scorecardresearch
 

World Tourism Day 2021: भारत के 10 सबसे खूबसूरत गांव, इनके आगे फीका विदेश भी

World Tourism Day 2021: प्रकृति की गोद में समाए कई ऐसे खूबसूरत गांव हैं, जिनके सामने विदेशी सरजमीं पर बने टूरिस्ट डेस्टिनेशन फीके पड़ सकते है. आइए वर्ल्ड टूरिज्म-डे के मौके पर आपको ऐसे 10 गांव के बारे में बताते हैं. टूरिज्म इंडस्ट्री को बढ़ावा देने के लिए हर साल 27 सितंबर को वर्ल्ड टूरिज्म-डे सेलिब्रेट किया जाता है.

Photo Credit: Getty Images Photo Credit: Getty Images
स्टोरी हाइलाइट्स
  • टूरिज्म इंडस्ट्री को बढ़ावा देने के मनाया जाता है दिन
  • फॉरेन डेस्टिनेशन से भी खूबसूरत भारत के 10 गांव

World Tourism Day 2021: कोरोना संकट से पहले लोगों में विदेश घूमने की बड़ी होड़ मची थी, लेकिन महामारी ने लोगों को भारत की खूबसूरत जगहों को एक्सप्लोर करने पर मजबूर कर दिया. यहां प्रकृति की गोद में समाए कई ऐसे खूबसूरत गांव हैं, जिनके सामने विदेशी सरजमीं पर बने टूरिस्ट डेस्टिनेशन भी फीके पड़ जाएं. आइए वर्ल्ड टूरिज्म-डे के मौके पर आपको 10 ऐसे खूबसूरत गांव के बारे में बताते हैं. टूरिज्म इंडस्ट्री को बढ़ावा देने के लिए हर साल 27 सितंबर को वर्ल्ड टूरिज्म-डे सेलिब्रेट किया जाता है.

लाचुंग, सिक्किम- तिब्बत बॉर्डर के साथ सटा लांचुग नाम का गांव सिक्किम की एक बेहतरीन टूरिस्ट डेस्टिनेशन है. करीब 8,858 फीट की ऊंचाई पर स्थित इस गांव में आप खुद को बर्फ से ढके पहाड़ों के बीच घिरा पाएंगे. ये जगह गंगटोक से करीब 118 किलोमीटर दूर है जो आपको एक लंबी यात्रा का भी आनंद देगी. यहां घूमने के लिए सेब, आड़ू, और खूबानी के खूबसूरत बाग भी हैं.

मलाना, हिमाचल प्रदेश- टूरिस्ट डेस्टिनेशन पर जाने का शौक रखने वाले किसी भी शख्स को एक बार हिमाचल प्रदेश के मलाना गांव तो जरूर जाना चाहिए. यहां के निवासियों को एलेक्जेंडर दि ग्रेट का वंशज माना जाता है, जो यहां से जुड़े किस्सों को और दिलचस्प बनाता है. शांत वातावरण, प्राकृतिक सौंदर्य और बड़े शहरों के शोर-शराबे से अलग ये गांव आपको जीवन के सबसे यादगार पलों की सौगात दे सकता है. खीरगंगा की अद्भुत ट्रैकिंग भी इस जगह के बेहद नजदीक है.

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by Ajay Ks (@lifeof_ajay)

कौसानी, उत्तराखंड- दिल्ली से करीब सवा 400 किलोमीटर दूर उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र में बसा कौसानी गांव बागेश्वर जिले में कोसी और गोमती नदियों के बीच बसा हुआ है. समुद्र तल से करीब 6,075 फीट की ऊंचाई पर बसा यह गांव प्रकृति का एक बेशकीमती नमूना है. घने जंगलों और पहाड़ों के बीच बसा यह गांव पर्यटकों के बीच बड़ा फेमस है.

