scorecardresearch
 

क्या Farmer Organizations को अपनाना चाहिए चुनावी राजनीति का रास्ता? देखें दंगल

क्या Farmer Organizations को अपनाना चाहिए चुनावी राजनीति का रास्ता? देखें दंगल

सितंबर को यूपी के मुजफ्फरनगर में संयुक्त किसान मोर्चा की महापंचायत है. इस महापंचायत में चुनाव लड़ने की रणनीति पर मुहर लग सकती है. आजतक से किसान नेता राकेश टिकैत ने साफ कहा है कि चुनाव लड़ने का विकल्प खुला हुआ है, लेकिन फैसला 5 सितंबर की महापंचायत करेगी. इससे पहले किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी साफ साफ मिशन पंजाब की बात कर चुके हैं. राकेश टिकैत ने आने वाले पांच राज्यों के चुनावों पर भी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कोई किसान बीजेपी को एक भी वोट नहीं देगा और 2024 में बीजेपी को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा. देखें वीडियो.

Mahapanchayat of the Sanyukt Kisan Morcha is going to be held in September. The strategy of contesting elections can be stamped in this Mahapanchayat. Talking to Aajtak, farmer leader Rakesh Tikait has clearly said that the option of contesting the election is open, but the decision will be taken by the Mahapanchayat on 5 September. Watch video.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें