scorecardresearch
 

खेल पत्रकारिता के भीष्म पितामह की एक भावुक, जानकारीपरक आपबीती

हिंदी खेल पत्रकारिता में पदमपति शर्मा को भीष्म पितामह भी कहा जाता है. उन्होंने अपनी जिंदगी और करियर की कहानी एक किताब में पिरोई है. शीर्षक है- 'अंतहीन यात्रा-खेल पत्रकारिता और मैं'.

अंतहीन यात्रा-खेल पत्रकारिता और मैं पुस्तक का कवर अंतहीन यात्रा-खेल पत्रकारिता और मैं पुस्तक का कवर

पदमपति शर्मा. हिंदी खेल पत्रकारिता में इन्हें भीष्म पितामह भी कहा जाता है. पदमपति शर्मा चार दशक से ज्यादा की खेल पत्रकारिता के साक्षी रहे हैं. हिंदी खेल पत्रकारिता को एक नए मुकाम तक पहुंचाने का श्रेय इन्हीं को जाता है. आज, दैनिक जागरण, अमर उजाला और हिंदुस्तान जैसे अखबारों में खेल संपादक रह चुके पदमपति शर्मा के ऐसे लाखों प्रशंसक हैं, जिन्हें 80 और 90 के दशक में पदमपति शर्मा को पढ़ने की लत लग गई थी.
 
उन्हीं पदमपति शर्मा ने अपनी जिंदगी और करियर की कहानी एक किताब में पिरोई है. शीर्षक है- 'अंतहीन यात्रा-खेल पत्रकारिता और मैं'. यह किताब ऐसी है, जिसे एक बार आप पढ़ना शुरू करें तो आंखों के आगे फिल्म चलनी शुरू हो जाती है. पढ़ने वाला फ्लैश बैक में चला जाता है. यह महज किताब नहीं, बल्कि उस शख्सियत का जीवननामा है, जिसने अपनी पूरी जिंदगी खेल पत्रकारिता की दीवानगी में खपा दी. जिसके लिए क्रिकेट, हॉकी, टेनिस जैसे तमाम खेल उसका मजहब, उसकी पूजा, उसकी इबादत बन जाते हैं.

इस किताब में पदमपति शर्मा ने कई राज खोले हैं. क्रिकेट में फिक्सिंग से परदे उठाए हैं. किताब में उन्होंने अखबारों के मालिकानों से रिश्तों पर भी विस्तार से चर्चा की है. कई वरिष्ठ पत्रकारों समेत कई लोगों की पोल भी खोली है. क्रिकेट की दुनिया का सबसे बड़ा झगड़ा हुआ था सुनील गावस्कर और कपिलदेव के बीच. पदमपति शर्मा ने उस ऐतिहासिक झगड़े से भी परदा इस किताब में उठाया है. मैं यहां बता दूं कि उस झगड़े के केंद्र में भी यही पदमपति शर्मा ही थे.

इस किताब में पदमपति शर्मा ने कई ऐसी सच्चाइयां स्वीकार की हैं, जिन्हें स्वीकारना बहुत बड़ी दिलेरी का काम है. आखिरकार वे खेल पत्रकार हैं, बाजी चाहे जिधर जाए, खेल भावना कहीं नहीं जाती. पदमपति शर्मा अद्भुत शख्सियत हैं. खेल पत्रकारिता उनमें बसती है. खेल पत्रकारिता ही वे ओढ़ते-बिछाते हैं. खेलों के चलते-फिरते इनसाइक्लोपीडिया हैं. कई बार बातचीत में वे भावुक भी हो जाते हैं. ऐसी भावुकता में उन्होंने जीवन में कई गलत फैसले भी ले लिए. जिन्हें उन्होंने इस किताब में स्वीकार भी किया है. इस किताब में एक नौजवान खेल पत्रकार से लेकर खेल पत्रकारिता के भीष्म पितामह बन जाने तक की अंतहीन यात्रा बेहद रोचक अंदाज में लिखी गई है. जो भी लोग पत्रकारिता में हैं, उन्हें ये किताब जरूर पढ़नी चाहिए और जो खेल पत्रकारिता में हैं उन्हें तो अनिवार्य रूप से पढ़नी चाहिए.
***

पुस्तकः अंतहीन यात्रा- खेल पत्रकारिता और मैं
लेखकः पदमपति शर्मा
विधाः आत्मकथा/ संस्मरण
प्रकाशकः हिंदी प्रचारक पब्लिकेशन्स, वाराणसी
मूल्यः 394
पृष्ठ संख्याः 230

# साहित्य आजतक के लिए यह समीक्षा आजतक से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार विकास मिश्र ने लिखी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें