scorecardresearch
 

मैं लिखता अंग्रेजी में हूं, सोचता हिंदी या पंजाबी में हूं: रविंदर सिंह

साहित्य आज तक के महामंच पर 'लव, लस्ट एंड लाइफ इन इंग्लिश' सेशन में अंग्रेजी लखकों ने शब्दों के बारे में बात हुई. इंग्लिश लिटरेचर के लेखक रविंदर सिंह, अनुजा चौहान और श्रीमई पियू कुंडू ने शब्द और भाषा पर अपने विचार साझा किए. उन्होंने बताया कि कुछ ऐसे शब्द होते हैं जो इंग्लिश में ही लिखने, बढ़ने और बोलने में अच्छे लगते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें