scorecardresearch
 

Madhya Pradesh में खुलेगी NIA की ब्रांच, आतंकी वारदातों में इजाफे के बाद फैसला

पिछले कुछ सालों में मध्य प्रदेश आतंकी गतिविधियों की वजह से सुर्खियों में रहा है. साल 2016 में भोपाल में सिमी जेल ब्रेक हुआ था. इसके बाद हाल ही में भोपल के ऐशबाग इलाके से बांग्लादेशी मूल के आतंकी पकड़े गए थे. जिसके बाद अब यहां एनआईए की ब्रांच खोलने की तैयारी की जा रही है.

X
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • राज्य के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दी जानकारी
  • सूफा और JMB जैसे आतंकी संगठनों की गतिविधियां जांचेगी एजेंसी

मध्य प्रदेश में आतंकी वारदातों में इजाफे के चलते अब राष्ट्रीय जांच एजेसियों की नजरें प्रदेश पर टिक गईं हैं. इसके चलते ही अब मध्य प्रदेश में नेशनल इंवेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) की ब्रांच खोली जाएगी. प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बुधवार को यह जानकारी दी है. गृहमंत्री के मुताबिक NIA की ब्रांच भोपाल में खोली जाएगी.

मिश्रा ने बताया कि मध्य प्रदेश में खोली जा रही NIA  की ब्रांच सूफा और JMB जैसे आतंकी संगठनों की गतिविधियों की जांच करेगी. बता दें कि पिछले कुछ सालों में मध्य प्रदेश आतंकी गतिविधियों की वजह से सुर्खियों में रहा है. साल 2016 में भोपाल में सिमी जेल ब्रेक हुआ था. इसके बाद हाल ही में भोपल के ऐशबाग इलाके से बांग्लादेशी मूल के आतंकी पकड़े गए थे. साथ ही राजस्थान ATS ने रतलाम से आतंकियों को गिरफ्तार किया था.

ऐशबाग में पकड़े गए थे आतंकी

बता दें कि 13 मार्च 2022 को प्रदेश की राजधानी भोपाल के ऐशबाग थाने से करीब 200 मीटर दूर फातिमा मस्जिद के पास बनी अहमद अली कॉलोनी के एक मकान से रात के समय आतंकियों को गिरफ्तार किया गया था. यहां से 2 संदिग्धों को हिरासत में लिया गया था, जबकि 4 अन्य को दूसरे इलाके से उठाया गया. संदिग्धों को उठाने के बाद कमरे को सील कर दिए गए. कार्रवाई ATS ने की थी और इस ऑपरेशन की जानकारी स्थानीय पुलिस को भी नहीं दी गई थी.

तैयार कर रहे थे स्लीपर सेल

ATS के मुताबिक भोपाल से जिन 4 लोगों को गिरफ्तार किया गया वे सभी बांग्लादेशी मूल के थे. सभी यहां जमात-ए-मुजाहिदीन बांग्लादेश संगठन के लिए स्लीपर सेल तैयार कर रहे थे. भारत सरकार ने इस संगठन को प्रतिबंधित किया हुआ है. 'आजतक' से फोन पर बात करते हुए ATS सूत्रों ने बताया था कि पकड़े गए संदिग्ध जेहादी गतिविधियों में संलिप्त थे और स्लीपर सेल तैयार कर रहे थे जिनके माध्यम से भविष्य में गंभीर देशविरोधी घटनाओं को अंजाम दिया जा सके.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें