scorecardresearch
 

बिहार: शासन की दास्तान या कुशासन की?

बिहार की राजनीति बिहारी और बाहरी सबको शुरू से खींचती रही है. और अबकी बार तो लड़ाई ही ‘बिहारी’ और ‘बाहरी’ के बीच है. अगर इस मुकाबले की रणनीति को समझना है तो यह किताब आपके लिए है.

ruled or misruled book cover ruled or misruled book cover

किताबः रूल्ड ऑर मिसरूल्डः द स्टोरी एंड डेस्टिनी ऑफ बिहार
लेखकः संतोष सिंह
प्रकाशकः ब्लूम्सबरी
बिहारः कभी न खत्म होने वाली दास्तां

बिहार की राजनीति बिहारी और बाहरी सबको शुरू से खींचती रही है. और अबकी बार तो लड़ाई ही ‘बिहारी’ और ‘बाहरी’ के बीच है. अगर इस मुकाबले की रणनीति को समझना है तो यह किताब आपके लिए है. अगर आपको जानना है कि बिहार से कांग्रेस कैसे खत्म हुई, तो यह किताब पढ़िए. अगर जानना है कि लालू प्रसाद असल में परिस्थितियों के प्रोडक्ट हैं, तो यह किताब पढ़िए. अगर लालू-राबड़ी और नीतीश के शासन में फर्क का साक्षात्कार करना है तो यह किताब आपके लिए है.

लेखक संतोष सिंह 'इंडियन एक्सप्रेस' के पत्रकार हैं. उनकी रिसर्च और ग्राउंड रिपोर्ट बिहार की सियासी जमीन पर शासन और कुशासन की लाइनें उकरेती हैं. राजस्थान का आदमी जब इस किताब को पढ़कर बिहार के आदमी से बात करता है तो सामने वाला पूछ बैठता है कि आप बिहार घूमे हैं क्या? संतोष सिंह ने तथ्यों को ऐसे रखा है कि बोझिल नहीं लगते. लेखक पत्रकारों, नेताओं, सामाजिक विश्लेषकों के इंटरव्यू, अखबारों छपी रिपोर्ट के जरिये लेखक पाठक से बात करता है. कहीं नहीं लगता कि लेखक आप पर कुछ थोपने की कोशिश कर रहा है. निस्संदेह यह भाषा की सरलता और सहजता ही है. किताब का कवर चतुराई से लिया गया है. यह पाठक को सीधे छह महीने पीछे ले जाता है, जब बिहार की बोर्ड परीक्षाओं में शिक्षा व्यवस्था की कलई खोलने वाली यह तस्वीर सभी अखबारों के पेज-1 पर छपी थी.

संतोष सिंह नीतीश की योजनाओं से बिहार की सामाजिक-आर्थिक उपलब्धियों की बात करते हैं. उन्हें नीतीश की उपलब्धियों से नहीं जोड़ते. हालांकि इसका पूरा श्रेय नीतीश को ही देते हैं, जो दिया भी जाना चाहिए. मसलन राज्य में 2007 तक 6 से 14 साल के 25 लाख बच्चे स्कूल नहीं जाते थे. 2014 तक यह संख्या घटकर 2 लाख से भी कम रह गई. संतोष इसमें मानव संसाधन विकास मंत्रालय के प्रिंसिपल सेक्रेटरी मदन मोहन झा के योगदान की बात भी करते हैं. ये वही मदन मोहन हैं, जिनके निधन पर नीतीश उनके घर के बाहर जमीन पर ही बैठ जाते हैं. संतोष अप्रशिक्षित शिक्षकों की फौज खड़ी करने पर कटाक्ष भी करते हैं. नीतीश ने 2015 तक करीब साढ़े तीन लाख कॉन्ट्रैक्ट टीचर्स की भर्ती की है. किताब में ऐसे तथ्य खूब हैं, जो किसी भी सजग नागरिक के लिए जानना जरूरी हैं और जो पाठक की नॉलेज बढ़ाते हैं. हालांकि कहीं-कहीं टाइपो एरर भी है, जो एक किताब जैसे काम में अखरती है.

आज बिहार में दो ही सबसे बड़े सवाल हैं. सरकार किसकी बनेगी और नीतीश ने लालू के साथ गठबंधन क्यों किया. पहले सवाल का जवाब वोटर के दिल में है. और यदि आपको दूसरे सवाल के जवाब के करीब पहुंचना है तो यह किताब आपके लिए है.

क्योंकि पूरे विश्वास के साथ तो सटीक जवाब खुद नीतीश भी नहीं दे पा रहे. यह चुनाव शुरू से ही CM नीतीश बनाम PM मोदी रहा है. नीतीश ने पब्लिसिटी का ठेका भी उन्हीं प्रशांत किशोर को दिया है, जिन्होंने लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी के प्रचार की कमान संभाली थी और ‘अबकी बार मोदी सरकार’ टैगलाइन दी थी. प्रशांत ने बिहार के लिए टैगलाइन दी है- ‘फिर एक बार, नीतीश कुमार’. यह और बात है कि नीतीश ने पिछले दो चुनाव 'डोर टू डोर' कैंपेनिंग और अपने विकास के दम पर जीते. बाकी कई बातें शंकर्षण ठाकुर की 'सिंगल मैन' से मिलती-जुलती भी हैं.

नीतीश लोकसभा चुनाव में मोदी की जीत के पांच कार्ड गिनाते हैं. विकास, जाति, ओबीसी का चायवाला चेहरा, यूथ और सांप्रदायिक ध्रुवीकरण. इन्हीं पांचों की टक्कर में नीतीश ने लालू से गठबंधन किया. विकास पुरुष नीतीश खुद हैं. जाति के संतुलन के लिए ही नीतीश ने लालू को साथ लिया. ओबीसी में 14 फीसदी यादवों को साधने के लिए लालू को मिला लिया. 16 फीसदी मुस्लिम वोटर भी कम नहीं होते. 4 फीसदी कुर्मी और आठ फीसदी कोएरी. ये सब महागठबंधन के परंपरागत वोटर हैं. हालांकि नीतीश युवा मोर्चे पर कमजोर हैं और जीतनराम मांझी के महादलित वोटरों का फायदा इस बार बीजेपी को मिलेगा. फिर 2010 में बिहार के वोटर ने खुद नीतीश तक को कन्फ्यूज कर दिया था है कि उन्हें जीत उनकी सोशल इंजीनियरिंग पर मिली है या विकास के दम पर. उस जीत ने लालू के मुस्लिम-यादव (MY) फॉर्मूले को ध्वस्त कर दिया था. वह इंद्रधनुषी जीत थी. विकास और सामाजिक ताने-बाने से मिली-जुली.

लेकिन जाति बिहार का सबसे बड़ा सच है और नीतीश इसे स्वीकार करते हैं. इसलिए जाति और धर्म के हिसाब से देखा जाए तो महागठबंधन का पलड़ा एनडीए से कुछ भारी ही है. मुकाबला 51:49 का है. लेकिन इस चुनाव में कौनसा गणित कितना काम करता है, इसका पता तो 8 नवंबर को ही चलेगा. तब तक बिहार की कभी न खत्म होने वाली उस दास्तां की चर्चा काशी के अस्सी से लेकर दिल्ली के लुटियन्स जोन तक जारी रहेगी. और उसके बाद भी क्योंकि बिहार की जनता बीते 25 साल में इतना तो समझ ही गई है कि वो किसी को भी हराए या जिताए, मगर बिहार को कभी नहीं हारने देगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें