scorecardresearch
 

MP: गोमांस के शक में पीट-पीट कर 2 आदिवासियों की हत्या, परिजनों ने हिंदू संगठन को बताया जिम्मेदार

मध्य प्रदेश के सिवनी में गोमांस ले जाने के आरोप में भीड़ ने दो आदिवासियों की पीट-पीट कर हत्या कर दी. परिजनों ने हिंदू संगठन बजरंग दल के लोगों पर हत्या का आरोप लगाया है. पुलिस ने इस मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. हालांकि बजरंग दल ने इन आरोपों से इनकार किया है.

X
गोमांस के शक में दो आदिवासियों की पीट-पीट कर हत्या गोमांस के शक में दो आदिवासियों की पीट-पीट कर हत्या
स्टोरी हाइलाइट्स
  • आदिवासियों की हत्या के मामले में एक आरोपी गिरफ्तार
  • गोमांस होने के शक में दो आदिवासियों की हुई थी पिटाई, बाद में हो गई मौत

मध्य प्रदेश के सिवनी में गोमांस ले जाने के कथित आरोप में दो आदिवासियों की पीट पीटकर हत्या कर दी गई. घटना बदलपार चौकी के सागर और सिमरिया गांव की है. देर रात 15 से 20 युवकों ने दो आदिवासियों को कथित तौर पर गोमांस के साथ पकड़ लिया और पुलिस को सूचना देने की जगह खुद ही उनकी पिटाई शुरू कर दी.

दोनों आदिवासियों को इस कदर पीटा गया कि उनकी मौत हो गई. इस मामले में आरोपियों के बजरंग दल से जुड़े होने की खबर भी सामने आ रही है. इस घटना को लेकर जिले के एसपी ने भी माना कि आरोपियों के बजरंग दल से जुड़े होने की बात सामने आई है. हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि आरोपियों की गिरफ़्तारी के बाद ही इसकी पुष्टि की जा सकेगी.

एक आरोपी की हुई गिरफ्तारी: एसपी

एसपी कुमार प्रतीक ने कहा, 'रात के करीब दो-ढाई बजे पुलिस के पास सूचना आई थी कि लगभग 15 से 20 लड़कों ने दो आदिवासियों को गोमांस के साथ पकड़ा था और उनके पास 10 किलो मांस था. इन्होंने पुलिस को सूचना ना देते हुए उनकी पिटाई की और सुबह दोनों की मौत हो गई.'

पुलिस ने तत्काल इस मामले में केस दर्ज कर एक आरोपी को गिरफ़्तार कर लिया है. तीन-चार संदिग्धों को भी हिरासत में लिया गया है. आदिवासियों की पिटाई करने वाले अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है. 

परिजनों ने बजरंग दल पर लगाया आरोप

इस मामले को लेकर बजरंग दल के प्रमुख देवेंद्र सेन ने कहा कि उनके संगठन के लोगों ने दोनों आदिवासियों को गोमांस के साथ पकड़ा था, लेकिन मारपीट की वारदात से उन्होंने इनकार कर दिया.

इस घटना के बाद से मृतक आदिवासियों के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है, 50 साल के धनसा इनवाती की पत्नी के मुताबिक़ रात में जब वो और उनके पति सो रहे थे तभी बजरंग दल के लोगों ने उनके पति को उठाया और पिटाई शुरू कर दी. उन्हें बुरी तरह मारा और उनके कपड़े फाड़ दिए. धनसा मज़दूरी करके अपने परिवार का पेट पालते थे.

दूसरे मृतक आदिवासी की पत्नी फूलवती ने कहा, हम दोनों सो रहे थे. उन लोगों ने आकर पति को उठाया और मारपीट शुरू कर दी. उन्हें घर से दूर ले गए और मुझे धमकी दी और कपड़े फाड़ दिए. उसके बाद मुझे कोई होश नहीं था.

बजरंग दल को बैन किया जाए: कांग्रेस विधायक

इस वारदात को लेकर कांग्रेस के स्थानीय विधायक अर्जुन काकोड़िया ने नाराजगी जाहिर की और कहा, ये इस देश में क्या हो रहा है. एक तरफ़ मुख्यमंत्री कहते हैं गुंडों को पनाह नहीं देंगे, 10 फ़ीट गड्ढे में गाड़ेंगे और बजरंग दल के लोग आदिवासियों के साथ ऐसा कर रहे हैं. बजरंग दल को बैन किया जाए और उसके मुखिया की गिरफ्तारी होनी चाहिए. उन्होंने पीड़ित परिवारों के लिए मुआवजे की भी मांग की.

ये भी बढ़ें:

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें