scorecardresearch
 

भारत के संविधान पर हरिओम पंवार ने सुनाई ये कविता

साहित्य आज तक के मंच पर वीर रस के मशहूर कवि हरिओम पंवार ने 'कवि कुछ ऐसी बात सुनाओ' सेशन में अपनी कुछ खास कविताएं सुनाईं. पंवार ने संविधान पर जो कविता सुनाई वो काफी दिलचस्प है. मैं भारत का संविधान हूं, लाल किले से बोल रहा हूं..... आप भी हरिओम पंवार की कविता उनकी ही जुबान में सुनिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें