scorecardresearch
 

दंगल

दंगल: नागरिकता कानूनपर फिर राजनीति क्यों बेकाबू?

21 अक्टूबर 2020

नागरिकता संशोधन कानून(सीएए) 10 जनवरी से ही लागू है, हालांकि कोरोना की वजह से इसे लेकर हो रहा विरोध ठंडे बस्ते में चला गया था. लेकिन एक बार फिर सीएए पर मामला गर्मा गया है और इसकी वजह बना है भारती जनता पार्टी के अध्यक्ष जे पी नड्डा का एक बयान. सोमवार को सिलीगुड़ी में उत्तरी बंगाल के सोशल ग्रुप के साथ बातचीत में उन्होंने कहा कि कोरोना के कारण CAA में देरी हुई है. अब इस पर फिर से काम शुरू हो गया है, ये जल्द लागू होगा. नागरिकता कानून को भेदभाव वाला कानून बताकर देश भर में इसका विरोध हुआ है, लेकिन बंगाल में इसे लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आर-पार की लड़ाई लड़ रही है. ऐसे में अगले साल वहां के चुनाव के पहले नड्डा के बयान पर सबसे तीखी प्रतिक्रिया टीएमसी की ओर से आई है. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत समेत कांग्रेस ने भी इसका विरोध किया है. इसीलिए आज दंगल में हमारा मुद्दा है कि क्या सीएए पर राजनीति का राउंड 2 शुरू हो रहा है? कोरोना जाएगा, सीएए आएगा? देखिए दंगल, रोहित सरदाना के साथ.

आज क्या बोलेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी? देखें दंगल

20 अक्टूबर 2020

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राष्ट्र के नाम संबोधन का काउंटडाउन शुरू हो गया. शाम 6 बजे प्रधानमंत्री मोदी देश को संबोधित करेंगे. कोरोना काल में प्रधानमंत्री बार-बार देश की जनता के सामने आ कर देश से संवाद करते रहे हैं. आज दोपहर उन्होंने खुद ये ऐलान किया कि वो एक बार फिर देश को संबोधित करने वाले हैं. जाहिर तौर पर पूरे देश की नजर इस पर है कि आज प्रधानमंत्री क्या बोलेंगे? क्या वो कोरोना वैक्सीन लगाने के प्लान पर कोई ऐलान करने वाले हैं? कोरोना के नए मामलों में लगातार गिरावट देखने को मिल रही है, लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन जरूरी है. अभी बिहार के चुनावों में सोशल डिस्टेंसिंग के उल्लंघन की तस्वीरें आई है. हो सकता है कि प्रधानमंत्री इसे लेकर जनता को सावधान करें. वैसे प्रधानमंत्री क्या बोलेंगे इसका खुलासा तो 1 घंटे बाद ही होगा. क्या कोई नया मसला वो देश के सामने रखने वाले हैं, ये सवाल भी है? अर्थव्यवस्था में मंदी से लेकर चीन से तनाव का मसला भी सबके सामने हैं. इसीलिए दंगल में इस पर बात करें कि प्रधानमंत्री क्या बोलेंगे, लेकिन उसके पहले ये रिपोर्ट देख लीजिए. देखिए खास शो, दंगल, रोहित सरदाना के साथ.

लोक बहाना तंत्र निशाना! देखें दंगल

19 अक्टूबर 2020

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मोदी सरकार पर सवाल उठाते हुए पूछा है, ये कैसा राजधर्म है? कोरोना काल के प्रबंधन और किसानों को लेकर बनाए गए कानूनों से लेकर बेटियों पर हुए अन्याय के मसलों पर सोनिया गांधी, मोदी सरकार को घेर रही हैं लेकिन मध्य प्रदेश की बीजेपी उम्मीदवार इमरती देवी पर पूर्व सीएम कमलनाथ की विवादित टिप्पणी से कांग्रेस बैकफुट पर आ सकती है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोनिया को चिट्ठी लिख दी है और खुद आज धरने पर बैठे है. इसीलिए आज दंगल में हमारा मुद्दा है, लोक बहाना तंत्र निशाना? देखिए दंगल, रोहित सरदाना के साथ.

दंगल: बिहार में चुनाव, कोरोना महामारी की फिक्र नहीं

18 अक्टूबर 2020

कोरोना वायरस के संकट के बीच देश में जिंदगी को ट्रैक पर लाने की कोशिश की जा रही है. अनलॉक में छूट का दौर जारी है. बाजार से लेकर मंदिर तक तमाम गाइडलाइन के साथ खुलने लगे हैं. इस बीच कोरोना अभी खत्म नहीं हुआ है. लापरवाही जान को खतरे में डाल सकती है. बिहार चुनाव हो या त्योहारों का मौसम. धीरे-धीरे लोगों में कोरोना का खौफ कम होता दिख रहा है. जो एक बड़े खतरे की ओर इशारा कर रहा है. देखें दंगल.

गोरीमार फरार, अब जाति पर तकरार! देखें दंगल

17 अक्टूबर 2020

बलिया में जो बवाल हुआ, उसने पूरे सूबे को हिला के रख दिया. पुलिसवालों और अधिकारियों की मौजूदगी में खूनी खेल खेला गया, मगर बवाल किसने किया, बवाल क्यों हुआ, गोलीकांड का सच क्या है, और गोलीकांड कैसे हुआ, इन सवालों के जवाब तलाशने की बजाय, गोलीकांड में जाति का एंगल आ गया है. बलिया के बीजेपी विधायक ने खुलकर ऐलान कर दिया है कि आरोपी क्षत्रिय है इसलिए वो क्षत्रिय का साथ देंगे. तो क्या ये समझा जाए कि अपराध में भी अब जाति का एंगल तलाशा जाएगा या फिर जाति देखकर तय किया जाएगा कि अपराधी का समर्थन करना है या विरोध. देखिए दंगल, रोहित सरदाना के साथ

ये कंटेट वेबसाइट पर उपलब्ध नहीं है

16 अक्टूबर 2020

ये कंटेट वेबसाइट पर उपलब्ध नहीं है

ये कंटेट वेबसाइट पर उपलब्ध नहीं है

16 अक्टूबर 2020

ये कंटेट वेबसाइट पर उपलब्ध नहीं है

370 पर 'गुपकार ऐजेंडा', कश्मीर में फिर शुरू पुरानी राजनीति? देखें दंगल

15 अक्टूबर 2020

अनुच्छेद 370 पर कश्मीर की पुरानी राजनीति की पिक्चर आज फिर दिख रही है. महबूबा मुफ्ती और फारूक अब्दुल्ला समेत कश्मीर के राजनीतिक दल 370 की बहाली को लेकर एक बैठक कर रहे हैं. बैठक श्रीनगर के पावर कॉरिडोर यानी गुपकार रोड पर फारूक अब्दुल्ला के घर पर हो रही है. गौरतलब है कि फारूक अब्दुल्ला के घर पर 4 अगस्त 2019 को भी एक बैठक हुई थी जिसमें 370 बचाए रखने के लिए साझा लड़ाई का घोषणापत्र जारी हुआ था. इसलिए आज दंगल में पूछेंगे कि क्या 370 पर दोबारा माहौल बनाया जा सकेगा?

मदरसे पर बैन सियासत बेचैन? देखें दंगल

14 अक्टूबर 2020

असम सरकार ने सरकारी मदरसों को बंद करने के फैसले से तूफान खड़ा हो गया. AIDUF समेत विपक्षी पार्टियों ने इसे राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का एजेंडा लागू करना कहा है, तो उधर असम सरकार की दलील है कि सरकारी खर्च पर अगर कुरान पढ़ाएं तो बाइबिल और गीता क्यों नहीं? असम सरकार सरकारी मदरसों को बंद करने को नोटिफिकेशन नवंबर में निकालेगी. इसी के साथ संस्कृत शिक्षण संस्थानों पर भी सरकार अलग से नोटिफिकेशन निकालेगी. हालांकि इन्हें बंद करने को लेकर कोई साफ तौर पर बात नहीं कही गई. उधर कश्मीर के शोपियां में एक मदरसे के 13 छात्रों के आतंक कनेक्शन पर भी हंगामा उठा है. मदरसे के 3 टीचर्स को भी गिरफ्तार किया गया है. इसीलिए आज दंगल में हमारा मुद्दा है मदरसे पर बैन, सियासत बेचैन? देखिए दंगल, रोहित सरदाना के साथ.

शिवसेना की मजबूरी, हिंदुत्व से दूरी जरूरी? देखें दंगल

13 अक्टूबर 2020

अनलॉक का पांचवां चरण चल रहा है और ऐसे में महाराष्ट्र में मंदिरों को न खोलने को लेकर आज भारतीय जनता पार्टी ने उद्धव सरकार के हिंदुत्व पर सवाल उठा दिया. मंदिरों को खोलने के नाम पर बीजेपी ने राज्यभर में प्रदर्शन किया और राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी की मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखी चिट्ठी से उसे मौका भी मिला. भगत सिंह कोश्यारी ने मंदिरों को न खोलने को लेकर उद्धव के हिंदुत्व पर सवाल किए. राज्यपाल ने कहा कि जब बार और रेस्टोरेंट खुल सकते हैं तो मंदिर क्यों नहीं? बदले में उद्धव ने भी राज्यपाल को चिट्ठी लिखकर कहा कि मुझे आपसे हिंदुत्व का सर्टिफिकेट लेने की जरूरत नहीं है. इसीलिए आज दंगल में हमारा मुद्दा है कि खोली मधुशाला तो क्या मंदिर पर रहे ताला? देखिए दंगल, रोहित सरदाना के साथ.

370 के प्यारे, अब चीन के सहारे! देखें दंगल

12 अक्टूबर 2020

कश्मीर में अलगाववाद को भड़काने के लिए अब तक पाकिस्तान की बोली ही बोली जाती थी लेकिन जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री रह चुके फारूक अब्दुल्ला ने क्या अब चीन की सरपरस्ती भी हासिल कर ली है? ये सवाल उठा है कि फारूक अब्दुल्ला के एक बयान से. आजतक से इंटरव्यू में फारूक अब्दुल्ला ने उम्मीद जताई कि चीन के जोर से आर्टिकल 370 को वापस बहाल करेंगे. अब फारूक अब्दुल्ला के इस बयान को बीजेपी ने मुद्दा बना लिया है और कहा है कि फारूक का बयान देश विरोधी है, वो ऐसे बयान देने के रिपीट अफेंडर हैं. इसी के साथ बीजेपी ने कांग्रेस के नेताओं खासकर राहुल गांधी पर निशाना साधा है और कहा है कि उनके सुर भी चीन और पाकिस्तान के साथ मेल खाते हैं. इसीलिए आज दंगल में हमारा मुद्दा है कि 370 के प्यारे अब चीन के सहारे? देखिए दंगल, रोहित सरदाना के साथ.