तकदाह, पश्चिम बंगाल- पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग जिले में मौजूद तकदाह नाम का एक छोटा सा गांव देश की सबसे खूबसूरत जगहों में शुमार है. बड़े शहरों से दूर ये गांव प्रकृति का एक अद्भुत नजारा है. यहां की पहाड़ियां और घने जंगल ट्रैकिंग के लिए अच्छा विकल्प हो सकते हैं. यहां हिमालय की ऊंची चोटियों का नजारा और चाय के बागान भी टूरिस्ट के लिए आकर्षण का केंद्र हैं.

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by @nushmita (@anushmita)

खिमसर, राजस्थान- उत्तर भारत के एक छोटे से गांव खिमसर को राजस्थान की धड़कन कहा जाता है. चारों ओर से थार मरुस्थल से घिरा यह गांव भी किसी लाजवाब टूरिस्ट डेस्टिनेशन से कम नहीं है. इस जगह पर आप जीप या ऊंट पर सवार होकर डेज़र्ट सफारी का मजा ले सकते हैं. मरुस्थली इलाकों में रात के वक्त कैंपिंग का मजा ही कुछ और होता है, खिमसर में इसकी भी सुविधा है.

इडुक्की, केरल- इडुक्की केरल के पश्चिमी घाट की सबसे ऊंची जगह है. यहां की खूबसूरत झीलें, वाटरफॉल और घने जंगल इस जगह की खूबसूरती को चार चांद लगाते हैं. इस गांव में आपको पेड़-पौधों की कई ऐसी प्रजातियां भी मिलेंगी, जो शायद आपने पहले कभी नहीं देखी होंगी. इडुक्की आर्क डैम के पास आप कैंपिंग का आनंद भी ले सकते हैं. इस गांव में आने के बाद यहां के स्थानीय निवासियों के साथ ट्रेडिशनल व्यंजनों का जायका लेना बिल्कुल मत भूलिएगा.

गोकर्ण, कर्नाटक- कर्नाटक में मौजूद गोकर्ण गोवा से बेहद नजदीक एक खूबसूरत गांव है, इसलिए इसे गोवा का पड़ोसी गांव भी कहा जाता है. यह गांव एक टूरिस्ट डेस्टिनेशन के साथ-साथ तीर्थयात्रियों के बीच भी बेहद लोकप्रिय है. कर्नाटक की सैर करने वाले इस गांव की खूबसूरती का नजारा देखना कभी नहीं भूलते हैं.

कसौल, हिमाचल प्रदेश- कसौल भी हिमाचल प्रदेश का एक बेहद खूबसूत गांव है, जहां पूरे साल टूरिस्ट का जमावड़ा रहता है. लंबी ट्रैकिंग का शौक रखने वालों के लिए यह जगह बेहद शानदार है. हिप्पी संस्कृति के लिए मशहूर ये जगह बैगपैकर्स के लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं है. मार्च से मई के बीच यहां सबसे ज्यादा पर्यटक आते हैं.

माजुली, असम- असम में मौजूद माजुली दुनिया का सबसे बड़ा रिवर आईलैंड है, जो ब्रह्मपुत्र नदी के तट पर स्थित है. 400 स्क्वेयर किलोमीटर चौड़ा यह आईलैंड एक शानदार टूरिस्ट डेस्टिनेशन भी है. इस जगह के बारे में एक खास बात ये भी बताई जाती है कि यहां के कुछ मछुआरे किसी दूसरे इंसान की तुलना में अधिक समय तक अपनी सांस रोक सकते हैं. आप यहां नौका की सैर से लेकर कई खास म्यूजियम भी देखने जा सकते हैं.

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by Dimpu Baruah↗️ (@dimpubaruahnew)

मॉलीननॉन्ग, मेघालय- मेघालय का मॉलीननॉन्ग गांव प्रकृति के किसी गुप्त खजाने जैसा है. स्थानीय समुदाय और सरकार ने मिलकर इस गांव की खूबसूरती को बरकरार रखने का जिम्मा उठाया हुआ है. साल 2003 में इसे सबसे स्वच्छ गांव के अवॉर्ड से भी नवाजा गया था. अक्टूबर से अप्रैल के बीच यहां मौसम सबसे ज्यादा शानदार रहता है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें