज नई काशी का नक्शा दिखाया है और BJP के 2022 यूपी चुनाव अभियान की एक तरह से शुरुआत कर दी है. इसी के साथ प्रधानमंत्री मोदी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कामों पर मुहर लगाकर बता दिया है कि आने वाले यूपी चुनावों में बीजेपी का मिशन यूपी क्या है? वाराणसी को आज 1500 करोड़ से अधिक की विकास परियोजनाओं की सौगात सौंपने आए पीएम मोदी ने एक नहीं कम से कम 6 मौकों पर योगी को शाबासी दी. मोदी-योगी की जोड़ी यानी मोदी के शब्दों में डबल इंजन वाली सरकार का विकास मॉडल बीजेपी का मंत्र है, ये आज साफ हुआ है, लेकिन दंगल का सवाल है कि विपक्ष की रणनीति क्या है?

बढ़ती जनसंख्या की है चिंता या राजनीतिक दल कर रहे हैं तृष्टिकरण की राजनीति

14 जुलाई 2021

उत्तर प्रदेश के जनसंख्या नियंत्रण नीति के ड्राफ्ट से एक बार फिर ये मुद्दा सुर्खियों में आ गया है. उत्तर प्रदेश के बाद बीजेपी शासित मध्य प्रदेश, गुजरात, असम और यहां तक कि कांग्रेस शासित राजस्थान जैसे राज्यों में जनसंख्या नियंत्रण के लिए नीतियों की बात होने लगी है. लेकिन जनसंख्या नियंत्रण के सवाल पर हमेशा हिंदू-मुसलमान की राजनीति हुई है. और एक बार फिर इसे इसी चश्मे से देखने की कोशिश हुई है. उत्तर प्रदेश में आने वाले 6-7 महीनों में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं, कहा जा रहा है कि इसलिए भी जनसंख्या नियंत्रण पर बंटवारे की राजनीति शुरू हुई है. देखें वीडियो.

टोक्यो ओलंपिक जाने वाले खिलाड़ियों से पीएम मोदी ने किया संवाद, चीयर फॉर इंडिया अभियान लॉन्च

13 जुलाई 2021

टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) की उल्टी गिनती शुरू हो गई है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टोक्यो ओलंपिक जाने वाले दल के कुछ सदस्यों से आज संवाद किया. जिन खिलाड़ियों से प्रधानमंत्री ने बात की है उनके नाम- तीरंदाज दीपिका कुमारी, तीरंदाज प्रवीन जाधव, एथलीट नीरज चोपड़ा, एथलीट दुती चंद, कुश्ती खिलाड़ी आशीष कुमार, ब़ॉक्सर मेरी कॉम, बैडमिंटन खिलाड़ी वी पी सिंधू, शूटर एलावेनिल वलारिवन, शूटर सौरभ चौधरी, टेबिल टेनिस खिलाड़ी शरथ कमल, टेबिल टेनिस खिलाड़ी मनिका बत्रा, कुश्ती खिलाड़ी विनेश फोगाट, तैराक साजन प्रकाश, हॉकी खिलाड़ी मनप्रीत सिंह और टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा हैं. ये ओलंपिक में भारत का अबतक का सबसे बड़ा दल है और ज्यादा से ज्यादा पदक जीतने के लिए चीयर फॉर इंडिया अभियान लॉन्च हुआ है. देखिए दंगल का ये एपिसोड.

क्या किसान संगठनो को अपनाना चाहिए चुनावी राजनीति का रास्ता? देखें दंगल

12 जुलाई 2021

सितंबर को यूपी के मुजफ्फरनगर में संयुक्त किसान मोर्चा की महापंचायत है. इस महापंचायत में चुनाव लड़ने की रणनीति पर मुहर लग सकती है. आजतक से किसान नेता राकेश टिकैत ने साफ कहा है कि चुनाव लड़ने का विकल्प खुला हुआ है, लेकिन फैसला 5 सितंबर की महापंचायत करेगी. इससे पहले किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी साफ साफ मिशन पंजाब की बात कर चुके हैं. राकेश टिकैत ने आने वाले पांच राज्यों के चुनावों पर भी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कोई किसान बीजेपी को एक भी वोट नहीं देगा और 2024 में बीजेपी को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा. देखें वीडियो.

अलकायदा के गिरफ्तार आतंकियों का आखिर क्या था टेरर प्लान? देखें दंगल

11 जुलाई 2021

ATS और यूपी पुलिस की टीम ने अलकायदा से जुड़े मिनहाज और मसीरुद्दीन नाम के दो आतंकियों को उनके घरों से गिरफ्तार किया है. पहले जानिए कि रियाज और सिराज के घरों से क्या क्या मिला है. इनके घरों से 2 प्रेशर कुकर बम मिला है जो काफी हैवी विस्फोटक माना जाता है. एक टाइम बम और जिंदा बम भी बरामद हुआ है. इसके अलावा कुछ हथियार भी ATS को मिले हैं. इसके अलावा छापामारी करने वाली टीम को कुछ अहम दस्तावेज भी मिले हैं. साथ ही ATS टीम को मौके से कुछ जले हुए सूराग भी हासिल हुए हैं जिनकी पड़ताल की जा रही है. देखें वीडियो.

जनसंख्या कानून पर UP में फिर सियासत तेज, विधेयक का ड्राफ्ट तैयार, देखें दंगल

10 जुलाई 2021

पूरे देश की निगाहें अब 2022 की ओर टिकी है क्योंकि 2022 में ही देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश के सत्ता सिंहासन का फैसला होगा. जब यूपी में विधानसभा के चुनाव होंगेय मैदान मारने के लिए सियासी दलों की तैयारी अभी से शुरु हो चुकी है और इसी बीच योगी सरकार ने नई जनसंख्या नीति लाने की तैयारी करके नया मुद्दा छेड़ दिया है. लेकिन उससे पहले विधि आयोग के ड्राफ्ट से सूबे में सियासी हलचल फिर तेज हो गई है. सवाल है कि क्या यूपी में जनसंख्या नियंत्रण पर कानून बनाने का फैसला सीएम योगी आदित्यनाथ का चुनावी स्टंट. देखें वीडियो.

ब्लॉक प्रमुख चुनाव के नामांकन के दौरान हुई हिंसा पर घिरी योगी सरकार, देखें दंगल

09 जुलाई 2021

ब्लॉक प्रमुखों के चुनाव नामांकन के दौरान यूपी के लखीमपुर खीरी में समाजवादी पार्टी की महिला प्रत्याशी ऋतु सिंह से बदसलूकी को लेकर यूपी की राजनीति गरमा गई है. वैसे तो यूपी सरकार ने सीओ और थाना प्रभारी समेत जिम्मेदार सभी पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया है, लेकिन समाजवादी पार्टी ने योगी सरकार में कानून व्यवस्था से लेकर चुनाव की पारदर्शिता पर सवाल खड़े कर दिए हैं. कल पूरे यूपी में ब्लॉक प्रमुखों का नामांकन हुआ है, और कई जिलों से बड़े पैमाने पर हिंसा की घटनाएं सामने आईं है. इसीलिए समाजवादी पार्टी सरकार पर आक्रामक है. इससे पहले पंचायत प्रमुखों के चुनाव के दौरान भी हिंसा हुई थी, इसलिए समाजवादी पार्टी के आरोपों की धार तेज है. उधर सरकार की दलील है कि हिंसा की वजह विपक्षी दलों के कार्यकर्ता हैं, जिन्होंने हिंसा के लिए उकसाया है. यूपी के लोकल चुनावों में हुई हिंसा के बाद यूपी की राजनीतिक संस्कृति पर सीधे सवाल पूछे जा रहे हैं. इसीलिए आज दंगल में हमारी बहस का मुद्दा है कि क्या जिसकी लाठी, उसकी राजनीति?

दंगल: क्या कैबिनेट विस्तार से निकलेगा UP चुनाव में जीत का रास्ता

08 जुलाई 2021

उत्तर प्रदेश चुनाव के अब 6 से 8 महीने रह गए, इसलिए जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केंद्र में अपना नया मंत्रिपरिषद बनाया है, तो सबकी निगाहें लगी हैं कि उत्तर प्रदेश को इसमें क्या मिला? जैसा कि उम्मीद लगाई जा रही थी, मोदी की नई टीम में यूपी के लिए सियासी संदेश और संकेत दोनों हैं. कल शपथ लेने वालों में 7 चेहरे उत्तर प्रदेश के हैं और सभी का सोशल बैकग्राउंड ऐसा है जो उत्तर प्रदेश की राजनीति के लिए अहम है. यही नहीं अब जो मोदी की पूरी नई टीम है, उसमें भी ओबीसी, SC और ST चेहरों की भरमार है. ऐसे में माना जा रहा है कि मोदी सरकार ने ना सिर्फ यूपी बल्कि आने वाले हर एक चुनाव के लिए अपना सोशल इंजीनियरिंग कार्ड खेल दिया है. इसीलिए सवाह है कि, क्या मंत्रिपरिषद का गठन, आने वाले चुनावों खासकर यूपी में बीजेपी को फायदा पहुंचाएगा? इस पर देखें दंगल में बहस.

न बड़े नामों की मोदी कैबिनेट से हुई छुट्टी, जानिए इसके पीछे क्या रही वजह

07 जुलाई 2021

मोदी कैबिनेट का 6 बजे शपथ ग्रहण समारोह होने जा रहा है. तकरीबन 43 नामों को इस दौरान शपथ दिलाया जाएगा. इस बीच कई बड़े नामों को इस्तीफा देना पड़ा है. लेकिन इन सबके बीच जो सबसे चौंकाने वाला नाम है वह रविशंकर प्रसाद और प्रकाश जावेडकर का माना जा रहा है. दोनों ही नेता बीजेपी के कद्दावर नेता और मंत्री माने जाते हैं. अक्सर जब भी बीजेपी किसी मुद्दे पर घिरती है तो इन्हीं दो नाम को मोर्चा लेने की वजह से आगे किया जाता है. ऐसे में इनका इस्तीफा चौंकाने वाला है. देखें वीडियो.

क्या मोदी कैबिनेट में विस्तार सिर्फ चुनावी रणनीति का है हिस्सा? देखें दंगल

06 जुलाई 2021

मोदी सरकार में बड़े बदलाव का काउंटडाउन शुरू हो गया है. 8 जुलाई को सुबह साढ़े 10 बजे ये विस्तार हो सकता है. विस्तार बड़े पैमाने पर है और सूत्रों के मुताबिक 20 से ज्यादा नए चेहरे मंत्रिपरिषद में शामिल हो सकते हैं. सूत्रों के मुताबिक मंत्रिमंडल में यूपी को तवज्जो मिल सकता है क्योंकि अगले साल वहां चुनाव है. इसी तरह महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल और बिहार का प्रतिनिधित्व बढ़ सकता है. इस बीच कई सारे संभावित नामों का दिल्ली पहुंचना शुरू हो गया है. जिसमें ज्योतिरादित्य सिंधिया, नरायण राणे और सर्वानंद सोनेवाल जैसे बड़े नेता दिल्ली पहुंच भी गए हैं. देखें वीडियो.